scorecardresearch
 

Who is Jogendra Nath Mandal, PAK के पहले कानून मंत्री, मोदी ने किया जिक्र

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को लोकसभा में पाकिस्तान के पहले कानून मंत्री रहे जोगेन्द्र नाथ मंडल का जिक्र किया. उन्होंने बताया कि जोगेंद्र नाथ को भेदभाव के कारण पाकिस्तान छोड़ना पड़ा था. आइए जानें- कौन थे जोगेंद्र नाथ मंडल, जो पाकिस्तान से इस्तीफा देकर वापस भारत लौट आए थे.

पाकिस्तान के पहले कानून मंत्री जोगेन्द्र नाथ मंडल पाकिस्तान के पहले कानून मंत्री जोगेन्द्र नाथ मंडल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज राष्ट्रपति के अभिभाषण पर जवाब देते हुए जोगेन्द्र नाथ मंडल का जिक्र किया. उन्होंने कहा कि हिंदू होने के कारण उनके साथ पाकिस्तान में भेदभाव हुआ था, जिसके कारण उन्हें मुल्क छोड़कर वापस अपने वतन में लौटना पड़ा था.

बता दें कि जोगेंद्र नाथ मंडल का जन्म 1904 में बिरिसल जिले (तब बंगाल प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत) वर्तमान में बांग्लादेश में हुआ था. वो नमूसूरा समुदाय से आते थे. wiki सोर्स के अनुसार तब ये समुदाय हिंदू जाति व्यवस्था के बाहर माना जाता था. उन्होंने इसी मुद्दे पर आंदोलन खड़ा किया था.

मंडल ने 1937 के भारतीय प्रांतीय विधानसभा चुनाव में एक स्वतंत्र उम्मीदवार के तौर पर अपना राजनीतिक करियर शुरू किया था. उन्होंने बखरागंज उत्तर पूर्व ग्रामीण निर्वाचन क्षेत्र बंगाल विधान सभा में एक सीट पर चुनाव लड़ा और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की जिला समिति के अध्यक्ष सरकल कुमार दत्ता को हराया.

सुभाष चंद्र बोस और शरतचंद्र बोस दोनों ने इस समय मंडल को काफी प्रभावित किया था. जब पूर्व को 1940 में कांग्रेस से निष्कासित कर दिया गया था, मंडल मुस्लिम लीग (एमएल) के साथ जुड़ गए थे जो एकमात्र दूसरी महत्वपूर्ण राष्ट्रीय पार्टी थी. बताते हैं कि इसी समय के आसपास मंडल और भीमराव अंबेडकर ने अनुसूचित जाति संघ की बंगाल शाखा की स्थापना की थी.

प्रांत में राजनीति में दलित और मुस्लिम लोगों का वर्चस्व था, मंडल ने सांप्रदायिक मामलों और कांग्रेस व लीग से जुड़े राजनैतिक विवादों के बीच अंतर देखा. जब 1946 में दंगे फैल गए, तो उन्होंने पूर्वी बंगाल के चारों ओर यात्रा करके दलितों को मुसलमानों के खिलाफ हिंसा में भाग न लेने का आग्रह किया. उन्होंने तर्क दिया कि मुस्ल‍िम लीग के साथ अपने विवाद में कांग्रेस प्यादे के तौर पर इस्तेमाल कर रही है.

इसलिए वापस लौटे भारत

15 अगस्त 1947 को ब्रिटिश भारत के विभाजन के बाद, मंडल पाकिस्तान के संविधान सभा के सदस्य और अस्थायी अध्यक्ष बने और कानून और श्रम के लिए नए बने देश के पहले मंत्री की जिम्मेदारी उन्हें दी गई. पाकिस्तान के अखबार Dawn  के अनुसार जोगेंद्र नाथ मंडल को 1946 में भारत के विभाजन से पहले तैयार राजनीतिक सेटअप में मुस्लिम लीग के मंत्री के रूप में प्रतिनिधित्व करने का गौरव मिला था. बाद में, उन्होंने 11 अगस्त 1947 को संविधान सभा के ऐतिहासिक सत्र की अध्यक्षता की, जहां मोहम्मद अली जिन्ना ने पाकिस्तान के पहले गवर्नर-जनरल के रूप में शपथ ली.  जिन्ना ने हिंदू धार्मिक पदानुक्रम के सबसे निचले स्तर जिसे अछूत या दलित  माना जाता था, उस वर्ग से आने वाले मंडल पर भरोसा किया था जो जिन्ना की धार्मिकता के प्रति दृष्ट‍ि दर्शाता है.

मंडल पाकिस्तान सरकार के उच्चतम पदों में हिंदू सदस्य के तौर पर 1947 से 1950 तक वह तत्कालीन राजधानी कराची के बंदरगाह शहर में रहते थे. फिर साल 1950 में वो भारत लौट आए, वो पाकिस्तान के तत्कालीन प्रधानमंत्री लियाकत अली खान को अपना इस्तीफा देने के बाद वापस लौटे थे, उन्होंने इसके लिए पाकिस्तानी प्रशासन के हिंदू विरोधी पूर्वाग्रह का हवाला दिया था. उन्होंने अपने इस्तीफे में सामाजिक अन्याय और गैर-मुस्लिम अल्पसंख्यकों के प्रति पक्षपातपूर्ण व्यवहार से संबंधित घटनाओं का उल्लेख किया. 

बताते हैं कि पाकिस्तान बनने के कुछ ही समय बाद वहां गैर मुस्लिमो को निशाना बनाया जाने लगा. हिन्दुओ के साथ लूटमार, बलात्कार की घटनाएं सामने आने लगी तो मंडल ने इस विषय पर सरकार को कई पत्र लिखे. लेकिन सरकार ने उनकी एक न सुनी.  जोगेंद्र नाथ मंडल को बाहर करने के लिए उनकी देशभक्ति पर संदेह किया जाने लगा. मंडल को इस बात का एहसास हुआ जिस पाकिस्तान को उन्होंने अपना घर समझा था वो उनके रहने लायक नहीं है. मंडल बहुत आहत हुए क्योंकि उन्हें यकीन था कि पाकिस्तान में दलितों के साथ अन्याय नहीं होगा. तकरीबन दो सालों में ही दलित मुस्लिम एकता का मंडल का ख्बाब टूट गया था, जिसके बाद वो वापस हिंदुस्तान लौट आए थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें