scorecardresearch
 

सुशील मोदी का प्रशांत किशोर पर हमला, कहा- 2014 में बीजेपी गोडसेवादी क्यों नहीं लगी

बिहार के सीएम नीतीश कुमार को पिछलग्गू नेता करार दिए जाने को लेकर उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी आग बबूला हो गए. प्रशांत किशोर पर भड़के सुशील कुमार मोदी ने कहा कि पहले तो उन्होंने नीतीश को पिता तुल्य बताया और उसके बाद उनके लिए पिछलग्गू जैसे घटिया शब्द का प्रयोग किया.

बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (फाइल फोटो) बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (फाइल फोटो)

  • प्रशांत किशोर ने नीतीश कुमार को बताया पिछलग्गू
  • JDU के पूर्व उपाध्यक्ष पर भड़के सुशील कुमार मोदी

जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) से पिछले महीने निष्कासित होने के बाद प्रशांत किशोर में मंगलवार को पटना में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पिता तुल्य कहकर संबोधित किया. साथ ही नीतीश कुमार को प्रशांत किशोर ने बीजेपी का पिछलग्गू भी बता दिया.

नीतीश कुमार को पिछलग्गू नेता करार दिए जाने को लेकर उप मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता सुशील कुमार मोदी आग बबूला हो गए. प्रशांत किशोर पर भड़के सुशील कुमार मोदी ने कहा कि पहले तो उन्होंने नीतीश को पिता तुल्य बताया और उसके बाद उनके लिए पिछलग्गू जैसे घटिया शब्द का प्रयोग किया.

ये भी पढ़ें- सारथी या योद्धा? प्रशांत किशोर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया क्या है उनका फ्यूचर प्लान

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान प्रशांत किशोर ने बीजेपी को नाथूराम गोडसे की विचारधारा वाली पार्टी भी करार दिया और इसको लेकर भी सुशील मोदी ने उनसे सवाल पूछा कि जब 2014 में प्रशांत किशोर तत्कालीन गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए प्रचार प्रसार कर रहे थे तो क्या उस वक्त बीजेपी उन्हें गोडसे वादी क्यों नहीं लगी?

सुशील मोदी ने प्रशांत किशोर से आगे सवाल पूछा कि पिछले ढाई साल से नीतीश कुमार बीजेपी मिलकर बिहार में सरकार चला रहे हैं और इस दौरान भी आखिर क्यों प्रशांत किशोर को बीजेपी गोडसे वादी पार्टी नजर नहीं आई ?

ये भी पढ़ें- नीतीश के साथ क्यों हुआ मतभेद? प्रशांत किशोर ने गिनाए दो कारण

प्रशांत किशोर पर तंज कसते हुए सुशील कुमार मोदी ने कहा कि इवेंट मैनेजमेंट करने वाले लोगों की कोई विचारधारा नहीं होती है, लेकिन वह अपने प्रायोजक की विचारधारा और भाषा तुरंत अपनाने में माहिर होते हैं.

नीतीश कुमार को पिता तुल्य कर संबोधित करने के बाद उनके लिए पिछलग्गू जैसे शब्द का प्रयोग करने को लेकर सुशील मोदी ने इसे प्रशांत किशोर का पाखंड बताया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें