scorecardresearch
 

बैंडिट क्‍वीन: चंबल के बीहड़ से सियासत की गलियों तक का सफर

फूलन देवी का परिचय देना हो तो कोई एक शब्‍द या वाक्‍य नहीं मिलता. एक दस साल की लड़की, जो अपने बाप की जमीन के लिए लड़ी. फिर बालिका-वधू बनी और उसके अधेड़ पति ने उसके संग रेप किया. बाद में डाकू श्रीराम ठाकुर के गिरोह ने उसकी इज्जत लूटी. बाद में वो फूलन देवी एक खतरनाक डाकू बनी और उसने बेहमई गांव में 22 लोगों को लाइन में खड़ा कर गोली मार दी. आत्मसर्मण किया. जेल से छूटी और राजनेता बनी. संसद पहुंची और फिर उसकी हत्या कर दी गई. आज उसी फूलन का जन्‍मदिन है. जानिए उनके जीवन से जुड़ी ऐसी घटनाएं, जो आपको झकझोर कर रख देंगी.

फूलन देवी दो बार मिर्जापुर से सांसद रही थीं फूलन देवी दो बार मिर्जापुर से सांसद रही थीं

फूलन देवी का परिचय देना हो तो कोई एक शब्‍द या वाक्‍य नहीं मिलता. एक दस साल की लड़की, जो अपने बाप की जमीन के लिए लड़ी. फिर बालिका-वधू बनी और उसके अधेड़ पति ने उसके संग रेप किया. बाद में डाकू श्रीराम ठाकुर के गिरोह ने उसकी इज्जत लूटी. बाद में वो फूलन देवी एक खतरनाक डाकू बनी और उसने बेहमई गांव में 22 लोगों को लाइन में खड़ा कर गोली मार दी. आत्मसर्मण किया. जेल से छूटी और राजनेता बनी. संसद पहुंची और फिर उसकी हत्या कर दी गई. आज उसी फूलन देवी का जन्‍मदिन है. जानिए उनके जीवन से जुड़ी ऐसी घटनाएं, जो आपको झकझोर कर रख देंगी.

10 अगस्त 1963 को यूपी में जालौन के 'घूरा का पुरवा' में फूलन का जन्म हुआ था. गरीब और ‘छोटी जाति’ में जन्मी फूलन में दब्बूपन नहीं था. उसने मां से सुना था कि चाचा ने उनकी जमीन हड़प ली थी. दस साल की उम्र में चाचा से भिड़ गई. जमीन के लिए धरना दिया. सजा तो मिलनी ही थी. उसी 10 साल की उम्र में उसकी शादी कर दी गई.

अधेड़ उम्र के पति ने शादी की पहली रात से उसके साथ दरिंदगी शुरू कर दी, जो लंबे समय तक चली. उस आदमी ने फूलन से बलात्कार किया. फिर ये रोज का सिलसिला बन गया. जिसकी वजह से उसकी सेहत बिगड़ गई और उसे मायके आना पड़ा, उधर पति ने दूसरी शादी कर ली. फिर किस्‍मत ने एक और करवट ली.

इसी दौरान फूलन के नए दोस्‍त बने. जिनमें से कुछ डाकू थे. फूलन के मुताबिक किस्मत को यही मंजूर था. गिरोह का सरदार बाबू गुज्जर उसे चाहता था. वहीं, डाकू विक्रम मल्लाह भी फूलन से प्‍यार था. विक्रम और बाबू के बीच फूलन को लेकर ऐसी तनातनी हुई कि एक दिन विक्रम ने उसकी हत्या कर दी और गिरोह का सरदार बन गया. अब फूलन और विक्रम साथ रहने लगे थे.

फिर क्‍या था, एक दिन फूलन अपने गिरोह के साथ पति के गांव गई. वहां उसने पति और उसकी बीवी दोनों की जमकर पिटाई की. उधर, डाकुओं का एक और गैंग था ठाकुर गिरोह. जिसका सरगना था श्रीराम ठाकुर और लाला ठाकुर. ये दोनों बाबू गुज्जर की हत्या से नाराज थे, जिसका जिम्मेदार फूलन को माना जाता था. दोनों गुटों में लड़ाई छिड़ गई.

ठाकुर गिरोह और विक्रम मल्लाह गिरोह के बीच खूनी झड़प हुई. छिपते-छिपाते फूलन और मल्‍लाह कुछ देर के लिए आराम करने बैठे. उसी रात फूलन और मल्‍लाह के बीच संबंध बने. दोनों जब सोए तो एक दूसरे के साथ थे, पर जब उठे तो फूलन ठाकुर गिरोह की गिरफ्त में थी. उन्होंने ने विक्रम मल्‍लाह को मारकर फूलन को किडनैप कर लिया था.

फूलन ने अपनी किताब में कुसुम नाम की महिला का जिक्र किया है, जिसने फूलन के सारे गहने उसके बदन से उतार लिए थे. फूलन ने लिखा था, 'कुसुम ने मेरे कपड़े फाड़ दिए और आदमियों के सामने नंगा छोड़ दिया'. ठाकुर गिरोह उसे नग्न अवस्था में रस्सियों से बांधकर नदी के रास्ते बेहमई गांव ले गया था. जहां उसे पूरे गांव में नंगा घुमाया गया. उसके बाद सबसे पहले श्रीराम ठाकुर उसके संग रेप किया. फिर बारी-बारी से गांव के लोगों ने उसकी इज्जत लूटी थी. वे उसे बालों से पकड़कर खींच रहे थे. फूलन को लाठियों से भी खूब मारा गया था.

बताया जाता है कि ठाकुरों ने दो सप्‍ताह से अधिक समय तक फूलन को नग्‍न अवस्‍था में रखा. फूलन एक बंधक थी. उसके साथ रोज सामूहिक बलात्कार किया जाता. तब तक जब तक वह बेहोश नहीं हो जाती. जिस समय ये बर्बरता हुई फूलन केवल 18 साल की थी.

यहां से छूटने के बाद फूलन डाकुओं के गैंग में फिर शामिल हो गई. 1981 में फूलन बेहमई गांव लौटी. उसने उन दो लोगों की पहचान की, जिन्होंने उसका रेप किया था. बाकी के बारे में पूछा, तो किसी ने कुछ नहीं बताया. फूलन ने गांव से 22 ठाकुरों को निकालकर एक साथ गोली मार दी थी.

यही वो हत्याकांड था, जिसने फूलन की छवि खूंखार डकैत की बना दी. चारों ओर बवाल कट गया. मीडिया ने फूलन को नया नाम दिया, 'बैंडिट क्वीन'. सरकार की पहल पर भिंड के एसपी राजेंद्र चतुर्वेदी फूलन के गिरोह से बात करते रहे. ये उनका ही कमाल था कि फूलन आत्मसमर्पण को राजी हो गईं. मध्य प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह के सामने उसने सरेंडर किया. उस समय उन पर 22 हत्या, 30 डकैती और 18 अपहरण के चार्जेज थे.

फूलन को 11 साल जेल में रहना पड़ा. मुलायम सिंह की सरकार ने 1993 में उन पर लगे सारे आरोप वापस लेने का फैसला किया. राजनीतिक रूप से ये बड़ा फैसला था. 1994 में फूलन जेल से छूट गईं. उम्मेद सिंह से उनकी शादी हो गई. इसके बाद फूलन राजनीति में कदम रखा.

1996 में फूलन देवी ने समाजवादी पार्टी से चुनाव लड़ा और जीत गईं. मिर्जापुर से सांसद बनीं. चम्बल में घूमने वाली अब दिल्ली के अशोका रोड के शानदार बंगले में रहने लगी. 1998 में हार गईं, पर फिर 1999 में वहीं से जीत गईं. 25 जुलाई 2001 को शेर सिंह राणा फूलन से मिलने आया. नागपंचमी के दिन उनके हाथ से खीर खाई और फिर घर के गेट पर फूलन को गोली मार दी. फूलन की हत्या के बाद राणा ने कहा था कि उसने बेहमई कांड का बदला लिया है. 14 अगस्त 2014 को दिल्ली की अदालत ने शेर सिंह राणा को आजीवन कारावास की सजा सुनाई.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें