scorecardresearch
 

KGMU में 66 साल के कैंसर पेशेंट ने कोरोना को दी मात, ठीक होकर लौटा घर

केजीएमयू के कुलपति एमएलबी भट्ट ने बताया कि गंभीर बीमारी से पीड़ित व्यक्ति के कोरोना वायरस के संक्रमण से रिकवर करने की संभावना काफी कम होती है. कैंसर से पीड़ित व्यक्ति का रिकवर करना सकारात्मक संदेश है.

प्रतीकात्मक तस्वीर (PTI) प्रतीकात्मक तस्वीर (PTI)

  • लखनऊ के केजीएमयू में चल रहा था उपचार
  • अस्पताल से डिस्चार्ज, वीसी ने बताया सकारात्मक

कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों और इस बीमारी के कारण मरने वालों की तादाद भी लगातार बढ़ती ही जा रही है. इस वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए सरकार ने देश में लॉकडाउन लागू किया, लेकिन फिर भी कोरोना का संक्रमण तेज गति से फैल रहा है. हर दिन नए मामलों में रिकॉर्ड वृद्धि हो रही है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

इन सबके बीच देश में कोरोना पॉजिटिव मरीजों के ठीक होने की तादाद राहत की बात है. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में 66 साल के एक मरीज ने कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से पीड़ित होने के बावजूद कोरोना को मात दे दी. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार पूरी तरह ठीक होने के बाद इस मरीज को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

मरीज का उपचार लखनऊ के किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (केजीएमयू) में चल रहा था. इस संबंध में केजीएमयू के कुलपति एमएलबी भट्ट ने बताया कि गंभीर बीमारी से पीड़ित व्यक्ति के कोरोना वायरस के संक्रमण से रिकवर करने की संभावना काफी कम होती है.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

उन्होंने कैंसर से पीड़ित व्यक्ति के कोरोना संक्रमण से रिकवर करने को सकारात्मक संदेश बताया और कहा कि यह ऐसे अन्य मरीजों के लिए भी उम्मीद भरा है. गौरतलब है कि देश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की तादाद सवा लाख के पार पहुंच चुकी है. इस बीमारी के कारण 3700 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है, वहीं 51000 से अधिक मरीज पूरी तरह स्वस्थ होकर अस्पताल से डिस्चार्ज किए जा चुके हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें