scorecardresearch
 

JDU के पूर्व विधायक रामबालक सिंह 21 साल बाद दोषी करार, भेजे गए जेल, जानें पूरा मामला

जदयू विधायक रहे रामबालक सिंह और उनके भाई लालबाबू सिंह को जेल भेज दिया गया है. कोर्ट ने उन्हें आर्म्स एक्ट का दोषी पाया है. पूर्व विधायक के खिलाफ 2000 में केस दर्ज किया गया था. सजा पर सोमवार को बहस होगी.

पूर्व विधायक रामबालक सिंह. पूर्व विधायक रामबालक सिंह.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • विभूतिपुर से विधायक थे रामबालक सिंह
  • 2000 में दर्ज हुआ था आर्म्स एक्ट का केस
  • सोमवार को होगी सजा पर बहस

विभूतिपुर से जदयू विधायक रहे रामबालक सिंह और उनके भाई लालबाबू सिंह को जेल भेज दिया गया है. समस्तीपुर की कोर्ट ने उन्हें आर्म्स एक्ट का दोषी पाया है. पूर्व विधायक रामबालक सिंह और उनके भाई लालबाबू सिंह पर 2000 में सीपीएम के नेता ललन सिंह ने केस दर्ज कराया था. इन दोनों को क्या सजा मिलनी है, इस पर सोमवार (13 सितंबर) को बहस होगी. 

एडीजे कोर्ट के जस्टिस प्रणव कुमार ने दोनों को दोषी पाते हुए न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है. इनकी सजा पर सोमवार को सुनवाई होगी. इस फैसले के बाद पूर्व विधायक रामबालक सिंह ने कहा कि जो भी फैसला आया है, उसका सम्मान करते हैं. उन्होंने कहा कि तीन बाद कोर्ट क्या सजा सुनाती है, उसके बाद ही कुछ कहा जाएगा. उन्होंने इसे राजनीति से प्रेरित बताया है.

मामला 2000 का है. 4 मई 2000 को माकपा नेता ललन सिंह विभूतिपुर में एक शादी में गए थे. वहीं पूर्व विधायक रामबालक सिंह और उनके भाई लालबाबू सिंह ने उनपर हमला किया. ललन सिंह वहां से भागे तो दोनों ने उनका पीछा किया और उन्हें गोली मार दी. ये गोली उनके दाहिने हाथ की उंगली में लगी, जिससे वो जख्मी हो गए. बाद में ललन सिंह ने विभूतिपुर थाने में केस दर्ज कराया था.

ये भी पढ़ें-- यूपी: बाहुबली मुख्तार अंसारी की बढ़ी मुश्किलें, 24 साल पुराने केस में आरोप तय

इस मामले में पुलिस की ओर से चार्जशीट दाखिल होने के बाद 17 जनवरी 2012 को कोर्ट ने रामबालक सिंह और लालबाबू सिंह पर चार्ज फ्रेम किए. उसके बाद अलग-अलग तारीखों पर सुनवाई की वजह से मामला खींचता चला गया. 21 सालों तक चली लंबी बहस और सुनवाई के बाद कोर्ट ने शुक्रवार को दोनों को दोषी पाया है. 

कोर्ट ने उन्हें आईपीसी की धारा 324 और आर्म्स एक्ट की धारा 27 के तहत दोषी पाया है. धारा 324 में 3 साल की सजा का प्रावधान है और धारा 27 के तहत 3 से 7 साल तक की सजा का प्रावधान है. अगर कोर्ट दोनों को तीन साल तक की सजा सुनाती है, तो कोर्ट से ही उन्हें जमानत भी मिल सकती है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें