scorecardresearch
 

अस्थावां विधानसभा सीट: JDU के जितेंद्र कुमार की लगातार पांचवीं जीत पर है नजर

अस्थावां विधानसभा सीट साल 1951 में अस्तित्व में आई. यहां पर हुए पहले चुनाव में कांग्रेस को जीत मिली. अस्थावां की जनता ने सबसे ज्यादा किसी पर भरोसा किया है तो वो 3 बार बतौर निर्दलीय चुनाव जीतने वाले रघुनाथ प्रसाद शर्मा और जेडीयू के जितेंद्र कुमार हैं.

जेडीयू विधायक जितेंद्र कुमार (फाइल फोटो) जेडीयू विधायक जितेंद्र कुमार (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अस्थावां विधानसभा सीट नालंदा जिले में आती है
  • अस्थावां विधानसभा सीट साल 1951 में अस्तित्व में आई
  • जेडीयू के जितेंद्र कुमार हैं यहां के विधायक

बिहार की अस्थावां विधानसभा सीट नालंदा जिले में आती है. यह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का गृह जिला है. अस्थावां कुर्मी बहुल्य क्षेत्र है और अब तक ज्यादातर इसी जाति से विधायक होते रहे हैं. पिछले 4 चुनाव में यहां पर जेडीयू को जीती मिली है. जेडीयू के जितेंद्र कुमार अस्थवां के विधायक हैं. वह पूर्व विधायक अयोध्या प्रसाद के बेटे हैं.  

सामाजिक ताना-बाना

अस्थावां बिहार के नालंदा जिले में स्थित है. अस्थावां विधानसभा सीट नालंदा संसदीय क्षेत्र में आती है. 2011 की जनगणना के अनुसार यहां की जनसंख्या 365405 है. अनुसूचित जातियों (एससी) और अनुसूचित जनजातियों (एसटी) का अनुपात कुल आबादी से क्रमशः 25.18 और 0.07 है. ये कुर्मी बहुल्य क्षेत्र है और अब तक ज्यादातर इसी जाति से विधायक होते रहे हैं. 

राजनीतिक पृष्ठभूमि

अस्थावां विधानसभा सीट साल 1951 में अस्तित्व में आई. यहां पर हुए पहले चुनाव में कांग्रेस को जीत मिली. अस्थावां की जनता ने सबसे ज्यादा किसी पर भरोसा किया है तो वो 3 बार बतौर निर्दलीय चुनाव जीतने वाले रघुनाथ प्रसाद शर्मा और जेडीयू के जितेंद्र कुमार हैं. जितेंद्र कुमार तो पिछले 4 चुनावों से यहां से जीतते आ रहे हैं.

उनके पिता अयोध्या प्रसाद भी अस्थवां के विधायक रह चुके हैं. 2005 के चुनाव के पहले के आंकड़ों पर नजर डालें तो यहां पर किसी एक पार्टी का दबदबा नहीं रहा. 2005 के चुनाव से यहां की तस्वीर बदली और ये सीट जेडीयू के दबदबे वाली सीट हो गई. मुख्यमंत्री का गृह जिला होने के नाते अस्थावां जेडीयू का सबसे सुरक्षित सीट मानी जाती है. 

2015 का जनादेश

2015 के विधानसभा चुनाव में अस्थावां में 270312 वोटर्स थे. इसमें से 53.61 फीसदी पुरुष और 46.38 फीसदी महिला वोटर्स थीं. अस्थवां में 133104 लोगों ने वोटिंग की थी. यहां पर 49 फीसदी मतदान हुआ था.

इस चुनाव में जेडीयू के जितेंद्र कुमार ने 9 हजार से ज्यादा वोटों से जीत हासिल की थी. उन्होंने एलजेपी के छोटे लाल को मात दी थी. जितेंद्र कुमार 58908(44.29 फीसदी) वोट और छोटे लाल को 48464 (36.44 फीसदी) वोट मिले थे. 

विधायक के बारे में

अस्थावां के विधायक जितेंद्र कुमार का जन्म 25 मई 1972 को हुआ. बिहारशरीफ में जन्मे जितेंद्र कुमार की शैक्षणिक योग्यता एमए, पीएचडी है. उनकी पत्नी का नाम रिचा सिन्हा है. जितेंद्र कुमार का एक बेटा है. पूर्व विधायक अयोध्या प्रसाद के बेटे जितेंद्र कुमार ने 1997 में राजनीति में एंट्री की. 8 साल बाद यानी 2005 में वह चुनाव जीतकर पहली बार विधानसभा पहुंचे. उन्होंने 2005 का उपचुनाव भी जीता. जितेंद्र कुमार लगातार चार बार से अस्थावां से चुनाव जीतते आ रहे हैं.

ये प्रत्याशी हैं मैदान में

अस्थावां विधानसभा सीट पर 19 उम्मीदवार मैदान में हैं. यहां से एलजेपी के रमेश कुमार, आरजेडी के अनिल कुमार और जेडीयू के जितेंद्र कुमार प्रत्याशी हैं. 

कब होगी वोटिंग

अस्थावां  में दूसरे चरण के तहत मतदान होगा. यहां पर 3 नवंबर को वोटिंग होगी. वहीं, मतगणना 10 नवंबर को की जाएगी.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें