scorecardresearch
 

मौत के बाद महाप्राण निराला के बक्से से मिली थीं ये दो खास चीजें

छायावादी युग का वो नाम जो आज हिंदी कविता का स्तंभ कहा जाता है. सोचिए, हमें और आपको इतना कुछ देकर जाने वाले इस बुजुर्ग को समाज से क्या मिला था.

फाइल फोटो: सूर्यकांत त्रिपाठी निराला फाइल फोटो: सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

छायावादी युग का वो नाम जो आज हिंदी कविता का स्तंभ कहा जाता है. सोचिए, हमें और आपको इतना कुछ देकर जाने वाले इस बुजुर्ग को समाज से क्या मिला था. 15 अक्टूबर सन 1961 के दिन उनकी मौत के बाद उनके घर से लकड़ी का बक्सा मिला था जिसने हिंदी साहित्य जगत के पुरोधा के अंतिम दिनों का हाल बयां कर दिया. आइए जानें- महाप्राण के जीवन के इस पहलू के बारे में.

जीवन का उस पड़ाव का चित्रण, इन शब्दों में

बाल झबरे, दृष्टि पैनी, फटी लुंगी, नग्न तन

किन्तु अन्तर्दीप्‍त था आकाश-सा उन्मुक्त मन

उसे मरने दिया हमने, रह गया घुटकर पवन

अब भले ही याद में करते रहें सौ-सौ हवन...

बाबा नागार्जुन ने इन्हीं पंक्तियों से हिंदी जगत के कवि महाप्राण निराला के वो दिन याद किए हैं. एक बड़े कवि, बड़े साहित्यकार और बड़े इंसान के तौर पर छायावाद के इस कवि ने वक्त के पटल पर अपना स्वर्ण‍िम अक्षरों से अंकित कर दिया है. बताते हैं कि कभी ऐसा भी वक्त था जब क्वीन विक्टोरिया ने अपना ताज उनके सिर पर सजा दिया था. लेकिन एक ऐसा वक्त भी आया जब वो गुमनामी के घुप अंधेरे में अभावों से जूझते हुए जीवन के आखिरी पल जी गए.

सुमित्रानंदन पंत, महादेवी वर्मा व जयशंकर प्रसाद के साथ ही निराला की हिंदी साहित्य के छायावाद के स्तंभ के तौर पर गणना होती है. उनकाजन्म वसंत पंचमी के दिन 1896 में पश्चिम बंगाल के मेदिनीपुर में हुआ और मृत्यु 15 अक्टूबर, 1961 को इलाहाबाद में हुई.

निराला ने हाईस्कूल तक शिक्षा प्राप्त की. इसके बाद उन्होंने हिंदी संस्कृत और बांग्ला में भी अध्ययन किया. जब वो तीन साल के थे, तब उनकी मां का निधन हो गया. फिर 20 साल की आयु में उन्होंने अपने पिता को खो दिया. उनके लिखे उपन्यास, कविताएं, निबंध संग्रह आज छायावादी युग की पहचान हैं. अपने कविता संग्रह में परिमल, अनामिका, गीतिका, आदिमा, बेला, नए पत्ते, अर्चना, आराधना आदि प्रमुख हैं. वहीं, उपन्यासों में अप्सरा, अल्का, प्रभावती, निरूपमा, चमेली हैं.

मौत के बाद बक्से से निकले ये दो सामान

बताते हैं कि सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला' के अंतिम दिन यूपी के इलाहाबाद में बीते. उनका जीवन संघर्षेां से भरा हुआ था. उनकी रचनाएं सामाजिक सरोकार से गहरे से जुड़ी रहीं. उनके बारे में कहा जाता है कि महाप्राण ने हमेशा एक फकीर की जिंदगी जी. जब लोग सोच रहे थे कि इतने बड़े साहित्यकार के पास दुनिया की दौलत निकलेगी, तब उनकी मौत के मिले सामान सबको हैरानी में डाल दिया था. उनके कमरे में रखे लकड़ी के बक्शे में से संपत्ति के नाम पर रामनामी व गीता मिली थी. उम्र के अंतिम पड़ाव में जब एक साहित्यकार को सबसे ज्यादा सहयोग, प्रेम और आदर की जरूरत होती है, उस दौर में वो झंझावातों से जूझते रहे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें