scorecardresearch
 

प्रोफाइल

लुईस ग्लिक, साहित्य की नोबेल पुरस्कार विजेता 2020

लुईस ग्लिक जैसी कवयित्री के नोबेल पुरस्कार जीतने के मायने

14 अक्टूबर 2020

साहित्‍य के सर्वोच्‍च पुरस्‍कार के केंद्र में एक अरसे बाद कोई कवयित्री थी, वह भी अमेरिकी कवयित्री लुईस ग्‍लिक. ग्‍लिक के पुरस्‍कृत होने के मायने शब्दों की दुनिया के लिए क्या है? पढ़ें यह विश्लेषण

काका हाथरसी [फाइल फोटो]

काका हाथरसी जानते थे कि आने वाले कल के नेता, पुलिस व देश ऐसा होगा

30 सितंबर 2020

हाथरस अभी चर्चा में है. एक बेटी के कथित बलात्कार, बर्बर हत्या, दबंगों के जुल्म और पुलिसिया व्यवहार को लेकर. लेकिन वही हाथरस कभी काका हाथरसी के कटाक्ष के लिए जाना जाता था. ऐसा-व्यंग्य जिसमें आज के हालात के संकेत भी थे.

राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर [फाइल फोटो]

जयंती विशेष: दिनकर की 'उर्वशी', जिसमें प्रेम कामध्‍यात्‍म के तटों को छूता है

23 सितंबर 2020

दिनकर जितने राष्‍ट्रीयता, ओज और वीर रस के कवि थे, उतने ही श्रृंगार के भी अद्भुत कवि थे. उर्वशी इसका प्रमाण है. दिनकर की जयंती पर उनके श्रृंगार काव्य की एक पड़ताल

नई कविता आंदोलन के वरिष्ठ कवि कुंवर नारायण [ फाइल फोटो]

जयंती विशेषः नैतिक जीवन मूल्यों के कवि कुंवर नारायण

19 सितंबर 2020

कुंवर नारायण आज होते तो 93 वर्ष के होते. जो कभी गांधी जैसे महापुरुष से न मिला हो, वह कुंवर नारायण से मिलकर यह जान सकता था कि सच्‍ची वैष्‍णवता क्‍या होती है. कुंवर नारायण की जयंती पर खास लेख

बाल कवि द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

पुण्‍यतिथि विशेषः यदि होता किन्नर नरेश मैं वाले कवि द्वारिका प्रसाद माहेश्‍वरी की याद

29 अगस्त 2020

हिंदी प्रदेश का बच्‍चा-बच्‍चा जिस एक कवि को सबसे ज्‍यादा पढ़ता-सुनता और पसंद करता आया है उनमें निश्चय ही द्वारिका प्रसाद माहेश्‍वरी का नाम भी शामिल है. साहित्य आज तक के लिए आज पुण्‍यतिथि पर याद कर रहे हैं उन पर पुस्‍तक लिखने, उनकी रचनावली का संपादन करने वाले डॉ ओम निश्‍चल

त्रेपन सिंह चौहान (Photo- Facebook)

आखिरकार जिंदगी की जंग हार गया पहाड़ का 'स्टीफन हॉकिंग'

13 अगस्त 2020

त्रेपन सिंह चौहान को केवल 49 साल की कम उम्र नसीब हुई. वह अपने समाज के लिए स्टीफन हॉकिंग थे तो स्पार्टाकस भी थे. इस छोटी सी जिंदगी के विभिन्न आयामों में वह इतने सक्रिय रहे कि अपनी आने वाली पीढ़ियों के लिए मिसाल और बड़ी जिम्मेदारी छोड़कर गए हैं.

कवि गोपालदास 'नीरज' [फाइल फोटो]

पुण्‍यतिथि विशेषः स्वप्न झरे फूल से मीत चुभे शूल से लिख सकने वाले नीरज

19 जुलाई 2020

नीरज का गीतकार अभावों में पला है तभी उसके कंठ में इतनी मिठास है. हूक है. इन्हीं अभावों में नीरज ने जीना सीखा तथा दुनिया को जीना सिखाया भी.

कवि गोपालदास 'नीरज' [फाइल फोटो]

स्मृति शेष: नीरज, ऐसा दे दो दर्द मुझे तुम मेरा गीत दिया बन जाए

19 जुलाई 2020

प्राणों और सांसों में बस जाने वाले गीतों के रचयिता गोपालदास नीरज की यह दूसरी पुण्‍यतिथि है. उन्होंने निज के अभावों और पीड़ा को भी गान में बदल दिया था.

कवि आलोक धन्वा [ फाइल फोटो ]

जन्मदिन विशेषः आलोक धन्‍वा, कविता में वाचिक विद्रोह व प्रेम का वैभव

02 जुलाई 2020

साहित्‍य में एक दौर ऐसा भी रहा है कि लोग आलोक धन्‍वा को खोजने व उनसे मिलने पटना पहुंच जाया करते थे. उनके जन्‍मदिन पर उनके कवि कर्म पर रोशनी

कवि केदारनाथ अग्रवाल [ फाइल फोटो ]

पुण्‍यतिथि विशेषः मांझी न बजाओ वंशी वाले केदारनाथ अग्रवाल

22 जून 2020

मेहनतकश और किसानों को अपनी कविता के केंद्र में रखने वाले केदारनाथ अग्रवाल की पुण्यतिथि पर उनकी कविता के विशेषत्‍व पर साहित्य आजतक की खास प्रस्तुति

डॉ नंदकिशोर नवल [ फोटोः विनोद कुमार]

प्राचीन एवं नवीन के सेतु नंदकिशोर नवलः ज्ञानेन्द्रपति ने लिखा नमन लेख

14 मई 2020

नामवरोत्तर हिंदी आलोचना में कृतिकेंद्रित साहित्यिक आलोचना विशेषकर काव्यालोचन के क्षेत्र में नंदकिशोर नवल का नाम निस्संदेह अग्रगण्य है.