scorecardresearch
 

ब्लड क्लॉटिंग का रिस्क, अमेरिका में FDA ने Johnson & Johnson की वैक्सीन पर लगाई कई पाबंदियां

अमेरिका के फूड एंड ड्रग्स एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) ने जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन के इस्तेमाल को सीमित कर दिया है. अब ये वैक्सीन उन्हीं लोगों को लगेगी जिन्हें कोई दूसरी वैक्सीन नहीं लग सकती या फिर जो अपनी मर्जी से इसे लगवाना चाहते हैं.

X
अमेरिका में करीब 2 करोड़ लोगों को जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन लग चुकी है. (फाइल फोटो-AP/PTI) अमेरिका में करीब 2 करोड़ लोगों को जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन लग चुकी है. (फाइल फोटो-AP/PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सीरियस ब्लड क्लॉटिंग की आ रही थी शिकायत
  • फाइजर या मॉडर्ना की वैक्सीन लेने की सलाह

अमेरिका में जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन पर कुछ पाबंदियां लगा दी हैं. इसके बाद अब सभी लोगों को जॉनसन एंड जॉनसन की कोरोना वैक्सीन नहीं लगाई जाएगी. अमेरिका के फूड एंड ड्रग्स एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) ने एक बयान जारी कर इसकी पुष्टि की है. जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन पर पाबंदी ब्लड क्लॉटिंग के चलते लगाई गई है. कुछ लोगों में इस वैक्सीन के लगने के बाद ब्लड क्लॉटिंग की शिकायत सामने आई थी, जिसके बाद ये फैसला लिया गया है. 

जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन को FDA ने 27 फरवरी 2021 को इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दी थी. क्लीनिकल ट्रायल में ये वैक्सीन 66.3% तक असरदार साबित हुई थी. जॉनसन एंड जॉनसन अमेरिका में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाली तीसरी वैक्सीन है. इसके अलावा फाइजर और मॉडर्ना की वैक्सीन लगाई जा रही है.

लेकिन, अब जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन के इस्तेमाल को सीमित कर दिया गया है. FDA के मुताबिक, अब ये वैक्सीन 18 साल या उससे ऊपर के सभी लोगों को नहीं लगाई जाएगी. ये वैक्सीन सिर्फ उन्हीं को लगेगी जो कोई दूसरी वैक्सीन नहीं ले सकते या फिर अपनी मर्जी से ही इसे लगवाते हैं. अमेरिकी अधिकारी कई महीनों से लोगों से जॉनसन एंड जॉनसन की बजाय फाइजर या मॉडर्ना की वैक्सीन लगवाने की अपील कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें-- Corona New Wave: इसी गर्मी में कोरोना फिर बरपा सकता है कहर, Delta के सब-वैरिएंट ले रहे हैं खतरनाक रूप

FDA के मुताबिक, कुछ लोगों में जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन लगने के बाद दुर्लभ ब्लड क्लॉटिंग या ब्लीडिंग सिंड्रोम की शिकायत आ रही है, जिसे थ्रोम्बोसाइटोपेनिया सिंड्रोम (TTS) कहा जाता है. FDA ने बताया कि आमतौर पर वैक्सीन लगने के एक या दो हफ्तों बाद ही ऐसी शिकायत आ रही है.

सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल के मुताबिक, करीब 1.87 करोड़ अमेरिकियों को जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन लगाई गई है. वहीं, फाइजर की वैक्सीन 34 करोड़ से ज्यादा लोगों को लग चुकी है, जबकि 21.75 करोड़ से ज्यादा लोगों को मॉडर्ना की वैक्सीन दी गई है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें