scorecardresearch
 

बेलागंज विधानसभा सीट: 6 बार से जीत रहे हैं सुरेंद्र, क्या RJD के गढ़ में NDA कर पाएगी सेंधमारी?

इस सीट से लालू प्रसाद यादव के करीबी सुरेंद्र प्रसाद यादव लगातार छह बार से विधायक बनते आ रहे हैं. हालांकि, इस बार लड़ाई रोचक होने वाली है, क्योंकि जेडीयू युवा प्रदेश अध्यक्ष अभय कुशवाहा जोर-शोर से प्रचार कर रहे हैं.

आरजेडी विधायक सुरेंद्र प्रसाद यादव (फाइल फोटो) आरजेडी विधायक सुरेंद्र प्रसाद यादव (फाइल फोटो)

गया जिले की बेलागंज विधानसभा को आरजेडी का गढ़ माना जाता है. इस सीट से लालू प्रसाद यादव के करीबी सुरेंद्र प्रसाद यादव लगातार छह बार से विधायक बनते आ रहे हैं. हालांकि, इस बार लड़ाई रोचक होने वाली है, क्योंकि जेडीयू युवा प्रदेश अध्यक्ष अभय कुशवाहा जोर-शोर से प्रचार कर रहे हैं और सुरेंद्र प्रसाद यादव को कड़ी टक्कर देने की कोशिश कर रहे हैं.

बेलागंज विधानसभा सीट का इतिहास
1962 के चुनाव में कांग्रेस के रामेश्वर मांझी जीते थे. इसके बाद 1967 के चुनाव में इस सीट से एसएसपी के एसएन सिन्हा जीते. 1969 के चुनाव में कांग्रेस के मिथिलेश्वर प्रसाद सिंह जीतने में कामयाब हुआ. वहीं, 1972 के चुनाव में जितेंद्र प्रसाद सिंह जीते.

1977 के चुनाव में कांग्रेस के टिकट पर अभिराम शर्मा, जबकि 1980 का चुनाव शत्रुघ्न शरण सिंह जीतने में कामयाब हुए. इसके बाद 1990 से लेकर अब तक हुए 6 चुनाव में सुरेंद्र पासद यादव की जीत हुई. 1990 और 1995 का चुनाव सुरेंद्र प्रसाद ने जनता दल के टिकट पर लड़ा, इसके बाद 2000, 2005, 2010 और 2015 का चुनाव वह आरजेडी के टिकट पर लड़े और जीते.

सामाजिक तानाबाना
बेलागंज विधानसभा सीट पर कुल मतदाता 219514 है जिसमें पुरुष मतदाता 118054, जबकि महिला मतदाताओं की संख्या 101469 है. 2015 के चुनाव में इस सीट पर 57 फीसदी वोटिंग हुई थी. गया मुख्यालय से 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित इस क्षेत्र में स्वास्थ्य और शिक्षा का घोर अभाव है. अस्पताल हैं, लेकिन डॉक्टरों की कमी है.

2015 के चुनावी नतीजे
2015 चुनाव की बात करें तो आरजेडी के सुरेंद्र प्रसाद यादव को 53079 वोट मिले थे, जबकि हम पार्टी के मो. शरीम अली को 48441 वोट मिले. विजेता रहे सुरेंद्र यादव ने मो. शरीम अली को 4638 वोट से हरा दिया था.

विधायक सुरेंद्र प्रसाद यादव के बारे में
लालू यादव के करीबियों में शुमार सुरेंद्र प्रसाद यादव की गिनती दबंग नेताओं में होती है. वह 1981 में लालू के संपर्क में आए थे. इसके बाद 1985 का चुनाव जहानाबाद लोकसभा क्षेत्र से लड़ा, लेकिन हार गए. इसके बाद लालू ने उन्हें बेलागंज विधानसभा सीट से टिकट दे दिया. इसके बाद से सुरेंद्र प्रसाद यादव लगातार जीतते आ रहे हैं.

1998 से 1999 के बीच सुरेंद्र प्रसाद यादव, जहानाबाद लोकसभा सीट से सांसद भी रहे. वह बिहार सरकार में आबकारी और इंडस्ट्रिय मिनिस्टर भी रह चुके हैं. 2015 के चुनाव हलफनामे के मुताबकि, उनके ऊपर दो आपराधिक केस है. साथ ही उनके पास 6 करोड़ से अधिक की संपत्ति है.

कौन-कौन है मैदान में?
जनता दल (यूनाइटेड)- अभय कुमार सिन्हा
राष्ट्रीय जनता दल- सुरेंद्र प्रसाद यादव
लोक जनशक्ति पार्टी- रामाश्रय शर्मा

कब होना है चुनाव? 
पहला चरण – 28 अक्टूबर
नतीजा – 10 नवंबर

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें