scorecardresearch
 

राहुल के वीडियो को मायावती ने बताया नाटक, कहा- मजदूरों की दुर्दशा कांग्रेस की देन

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रवासी मजदूरों से बातचीत का एक वीडियो अपने यूट्यूब चैनल पर अपलोड किया है. इसमें उन्होंने 16 मई 2020 को सुखदेव विहार फ्लाईओवर के पास मजदूरों से बातचीत के कुछ अंश डाले हैं.

राहुल गांधी पर मायावती का निशाना राहुल गांधी पर मायावती का निशाना

  • श्रमिकों की दुर्दशा के लिए पहले की कांग्रेस सरकार जिम्मेदार
  • प्रवासियों के साथ वाला वीडियो राहुल की हमदर्दी कम, नाटक ज्यादा

कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सरकार ने लॉकडाउन का सहारा लिया. लेकिन इस दौरान प्रवासी मजदूरों को होने वाली मुश्किलों को लेकर सरकार निशाने पर रही. शनिवार को पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रवासी मजदूरों से बातचीत का एक वीडियो अपने यूट्यूब चैनल पर अपलोड किया.

इसमें उन्होंने 16 मई 2020 को सुखदेव विहार फ्लाईओवर के पास मजदूरों से बातचीत के कुछ अंश डाले हैं. बीएसपी (बहुजन समाज पार्टी) प्रमुख मायावती ने इस वीडियो को नाटक करार दिया है. इसके साथ ही प्रवासी श्रमिकों की दुर्दशा के लिए भी पहले की कांग्रेस सरकार को जिम्मेदार ठहराया है.

मायावती ने अपने ट्विटर हैंडल पर कई ट्वीट किए हैं. पहले ट्वीट में उन्होंने श्रमिकों की दुर्दशा के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार बताते हुए लिखा, 'आज पूरे देश में कोरोना लॉकडाउन के कारण करोड़ों प्रवासी श्रमिकों की जो दुर्दशा दिख रही है उसकी असली कसूरवार कांग्रेस है क्योंकि आजादी के बाद इनके लंबे शासनकाल के दौरान अगर रोजी-रोटी की सही व्यवस्था गांव/शहरों में की गई होती तो इन्हें दूसरे राज्यों में पलायन नहीं करना पड़ता?'

वहीं दूसरे ट्वीट में यूट्यूब पर जारी किए गए वीडियो को लेकर मायावती ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा, 'वैसे ही वर्तमान में कांग्रेसी नेता द्वारा लॉकडाउन त्रासदी के शिकार कुछ श्रमिकों के दुःख-दर्द बांटने संबंधी जो वीडियो दिखाया जा रहा है वह हमदर्दी वाला कम व नाटक ज्यादा लगता है. कांग्रेस अगर यह बताती कि उसने उनसे मिलते समय कितने लोगों की वास्तविक मदद की है तो यह बेहतर होता.'

उन्होंने आगे लिखा, 'साथ ही, बीजेपी की केन्द्र व राज्य सरकारें कांग्रेस के पदचिन्हों पर ना चलकर, इन बेहाल घर वापसी कर रहे मजदूरों को उनके गांवों/शहरों में ही रोजी-रोटी की सही व्यवस्था करके उन्हें आत्मनिर्भर बनाने की नीति पर यदि अमल करती हैं तो फिर आगे ऐसी दुर्दशा इन्हें शायद कभी नहीं झेलनी पड़ेगी.'

पार्टी के लोगों से अपील करते हुए मायावती ने लिखा, 'बीएसपी के लोगों से भी पुनः अपील है कि जिन प्रवासी मजदूरों को उनके घर लौटने पर उन्हें गांवों से दूर अलग-थलग रखा गया है तथा उन्हें उचित सरकारी मदद नहीं मिल रही है, ऐसे लोगों को अपना मानकर उनकी भरसक मानवीय मदद करने का प्रयास करें. मजलूम ही मजलूम की सही मदद कर सकता है.'

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

वित्त मंत्री ने बताया था नाटकबाज

इससे पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी को ड्रामेबाज बताते हुए कहा था कि उन्होंने मजदूरों के साथ बैठकर, उनसे बात करके उनका समय बर्बाद किया. सड़क पर बैठकर बात करने से मजदूरों की समस्या का हल नहीं होगा. उन्हें मजदूरों के साथ सामान उठाकर उनके साथ पैदल जाना चाहिए था. उन्हें मजदूरों के बच्चों को और उनके सामान को उठाकर उनके साथ चलना चाहिए था.

निर्मला सीतारमण ने कहा था कि मजदूरों के साथ बैठकर बातें करने से क्या होगा, मजदूरों के साथ बैठकर बातें करने के बजाय राहुल गांधी अपने मुख्यमंत्रियों को ज्यादा ट्रेनों के लिए क्यों नहीं कह रहे हैं, क्या ये ड्रामा नहीं है.

निर्मला ने कहा था कि राहुल अगर मदद करना चाहते थे तो मजदूरों का सामान उठाकर उनके साथ पैदल कुछ दूर तक चलते ही फिर उनकी मदद होती, सड़क किनारे बैठकर बातें से केवल उनका वक्त बर्बाद किया.

और पढ़ें- राहुल गांधी पर वित्त मंत्री का पलटवार, मजदूरों का सामान उठाकर पैदल चलते तो होती मदद

राहुल ने यूट्यूब पर जारी की एक वीडियो

राहुल गांधी ने आज सुबह अपने यूट्यूब चैनल पर एक वीडियो साझा की है. 17 मिनट के इस वीडियो की शुरुआत प्रवासी मजदूरों के पलायन के दर्द को दिखाने वाले दृश्यों से की गई है.

बाद में लोगों की जुबानी उनका दर्द बताया गया है. झांसी के रहने वाले महेश कुमार कहते हैं, 120 किलोमीटर चले हैं. रात में रुकते रुकते आगे बढ़े. मजबूरी है कि हमलोगों को पैदल जाना है. एक अन्य महिला कहती हैं, बड़े आदमी को दिक्कत नहीं है. हम तीन दिन से भूखे मर रहे हैं. बच्चा भी है हमारा साथ में, वो भी तीन दिन से भूखा-प्यासा है. एक अन्य महिला कहती हैं कि जो भी कमाया था पिछले दो महीनों में खत्म हो गया है. इसलिए अब पैदल ही घर निकल पड़े हैं.

एक शख्स ने बताया कि 21 तारीख की शाम को पता चला कि 22 मार्च को भारत बंद है. हमें लगा कि एक दिन का गैप है. चार दिन के बाद फिर से सब कुछ बंद हो गया. राहुल गांधी ने पूछा कि अगर पता होता कि चार दिन बाद फिर से सब बंद होने वाला है तो क्या करते? तो परिवार वालों ने बताया कि घर निकल जाते. पिछले दो महीने से घर से पैसे मंगवा रहे हैं. घर वाले गेहूं बेच कर हमें पैसा भेज रहे हैं उसी से गुजारा हो रहा है. हमने तीन लॉकडाउन तक तो इंतजार किया लेकिन अब लगा पता नहीं आगे क्या होगा, इसलिए घर निकल पड़े.

और पढ़ें- सरकार से एक रुपये की नहीं मिली मदद, राहुल के साथ बातचीत में छलका मजदूरों का दर्द

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने पूछा कि फिर वापस आएंगे आप लोग? इसके जवाब में शख्स ने कहा कि फिलहाल तो जान बचाने की सोच रहे हैं बस. राहुल ने पूछा कि आपने घर के सामान का क्या किया? इसके जवाब में परिवार वालों ने कहा कि जान बची तो लाखों पाओ. सारा सामान वहीं छोड़कर निकल गए हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें