scorecardresearch
 

कुत्तों के स्वभाव में इंसानों की तरह होते हैं बदलाव, जानिए कब हो जाते हैं हिंसक

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ साइंस एजुकेशन एंड रिसर्च (कोलकाता) के साथ काम कर रही अनिंदिता भद्रा ने बताया कि कुत्तों के स्वभाव बदलने के कई कारण हैं. उनका कहना है कि कुत्तों का स्वभाव स्थान, समय और परिस्थिति के हिसाब से बदलते हैं.

फाइल फोटो फाइल फोटो

  • इंसान की तरह कुत्तों के स्वभाव में भी होता है बदलाव
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ साइंस एजुकेशन एंड रिसर्च में खुलासा

देशभर में लोग आवारा कुत्तों के बढ़ते आतंक से परेशान हैं. आए दिन ऐसे ढेरों मामले सामने आ रहे हैं जिनमें कुत्ते लोगों पर हमला कर देते हैं. कई मामलों में तो इंसानों की मौत तक हो चुकी है. प्रशासन भी कुत्तों की बढ़ती संख्या को काबू करने में नाकाम साबित हो रहे हैं. Aajtak.in ने जब कुत्तों के स्वभाव को जानने के लिए तथ्य जुटाए तो कई दिलचस्प बातें सामने निकलकर आई हैं.

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ साइंस एजुकेशन एंड रिसर्च (कोलकाता) के साथ काम कर रही अनिंदिता भद्रा ने बताया कि कुत्तों के स्वभाव बदलने के कई कारण हैं. उनका कहना है कि कुत्तों का स्वभाव स्थान, समय और परिस्थिति के हिसाब से बदलते हैं.

अनिंदिता भद्रा ने बताया कि हमने आवारा और पालतू कुत्तों के स्वभाव को लेकर रिसर्च की है. इसमें कई पहलू निकलकर सामने आए हैं. पहला तो यह कि आवारा कुत्तों की तुलना में पालतू कुत्तों की परवरिश अलग तरह से होती है, जिसका असर उनके स्वभाव पर भी दिखाई देता है.

whatsapp-image-2019-12-07-at-1_120719032112.jpeg

फ्रंटियर्स इन इकोलॉजी एंड एवोल्युशन जर्नल में छपी अपनी रिपोर्ट में अनिंदिता भद्रा ने बताया है कि आवारा कुत्तों का सामना हर दिन कई इंसानों और जानवरों से होता है. आमतौर पर कुत्ते अपने इलाकों में रहते हैं और उनके आसपास रहने वाले इंसानों से पहचान बना लेते हैं. उन्होंने बताया कि हमने पश्चिम बंगाल में अलग-अलग जगहों के 120 कुत्तों पर रिसर्च की. इसमें हमने देखा कि जिन कुत्तों को हमने खाना दिया और दोस्ती भरा व्यवहार किया तो उनके स्वभाव में भी बदलाव आया. कुत्ते पूंछ हिलाने लगे और एकटक देखने लगे. जब हम उनके पास कुछ दिनों बाद गए तो वो हमें पहचानने लगे.

वहीं, रिसर्चर्स ने जब कुछ कुत्तों को संदिग्ध लहजे में खाना दिया तो कुछ कुत्तों ने खाना नहीं खाया और घूरने लगे. जबकि कुछ कुत्तों ने तेजी से खाना खाया और इंसानों के प्रति कोई दोस्ती नहीं दिखाई. कुछ दिन बाद जब रिसर्चर्स दोबारा उस जगह पर गए तो कुत्तों ने ना तो दुम हिलाई और ना ही उन्होंने कोई दोस्ती दिखाई.

इलाकों के हिसाब से कुत्तों के स्वभाव में होते हैं बदलाव...

रिसर्चर्स का यह भी दावा है कि कुत्तों का स्वभाव इलाकों के हिसाब से बदलता है. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ साइंस एजुकेशन एंड रिसर्च (कोलकाता) की अनिंदिता भद्रा बताया कि हमने देखा है कि शहरी इलाकों में कुत्ते उन जगहों पर हिंसक हो जाते हैं जहां पर उन्हें खाना कम मिलता है और कुत्तों की संख्या अधिक हो जाती है. खाना ना मिलने के कारण भूखे कुत्ते अक्सर हिंसक हो जाते हैं. शहरी इलाकों में आमतौर पर कचरे या पशु प्रेमियों से उन्हें खाना मिल जाता है. साथ ही इंसानों के बीच रहने के कारण वो ज्यादा हमलावर नहीं होते हैं.

जबकि शहरों के बाहरी हिस्सों और ग्रामीण इलाकों में यह स्थिति ठीक उलट है. कुत्तों को ग्रामीण इलाकों में खाना नहीं मिलता है और वो इंसानों से भी दूर रहते हैं जिस कारण जब कोई इंसान इनके आसपास आता है तो वो हमलावर हो जाते हैं.

मेटिंग (प्रजनन) के वक्त भी हिंसक होते हैं कुत्ते...

रिसर्चर्स का कहना है कि कुत्तों का जब प्रजनन काल होता है उस वक्त भी वो हिंसक हो जाते हैं. यह देखा गया है कि प्रजनन के दौरान और बच्चे होने के बाद उनकी रक्षा के लिए कुत्ते आमतौर पर हमलावर हो जाते हैं.

कई देशों से ज्यादा हो गई कुत्तों की आबादी...

कुत्तों के जीवन चक्र पर रिसर्च कर रहे कुछ वैज्ञानिकों की माने तो देश में कुत्तों की तादाद 6 करोड़ से ज्यादा हो गई है. यह वृद्धि पिछले 10 से 15 वर्ष में हुई है. यह आंकड़ा दुनिया के कई देशों और भारत के कई राज्यों की आबादी से कहीं ज्यादा है. हालांकि, सरकार के पास इसके पुख्ता आंकड़े नहीं है.

वेलकम ट्रस्ट/डीबीटी इंडिया एलायंस के साथ कुत्तों के स्वभाव और रेबीज पर रिसर्च कर रहे प्रोफ़ेसर अबी तमीम वनक ने बताया कि भारत में कुत्तों की तादाद करोड़ों में है.

सरकारी विभागों के पास इन्हें नियंत्रित करने के नियम तो हैं, लेकिन वो कारगर साबित नहीं हो पा रहे हैं. यही वजह है कि भारत में कुत्तों की तादाद बढ़ती ही जा रही है और यही वजह है कि उनके स्वभाव में भी बदलाव देखा गया है. कुत्तों की तादाद बढ़ने की वजह से उन्हें खाने की समस्या पैदा होती है. इसी कारण उन्हें हिंसक होते देखा गया है. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें