scorecardresearch
 

माइग्रेन के मरीजों के लिए बुरी खबर, हो सकते हैं बहरे, जानें- कैसे

माइग्रेन है तो जरूर पढ़ें ये खबर...

प्रतीकात्मक फोटो प्रतीकात्मक फोटो

जिन्हें माइग्रेन हैं उन मरीजों के लिए ये खबर चिंता का विषय बन सकती है. एक रिपोर्ट के अनुसार सामने आया है कि जिन लोगोें को माइग्रेन हैं उनमें सुनने की क्षमता कम हो सकती है वहीं मरीज बहरा भी हो सकता है.

बता दें, हाल ही में हुई एक स्टडी की रिपोर्ट में ये बात सामने आई है. जिसमें माइग्रेन से पीड़ित लोगों को कान बजने की शिकायत के साथ-साथ कान के भीतरी हिस्से में कोई विकार भी हो सकता है.

 प्रेग्नेंसी में तुलसी खाने से होते हैं ये 5 फायदे

ये है बहरे होने की वजह

शोधकर्ताओं ने पाया कि कान की तंत्रिका में खराबी के कारण माइग्रेन की शिकायत हो सकती है. खासतौर से माइग्रेन के मरीजों में कान बजने की संभावना ज्यादा होती है. कान की तंत्रिका संबंधी विकृति से कान का भीतरी हिस्सा प्रभावित होता है. इसी हिस्से में झनझनाहट या कान बजने की शिकायत होती है जिसे 'सेंसोरीन्यूरल हियरिंग इंपेयरमेंट' कहते हैं. इससे अचानक बहरापन भी पैदा हो सकता है.

 शरीर में इस तरह फैलता है कैंसर, ये होते हैं प्रमुख लक्षण

शोधकर्ताओं ने बताया है कि इस स्टडी के माध्यम से कान की तंत्रिका यानि 'कॉक्लीयर माइग्रेन' के बारे में पता लगाने में मदद मिल सकती है.

बता दें, यह स्टडी 'जामा ऑटोलेरिंगोलोजी जर्नल' में प्रकाशित की गई है. इस स्टडी में शामिल लोगों में 1,056 मरीज शामिल थे, जिन्हें माइग्रेन की शिकायत थी. इसके अलावा टीम में 4,224 लोग ऐसे भी थे जिन्हें माइग्रेन की शिकायत नहीं थी. नतीजों में सामने आया है कि माइग्रेन के मरीजों में कान की विकृति माइग्रेन रहित लोगों की तुलना में 12.2 फीसदी ज्यादा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें