scorecardresearch
 

पश्चिम बंगाल में अब बीजेपी का 'मिशन मजदूर', TMC के लिए बढ़ेगी चुनौती

पश्चिम बंगाल में सरकारी नीतियों और कम मजदूरी से परेशान मजदूरों के बीच अब भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) पैठ बनाने में जुटी है. दिल्ली से कोलकाता पहुंचे बीजेपी के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री शिव प्रकाश ने राज्य के मजदूर संगठनों के प्रमुखों के साथ बैठक कर रणनीति बनाई.

मजदूर संगठनों के प्रमुखों के साथ बैठक करते BJP के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री शिवप्रकाश. मजदूर संगठनों के प्रमुखों के साथ बैठक करते BJP के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री शिवप्रकाश.

मजदूर आंदोलनों के लिए चर्चित रहे पश्चिम बंगाल में अब भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) की नजर मजदूरों पर है. बीजेपी ने राज्य के कल-कारखानों में काम करने वाले मजदूरों के बीच पैठ बनाने के लिए एक्शन प्लान पर काम करना शुरू कर दिया है. अगर बीजेपी मजदूरों का दिल जीतने में सफल रही तो लेफ्ट का साथ छोड़कर बड़ी तादाद में फिलहाल ममता की टीएमसी के साथ खड़े मजदूरों के बीच बीजेपी अच्छी-खासी सेंधमारी कर सकती है. पश्चिम बंगाल में तो सिर्फ चाय बगानों में ही चार लाख से ज्यादा मजदूर काम करते हैं. अन्य सेक्टर के मजदूरों की संख्या कहीं ज्यादा है. कम मजदूरी सहित तमाम मुद्दों से परेशान और सरकार से नाराज चल रहे मजदूरों की नाराजगी को बीजेपी भुनाने की तैयारी में है.

पश्चिम बंगाल के दौरे पर पहुंचे भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री शिवप्रकाश ने विभिन्न सेक्टर्स में काम कर रहे मजदूर संगठनों के अध्यक्षों के साथ मंगलवार को बैठक की. इस दौरान में उन्होंने मजदूरों के विभिन्न मुद्दों पर रायशुमारी की. मजदूर संगठनों के अध्यक्षों से कहा गया कि वे मजदूरों के बीच जाकर बताएं कि बीजेपी ही उनकी मजदूरी आदि से जुड़ी समस्याओं से छुटकारा दिला सकती है.

मजदूरों की समस्याएं को बीजेपी बनाएगी मुद्दा

सूत्र बता रहे हैं कि मजदूर आंदोलनों की जमीन कहे जाने वाले पश्चिम बंगाल में 2021 के विधानसभा चुनाव से पहले मजदूरों की मांगों को आंदोलन की शक्ल देने की तैयारी में है. मजदूरों की उचित मजदूरी, सामाजिक सुरक्षा, कार्यस्थल पर जरूरी सुविधाएं आदि मांगों का समर्थन करते हुए बीजेपी मजदूरों के दिलों में जगह बनाने की तैयारी में है. संघ और बीजेपी से जुड़े मजदूर संगठनों के पदाधिकारी कल-कारखानों में जाकर बीजेपी की नीतियों से बताएंगे. विधानसभा चुनाव नजदीक आने पर जारी होने वाले मेनिफेस्टो में भी मजदूरों की मांगों को जगह दी जाएगी.

सांगठनिक चुनाव पर हुई चर्चा

बीजेपी के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री शिव प्रकाश ने कोलकाकात में संगठन की बैठक ली. राष्ट्रीय सचिव राहुल सिन्हा, प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष, केंद्रीय सह पर्यवेक्षक अरविंद मेनन, पूर्व अध्यक्ष असीम घोष सहित अन्य वरिष्ठ पदाधिकारियों की मौजूदगी में हुई इस बैठक में आगामी 10 सितंबर  से संगठन चुनाव पर चर्चा की गई. कहा गया कि सदस्यता अभियान भले ही टारगेट 60 लाख से ज्यादा 77 लाख तक हुआ है. मगर इसे एक करोड़ तक ले जाने का फैसला हुआ. बता दें कि 2019 के लोकसभा चुनाव में 42 में से 18 सीटें जीतने के बाद से बीजेपी उत्साहित है. अब बीजेपी में यह आत्मविश्वास आ गया है कि कठिन मेहनत के दम पर मिशन 2021 में करिश्मा हो सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें