scorecardresearch
 

Champaran: पद्मश्री भागीरथी देवी की इस विधानसभा से हैट्रिक पर नजर, किया नामांकन

भागीरथी देवी ने बीजेपी के टिकट पर रामनगर विधानसभा से नामांकन किया. बगहा अनुमंडल कार्यालय में उन्होंने बड़ी ही सादगी के साथ नामांकन पत्र दाखिल किया. वे दो बार से इस विधानसभा से विधायक हैं. तीसरी बार जीत के लिए बीजेपी ने उन्हें फिर चुनावी मैदान में उतारा है.

पद्म पुरस्कार से सम्मानित भागीरथी देवी  (फोटो-@satishdubeyy) पद्म पुरस्कार से सम्मानित भागीरथी देवी (फोटो-@satishdubeyy)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पद्मश्री भागीरथी देवी ने रामनगर विधानसभा से​ किया नामांकन
  • चार बार से लगातार विधायक हैं भागीरथी देवी
  • बीजेपी के टिकट पर रामनगर विधानसभा से किया नामांकन

बिहार विधानसभा की एकमात्र पद्म पुरस्कार से सम्मानित सदस्य भागीरथी देवी ने आज रामनगर विधानसभा से नामांकन किया. इस विधानसभा से पिछले दो चुनाव से लगातार जीत दर्ज करने वाली भागीरथी देवी को इस बार फिर बीजेपी ने टिकट दिया है. हालांकि रामनगर सीट पर बीजेपी का दबदबा माना जाता है. पिछले सात में से छह चुनाव में यहां से बीजेपी प्रत्याशी ने जीत दर्ज की है.  

रामनगर विधानसभा से किया नामांकन 
भागीरथी देवी ने बीजेपी के टिकट पर रामनगर विधानसभा से नामांकन किया. बगहा अनुमंडल कार्यालय में उन्होंने बड़ी ही सादगी के साथ नामांकन पत्र दाखिल किया. वे दो बार से इस विधानसभा से विधायक हैं. तीसरी बार जीत के लिए बीजेपी ने उन्हें फिर चुनावी मैदान में उतारा है. नामांकन के बाद उन्होंने कहा कि किसी से लड़ाई नहीं है. इस चुनाव का मुख्य मुद्दा विकास है. पीएम मोदी द्वारा किए गए विकास कार्यों के आधार पर ये चुनाव हो रहा है. 

कांग्रेस ने दिया राजेश राम को टिकट 
वहीं, रामनगर विधानसभा सीट से कांग्रेस ने वर्तमान एमएलसी राजेश राम को चुनाव मैदान में उतारा है. 2015 के विधानसभा चुनाव में राजेश राम के बड़े भाई और बिहार की राजनीति के दिग्गज खिलाड़ी पूर्णमासी राम भागीरथी देवी से बुरी तरह से चुनाव हार चुके हैं.

पांचवीं बार विजय की तैयारी 
भागीरथी देवी ने पहला चुनाव 2000 में नरकटियागंज विधानसभा से जीता था. इसके बाद दूसरी बार भी 2005 के विधानसभा चुनाव में इसी विधानसभा से जीत दर्ज की. 2010 में परिसीमन बदला और नरकटियागंज सामान्य सीट हो जाने के बाद पार्टी ने उन्हें रामनगर विधानसभा से चुनाव मैदान में उतारा. यहां से भी उन्होंने जीत दर्ज की. 2015 के चुनाव में उन्होंने चौथी जीत दर्ज करते हुए कांग्रेस प्रत्याशी पूर्णमासी राम को हराया था. 

800 रुपये की नौकरी करती थीं भागीरथी देवी 
भागीरथी देवी अत्यंत ही गरीब परिवार की महिला हैं, जो महज 800 रुपये प्रतिमाह वेतन पर प्रखंड कार्यालय नरकटियागंज में नौकरी करती थीं. प्रखंड क्षेत्र में भागीरथी देवी की पहचान एक ऐसी महिला के रूप में है, जो गरीब, मजबूर और घरेलू हिंसा से पीड़ित महिलाओं के लिए एक आवाज हैं. (इनपुट-गिरीन्द्र कुमार पाण्डेय)

ये भी पढ़ें:

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें