scorecardresearch
 

पक्षी टकराने से हुआ था हेलीकॉप्टर हादसा, बुधवार से सेवा होगी बहाल

सोमवार को जम्मू के कटरा में हुए हेलीकॉप्टर हादसे के बाद श्रद्धालुओं के लिए यह सेवा बुधवार से फिर से बहाल कर दी जाएगी. श्राइन बोर्ड ने हेलीकॉप्टर सेवा के सुरक्षा ऑडिट के लिए DGCA से संपर्क साधा है. इसी बीच माता वैष्णो देवी हेलीकॉप्टर सेवा की सुरक्षा पर कई गंभीर सवाल भी खड़े किए हैं.

सोमवार को जम्मू के कटरा में हुआ था हेलीकॉप्टर हादसा सोमवार को जम्मू के कटरा में हुआ था हेलीकॉप्टर हादसा

सोमवार को जम्मू के कटरा में हुए हेलीकॉप्टर हादसे के बाद श्रद्धालुओं के लिए यह सेवा बुधवार से फिर से बहाल कर दी जाएगी. श्राइन बोर्ड ने हेलीकॉप्टर सेवा के सिक्योरिटी ऑडिट के लिए DGCA से संपर्क साधा है. इसी बीच माता वैष्णो देवी हेलीकॉप्टर सेवा की सुरक्षा पर कई गंभीर सवाल भी खड़े हुए हैं.

जानकारी के मुताबिक, जांच में सामने आया है कि यह हादसा पक्षी के टकराने से हुआ है. हेलीकॉप्टर सेवा देने वाली दोनों कंपनियां ग्लोबल वेक्ट्रा और हिमालयन हेली सवालों के घेरे में हैं. पूर्व बीजेपी विधायक बलदेव शर्मा ने आरोप लगाया है कि कटरा हेलीपैड व्यावसायिक उड़ान के लिए उपयुक्त नहीं हैं.

उन्होंने कहा कि हेलीकाप्टर एक बार उड़ान भर कर वापस आता है, उसकी जांच किए बिना ही उसे घंटों उड़ाया जाता है. 2008 में एनवायरनमेंट कमेटी ने हेलीकॉप्टर सेवा के लिए कुछ नियम तय किये थे, जिन्हें यहां पूरी तरह से नजरअंदाज किया जा रहा है.

जांच के मुताबिक, हेलीकॉप्टर हादसा पक्षी टकराने की वजह से हुआ था. उस समय हेलीकॉप्टर में 394 किलो का वजन था, जबकि 450 किलो तक वजन उठाया जा सकता है. अंदर नियमत: 6 लोग सवार थे. महिला पायलट के पास 7000 घंटों से अधिक उड़ान का अनुभव था.

बताते चलें कि माता वैष्णों देवी के दर्शनों के लिए कटरा पहुंच रहे श्रद्धालु हेलीकॉप्टर सेवा के जरिए कटरा से सांझीछत और फिर सांझीछत से वापस कटरा आते हैं. हेलीकाप्टर से श्रद्धालु 13 किलोमीटर का सफर करीब चार मिनट में पूरा करते हैं. इसके लिए 1170 रुपये चुकाते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें