scorecardresearch
 

विचार एवं विश्लेषण

पुलिस कांस्टेबल राकेश राणा, जिन्हें कर दिया गया था सस्पेंड.

एमपी पुलिस ने मान ली 'मूंछ' की महिमा....और बच गया राणा का 'रौब'

11 जनवरी 2022

हिंदुस्तान के साथ ही दुनियाभर में मूंछों को आन बान शान से जोड़ा जाता रहा है. मूंछें हमेशा मर्दों की पहचान रही हैं. बीते दिनों मध्य प्रदेश में मूंछों की वजह से एक पुलिस कांस्टेबल को सस्पेंड कर दिया गया तो खबर सुर्खियों में आ गई. मामला मूंछों का था तो हवा और तेज हो गई. अंतत: कांस्टेबल को बहाल कर दिया गया.

अल्लू अर्जुन, जॉन अब्राहम

साउथ सिनेमा के आगे धूल चाट रहा बॉलीवुड, क्या है इसका कारण?

08 जनवरी 2022

बॉलीवुड अगर तीसरे नंबर पर आ गया है तो इसके पीछे की वजह समझना बहुत जरूरी है, चलिए दिमाग के सारे घोड़े दौड़ा लीजिए और याद करके बताइए कि आखिरी बार बॉलीवुड की बायोपिक या रीमेक को छोड़कर आपने कौन सी अच्छी हिंदी फिल्म देखी है? तो बॉलीवुड की मीनारों और मेहराबों को एक दफे नाप लीजिए. 

 हना ने बताया कि इस तरह चार बार महिलाओं को निशाना बनाया गया

'ऐप पर मेरी ऑनलाइन बोली लग रही थी, तस्वीर देखकर डर गई थी', Sulli Deals पीड़िता का दर्द

04 जनवरी 2022

मुझे नहीं पता “sulli” का क्या मतलब है. मुझे इतना पता था कि यह कुछ गंदा है. मैंने अपने एक दोस्त से पूछा. उसने बताया कि यह मुस्लिम महिलाओं को दी जाने वाली गाली है. मैंने यह सिर्फ जानकारी के लिए पूछा था, लेकिन अब डर के साये में जी रही थी.

उद्धव ठाकरे की सेहत और राजनीति

उद्धव ठाकरे की सेहत और राजनीति

26 दिसंबर 2021

आदित्य ठाकरे ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि उद्धव मुख्यमंत्री के तौर पर काम कर रहे हैं. लेकिन मुख्यमंत्री का डेढ़ महीने से किसी खुले कार्यक्रम में ना दिखना अटकलों का बाजार गर्म कर रहा है. अगर समय पर हुए तो फरवरी 2022 में महाराष्ट्र में मुंबई समेत 12 महानगर पालिकाओं के चुनाव होने हैं.

कांग्रेस अब बदल रही है...

गर्व से कहो हम हिंदू हैं...

17 दिसंबर 2021

1987 में मुंबई में हुए एक विधानसभा उपचुनाव में शिवसेना ने हिंदू खतरे में हैं को मुद्दा बनाया था. ध्यान देने की बात यह है कि तब बीजेपी ने शिवसेना के खिलाफ जनता पार्टी के उम्मीदवार को समर्थन दिया था. लेकिन हिंदू या हिंदुत्व के मुद्दे पर शिवसेना ने कांग्रेस और बीजेपी समर्थित जनता पार्टी के उम्मीदवार को धूल चटाई थी.

रामायण से लेकर महाभारत तक, हर युग में संस्कारों का ह्रास

17 दिसंबर 2021

युगों की गणना प्रमुखतः दो विधियों से की जाती है. लेकिन सामान्यतः हम लोग एक ही विधि से परिचित हैं. इसलिए यह एक स्थापित मान्यता है कि कलयुग 432000 साल का होता है. अभी तो मात्र 5000 साल ही गुजरे हैं और इस हिसाब से यह जब खत्म होगा तब तक लगता है पृथ्वी पर जीवन समाप्त हो जाएगा.

सदगुरु के विचार

समावेशी भावना- नेतृत्व के लिए पहली आवश्यकता

01 दिसंबर 2021

कोई भी नेता, अगर अपने आस-पास के लोगों के साथ एकत्व और समावेश की भावना महसूस नहीं करते, तो वे सच्चे नेता नहीं हो सकते.

सद्गुरु, संस्थापक, ईशा फाउंडेशन

मैं भारतीय बुनकरों के कपड़े क्यों पहनता हूं और आपको भी क्यों पहनना चाहिए

13 नवंबर 2021

सप्ताह में कम से कम एक या दो दिन, आपको हाथों से बुने जैविक कपड़े पहनने चाहिए. यह आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में जबरदस्त अंतर लाएगा. आपको किसी की कही बात पर विश्वास करने की जरूरत नहीं है. आप खुद आजमाइए और देखिए कि कैसा महसूस होता है.

पसमांदा मुसलमानों पर राजनीति

भारतीय राजनीति में पिसते ‘पसमांदा’ मुसलमान

03 नवंबर 2021

भाजपा अपनी परम्परागत मुस्लिम विरोधी राजनीति से थोड़ा हटकर नए तरह का प्रयोग कर रही है. पहली बार भाजपा नेताओं की ज़बान से ‘पसमांदा मुसलमान’ शब्द सुनने को मिल रहा है.

तसलीमा नसरीन

बांग्लादेश में संविधान का इस्लामीकरण हुआ, शैय्या पर लोकतंत्र: तस्लीमा नसरीन

24 अक्टूबर 2021

लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्षता के आदर्शों ने बंगाली हिंदुओं, मुसलमानों, बौद्धों और ईसाइयों को एकता दी. लेकिन आजादी के 50 सालों के अंदर ही धर्मनिरपेक्षता की पुकार बहरे कानों पर पड़कर धराशायी होने लगी. बांग्लादेश में अब अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता जैसी कोई चीज नहीं है, लोकतंत्र ने भी शैय्या पकड़ ली है.

जानें क्या बोले श्री श्री रविशंकर

World Mental Health day: एकांत से गहरी प्रसन्नता की ओर

09 अक्टूबर 2021

जब आप पाते हैं कि जीवन व्यर्थ है, तो आप में एक खालीपन का भाव पैदा होता है. यह या तो आपको अवसाद की ओर ले जाता है, या वही शून्य आपके लिए उच्च चेतना की ओर बढ़ने का माध्यम बन सकता है.

सद्गुरु

सनातन धर्म अतीत की चीज नहीं है, यह हमारा भविष्य है

22 सितंबर 2021

Sadhguru article: सनातन धर्म शाश्वत नियम है. जीवन के कुछ खास तत्व या बुनियादी पहलू हैं जो हमेशा लागू होंगे. सनातन धर्म का मतलब है कि हमारे पास इस बात की अंतर्दृष्टि है कि जीवन हमेशा कैसे कार्य करता है. 

साहिल जोशी

राजनीतिक शतरंज के माहिर खिलाड़ी पवार कांग्रेस पर क्यों बरसे?

17 सितंबर 2021

एनसीपी नेता शरद पवार ने कांग्रेस की तुलना उत्तर प्रदेश के एक ऐसे जमींदार से की जो अपना पुराना वैभव, शानो-शौकत लुटा चुका है, लेकिन अब भी उसके अकड़ और नजरिए में बदलाव नहीं आया है. कई कांग्रेसियों ने निजी तौर पर माना कि वो सही कह रहे हैं.

सद्गुरु के विचार

इंसान होना ही अद्भुत है, आपके भीतर है सृष्ट‍ि का स्रोत

16 सितंबर 2021

लोग हमेशा भगवान, भगवान के लोगों या भगवान की कृपा से वंचित लोगों की बातें करते रहते हैं - क्योंकि उन्होंने मानव होने की विशालता का एहसास नहीं किया है. सृष्टि का स्रोत खुद आपके भीतर फंसा हुआ है, और हर दिन चमत्कार पर चमत्कार कर रहा है.

हामिद मीर, पाकिस्तान के वरिष्ठ पत्रकार

अफगानिस्तान में तालिबान के लिए यह अंतिम मौका है 

10 सितंबर 2021

Taliban in Afghanistan: आज अफगानिस्तान कमजोर है और तालिबान मजबूत दिख रहे हैं. लेकिन उन्हें अपने अस्तित्व के लिए ही अफगानिस्तान को एक बार फिर से मजबूत करना होगा.

ईशा फाउंडेशन के संस्थापक सद्गुरु

जो उचित हो, कृष्ण वही करने की सीख देते हैं

30 अगस्त 2021

कृष्ण शांति, प्रेम और करुणा के प्रतीक थे. उन्होंने शांति कायम करने की पूरी कोशिश की, लेकिन लड़ाई के मैदान में वे एक शूरवीर योद्धा थे. राजाओं के दरबार में जाते, तो वहां वे एक कुशल राजनेता होते थे. जब अपनी प्रेमिका के साथ होते, तो एक शानदार प्रेमी होते थे.

हामिद मीर, पाकिस्तान के वरिष्ठ पत्रकार

जून में ही मैंने काबुल के पतन का अनुमान लगा लिया था

29 अगस्त 2021

मैंने 22 जून, 2021 को यह लिखा कि अफगान तालिबान तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ. अशरफ गनी के कुछ करीबी लोगों के संपर्क में हैं और तालिबान कुछ लेन-देन के आधार पर उनके साथ डील करने की कोशि‍श कर रहे हैं.

सद्गुरु के विचार

मिट्टी को गंदगी न समझें

28 अगस्त 2021

हमारी संस्कृति में एक गहरी समझ है, कि हम धरती माता से ही पैदा हुए हैं. असली मां वह मिट्टी है, जिसे हम अपने शरीर के रूप में धारण करते हैं. पर आज दुनिया में मिट्टी को मैल या गंदगी कहा जाने लगा है.