scorecardresearch
 

प्रोफाइल

वीर संन्यासी विवेकानंद

विवेकानंद: वह योद्धा संन्यासी, जो दुनिया जीतने आया था!

12 जनवरी 2023

स्वामी विवेकानंद संन्यासी होते हुए भी किसी वीर योद्धा की तरह भारत को पतन और निराशा के गर्त से बचाने के लिए रात-दिन संघर्ष कर रहे थे.

उम्दा और अनूठे शायर हरजीत सिंहः अपनी शायरी से आज भी जिंदा

बढ़ई से अनूठी शायरी तक हरजीत सिंह, 10 चुनिंदा ग़ज़लें

05 जनवरी 2023

इक्कीस बरस हो गये हरजीत को हमसे अलविदा कहे. इक्कीस साल कम नहीं होते, एक पीढ़ी जवान हो जाती है इक्कीस साल में. आज हरजीत के दोस्त जिस तरह हरजीत की स्मृतियों को संजोने का काम कर रहे हैं, वह पहले क्यों नहीं किया?

मैनेजर पांडेयः हिंदी को अपनी तरह के इस अनूठे आलोचक की कमी खलेगी

स्‍मृति शेषः मैनेजर पांडेय, खलेगी आलोचना में सच की कमी

06 नवंबर 2022

हिंदी के जाने माने आलोचक डॉ मैनेजर पांडेय हमारे बीच नहीं रहे. वे मंचों पर दोटूक और सच बोलने वाले इने-गिने आलोचकों में एक थे.

एनी अरनोः साहित्य की नोबेल पुरस्कार विजेता 2022 [सौजन्यः अरनो सोशल मीडिया हैंडल]

एनी अरनो: अतीत की तह में पैठ खुद को उधेड़ने वाली लेखिका

07 अक्टूबर 2022

बेबाकी, साफगोई, बारीकी और ईमानदारी से लिखी गई अरनो की कृतियों को हमेशा नारीवाद से जोड़कर देखा गया. अरनो ने इसे कभी छिपाया भी नहीं. वे मानती हैं कि 'मेरा काम राजनीतिक है'

साल 2012 से ही रणवीर सिंह इप्टा के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे

प्रख्यात रंगकर्मी रणबीर सिंह का 93 साल की उम्र में निधन, जयपुर में ली अंतिम सांस

23 अगस्त 2022

'इप्टा' के राष्ट्रीय अध्यक्ष रणवीर सिंह का जयपुर में निधन हो गया. वह 93 वर्ष के थे. देश में उन्हें रंगकर्मी ही नहीं बल्कि निर्देशक, अभिनेता, लेखक और इतिहासकार के तौर पर भी जाना जाता है. उनके निधन पर देशभर के रंगकर्मियों, कलाकारों और साहित्यकारों ने शोक जताया है.

हिंदी के वयोवृद्ध साहित्यकार डॉ रामदरश मिश्रः विभिन्न छवियां

रामदरश मिश्र की कविताओं में जीवन का अजस्र सोता बहता है!

17 अगस्त 2022

हिंदी के एक बड़े कद के मूर्धन्य कवि रामदरश मिश्र ने सही अर्थ में कविसिद्धता हासिल कर ली है. वे बेहद सीधे-सरल और सम्माननीय कवि हैं, जो कविताएं लिखते ही नहीं, कविताएं जीते भी हैं

भारतीय किसान जीवन की बानगी 'गोदान'

प्रेमचंद जयंती विशेषः आज भी जिंदा है गोदान का होरी

31 जुलाई 2022

साहित्य से अनजान लोगों की जुबान पर भी प्रेमचंद और उनके उपन्यास 'गोदान' का नाम आसानी से मिल जाता है. उपन्यास सम्राट की जयंती पर हम बता रहे आपको इसकी वजह

रचनाकार चिंतक नरेंद्र मोहन और प्रकाश मनु [इनसेट में]

नरेंद्र मोहन की याद में कविताः मैंने निंदर से बातें की हैं

30 जुलाई 2022

कवि नरेंद्र मोहन से प्रकाश मनु के बड़े अद्भुत संबंध थे. उनकी जयंती पर मनु ने 'मैंने निंदर से बातें की हैं' कविता लिखी है. यह कविता भी है, और कविता के रूप में लिखा गया एक मार्मिक संस्मरण भी

ओम भारतीः अपनी तरह के अनूठे कवि

जयंती विशेषः गाती हुई जुलाई के कवि ओम भारती

01 जुलाई 2022

यों तो बेहतरीन लेखन के बावजूद ओम भारती हिंदी की मुख्य धारा की कविता में ज्यादा जगह नहीं घेरते; पर अब जब वे नहीं हैं, यह कहने में हिचक नहीं कि कविता में आज के दौर में उन जैसा प्रतिरोधी स्वरों वाला कवि हिंदी में नहीं है. कवि की जयंती पर पढ़िए यह लेख

वरिष्ठ साहित्यकार प्रकाश मनुः एक अलहदा अंदाज

प्रकाश मनु: एक शख्स बिल्कुल अलग सा

13 मई 2022

बहुत दिनों से सोच रही थी, प्रकाश मनु जी पर कुछ लिखूं, जिनके साथ जिंदगी का एक लंबा सफर तय किया है. पर लिखना इतना आसान है क्या? अनंत उतार-चढ़ाव, लंबे सुख-दुख और अनकही व्यथाओं वाली एक लंबी कहानी है, उसे कहां से शुरू करूं?

रचनाकार, कलाकार हरिपाल त्यागीः यारों के यार

संस्मरणः मेरे अनन्य सहचर हरिपाल त्यागी

02 मई 2022

हरिपाल त्यागी जिंदगी, जिंदादिली और उम्मीदों से भरे शख्स थे, जिनसे मिलने पर दुख की परछाईं तक आपके पास नहीं फटक सकती थी. मन में आस्था की एक लौ सी जागती थी.

प्रोफेसर रामदरश मिश्रः सृजनात्मकता से भरा सादगीपूर्ण जीवन

रामदरश मिश्र: दो सरस्वतियों के साधक का तीर्थतुल्य‍ मान

15 अप्रैल 2022

रामदरश मिश्र को ईश्वर ने न केवल लंबा जीवन दिया है बल्कि उन्होंने इस जीवन का बेहतरीन सदुपयोग रचना में किया है. उनके कृतित्व और व्यक्तित्व पर एक नज़र