scorecardresearch
 

साहित्य तक टॉप 10- कथा संकलनः साल 2021 की इन कहानियों में है कुछ खास, तभी तो यहां हैं

गांव की माटी में पनपते सहज संबंध हों या उठऊआ विवाह की कोशिश, प्रवासी धरती का अपराध हो या देवी-देवताओं से भरे किस्से. ये कथा संकलन हैं खास

इस साल जिन कथा संकलनों ने दिल छुआ इस साल जिन कथा संकलनों ने दिल छुआ

बुक कैफे की टॉप 10 पुस्तकों की इस कड़ी में किस्से-कहानियों की बारी है. किन कहानियों ने मन को छुआ, किन्होंने रिश्तों की बारीक डोर पकड़ी, किन्होंने समय के साथ या उसके विरोध में चलना स्वीकारा. साहित्य आजतक के साहित्य को समर्पित डिजिटल चैनल 'साहित्य तक' पर 'बुक कैफे' के तहत पुस्तक चर्चा की एक कड़ी इसी साल जनवरी में शुरू हुई थी. तब हमने कहा था- एक ही जगह बाजार में आई नई किताबों की जानकारी मिल जाए, तो किताबें पढ़ने के शौकीनों के लिए इससे लाजवाब बात क्या हो सकती है? अगर आपको भी है किताबें पढ़ने का शौक, और उनके बारे में है जानने की चाहत, तो आपके लिए सबसे अच्छी जगह है साहित्य तक का 'बुक कैफे', जहां आपको हर बार नई पुस्तकों की जानकारी मिलेगी.

इस शुरुआत के पीछे इंडिया टुडे समूह की सोच थी कि कोरोना महामारी के चलते अवरुद्ध हो गई पुस्तक संस्कृति के विकास को बढ़ावा दिया जाए. हमारा लक्ष्य इन शब्दों में साफ दिख रहा था- "आखर जो छपकर हो जाते हैं अमर... जो पहुंचते हैं आपके पास किताबों की शक्ल में...जिन्हें पढ़ आप हमेशा कुछ न कुछ पाते हैं, गुजरते हैं नए कथा लोक में. पढ़ते हैं, कविता, नज़्म, ग़ज़ल, निबंध, राजनीति, इतिहास या फिर उपन्यास...जिनसे पाते हैं जानकारी दुनिया-जहान की और करते हैं छपे आखरों के साथ ही एक यात्रा अपने अंदर की. साहित्य तक के द्वारा 'बुक कैफे' में हम आपकी इसी रुचि में सहायता करने की एक कोशिश कर रहे हैं."

आरंभ में इस कार्यक्रम के तहत किताबों पर साप्ताहिक राय रखी गई पर बाद में पुस्तक प्रेमियों के अनुरोध पर इसे 'एक दिन एक किताब' के नाम से दैनिक कर दिया गया. अब जब साल 2021 बीत रहा, तब उन्हीं किताबों में से टॉप 10 पुस्तकें चुनी गई हैं. साहित्य तक किसी भी रूप में इन्हें कोई रैंकिंग करार नहीं दे रहा. संभव है कुछ बेहतरीन पुस्तकें हम तक पहुंची ही न हों, या कुछ पुस्तकों की चर्चा रह गई हो. फिर भी पूरी पारदर्शिता से साहित्य तक ने अनुवाद, कथेतर, कथा, उपन्यास और कविता के क्षेत्र से साल 2021 की टॉप 10 पुस्तकों का चयन किया है. हिंदी कथा के क्षेत्र में जिन टॉप 10 कहानी-संकलनों ने अपनी जगह बनाई है, वे हैं-

गुलाबी नदी की मछलियां, सिनीवाली. लेडीज़ पार्टियों और रंगीनियों को लांघ कर गांव की कच्ची डगर और धूल मिट्टी में जीनेवाले लोगों की गाथा, जिनमें प्रेम की कोंपले अपनी पूरी मासूमियत संग मौजूद हैं. लेखन में कहन का भाव हिंदी कथा जगत को समृद्ध करता है. प्रकाशक- अंतिका प्रकाशन

* हाथ तो उग ही आते हैं, श्यौराज सिंह बेचैन,  देश की सांस्कृतिक बहुलता तथा साहित्यिक विविधता की कहानियां, जो आजादी के इतने सालों बाद भी उपेक्षित व अछूते पात्रों की त्रासद और दुखभरी कथाएं कहती हैं. प्रकाशक- वाणी प्रकाशन

* आखिरी दावत और अन्य कहानियां, खालिद जावेद. बाजार की तफरीह, मोलभाव, धोखा, कथित सफलता और अहंकार के बीच मानवीय सभ्यता व मनोवृत्ति के आपस में टकराने की जुगुप्सा भरी कहानियां, जिनका गद्यात्मक प्रवाह कविता सा प्रतीत होता है. प्रकाशक- सूर्य प्रकाशन मंदिर बीकानेर

* पुत्रिकामेष्टि, सच्चिदानंद जोशी. कहन के अंदाज, विषयवस्तु की दृष्टि से अनूठी रचनाएं, जिनमें हमारे परिवारों के मिश्रित संस्कारों और सामाजिक तानबाने के बीच मजहब और जाति की दीवारे टूटती हैं और उच्च मानवीय संबंधों की झलक मिलती है. प्रकाशक- सामयिक प्रकाशन

* अब पल्लवी आज़ाद थी, सूर्य कुमार उपाध्याय. हमारे समय में जिंदगी के हर पहलू से जुड़ी कहानियां. महानगर में संवेदना, संबंध, रिश्तों की उठापटक के बीच भावनात्मक और भौतिकवाद से जुड़ी कहानियां, जिनमें हास्य रस, रौद्र रस, श्रृंगार रस, करूण रस और अद्भुत रस शामिल हैं. प्रकाशक- रेडग्रेब बुक्स  

* नीला पर्दा, कादंबरी मेहरा. यूरोप की पृष्ठभूमि पर लिखी गईं रहस्य, रोमांच से भरी अपराध कथाएं, जो प्रवासी एशियाई समाज के जीवन और संघर्ष को उजागर करने के साथ ही ब्रिटिश पुलिस के प्रोफेशनल तरीके को भी उजागर करती हैं. प्रकाशक- मनसा पब्लिकेशंस  

* आको-बाको, दिव्य प्रकाश दुबे. अलग-अलग शहरों में रहने वाले आम और ख़ास लोगों की आधी-अधूरी हसरतों को नए शेड में दिखाने की कोशिश करती कहानियां. नई वाली हिंदी के इस शानदार लेखक ने अपनी किस्सागोई का अंदाज कायम रखा है. प्रकाशक- हिन्द युग्म प्रकाशन

*  ...और तुझे क्या चाहिए, उषा राजे सक्सेना. दो संस्कृतियों के परस्पर संघर्ष से अधिक सामंजस्य से उपजी मानवीय अनुभूतियों की कहानियां. प्रवासी भारतीयों ने दुनिया के दूसरे देशों में किस तरह अपने संपर्क और भावों को बरकरार रखा. प्रकाशक- सामयिक प्रकाशन

* 'वह लौट आया और अन्य कहानियां', श्री एम. एक आध्यात्मिक, धार्मिक गुरु की सृजन-यात्रा को उजागर करती कहानियां हैं, जो पोंगापंथ, रूढ़ियों और भ्रम का निवारण करती हैं.  'आखिरी दिन' व 'नाग देवी' उम्दा कहानी. प्रकाशक- पेंगुइन इंडिया

* अपेक्षाओं के बियाबान, निधि अग्रवाल. दुखों का वर्गीकरण नहीं हो सकता, जीवनावलोकन की अनूठी कहानियां हैं. विधा भी अलग है. प्रकाशक- बोधी प्रकाशन

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×