scorecardresearch
 

GDP गिरने पर भी जश्न क्यों मना रही BJP, कांग्रेस ने ऐसे कसा तंज

चालू वित्त वर्ष (2019-20) की दूसरी तिमाही में भारत की विकास दर में बड़ी गिरावट आई है. जीडीपी का आंकड़ा अब 4.5 फीसदी पहुंच गया है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि देश की जीडीपी 4.5 फीसदी तक आ गई है. पिछले 6 साल में ये सबसे कम है. लेकिन बीजेपी किस बात का जश्न मना रही है.

कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला (फाइल) कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला (फाइल)

  • दूसरी तिमाही में जीडीपी का आंकड़ा 4.5% पहुंचा
  • कांग्रेस ने गिरावट पर सरकार पर साधा निशाना

आर्थिक मोर्चे पर मोदी सरकार को एक बार फिर झटका लगा है. चालू वित्त वर्ष (2019-20) की दूसरी तिमाही में भारत की विकास दर में बड़ी गिरावट आई है. अब जीडीपी का आंकड़ा 4.5 फीसदी पहुंच गया है. विकास दर में गिरावट के बाद विपक्ष को सरकार पर हमला करने का मौका मिल गया. कांग्रेस ने मोदी सरकार को आर्थिक नाकामी के लिए घेरा.

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि देश की जीडीपी 4.5% तक आ गई है. पिछले 6 साल में ये सबसे कम है. लेकिन बीजेपी किस बात का जश्न मना रही है, क्योंकि उनकी जीडीपी (गोडसे डिवाइसिव पॉलिटिक्स) डबल डिजिट ग्रोथ बताती है.

कांग्रेस ने भी इस गिरावट पर सरकार पर हमला बोलते हुए ट्वीट किया कि जीडीपी 26वें तिमाही में 4.5 फीसदी तक गिर गई है. बीजेपी हर दिन (नैतिकता, शासन और आंकड़ों) गिरने का रिकॉर्ड बना रही है.

कांग्रेस नेता सुप्रिया श्रीनेत ने जीडीपी के आंकड़ों पर कहा कि जिसका डर था उससे भी बदतर नंबर आए हैं. दूसरी तिमाही में आर्थिक वृद्धि का दर मात्र 4.5% है. भारत तीव्र आर्थिक मंदी के बीच में है और संकट गहरा गया है.

सरकार ने जारी किए आंकड़े

सरकार की ओर जारी नए आंकड़ों के मुताबिक भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था को और झटका लगा है. दरअसल, चालू वित्त वर्ष (2019-20) की दूसरी तिमाही में भारत की विकास दर में बड़ी गिरावट दर्ज की गई है. अब जीडीपी का आंकड़ा 4.5 फीसदी पहुंच गया . यह करीब 6 साल में किसी एक तिमाही की सबसे बड़ी गिरावट है.

इससे पहले मार्च 2013 की तिमाही में देश की जीडीपी दर इस स्‍तर पर थी. बता दें कि चालू वित्त वर्ष (2019-20) की पहली तिमाही में जीडीपी की दर 5 फीसदी पर थी. इस लिहाज से सिर्फ 3 महीने के भीतर जीडीपी की दर में 0.5 फीसदी की गिरावट आई है.

सरकार के ताजा आंकड़ों के मुताबिक एक साल पहले के मुकाबले कोर सेक्‍टर में 5.8%  की कमी दर्ज की आई है. कोर सेक्‍टर के 8 प्रमुख उद्योग में कोयला, क्रूड, ऑयल, नेचुरल गैस, रिफाइनरी प्रोडक्ट्स, फर्टिलाइजर्स, स्टील, सीमेंट और इलेक्ट्रिसिटी आती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें