scorecardresearch
 

जयपुर: हिन्दू-मुस्लिम कपल को OYO के होटल ने रूम देने से किया इनकार

राजस्थान की राजधानी जयपुर में एक मुस्लिम व्यक्ति और हिन्दू महिला को OYO के एक होटल द्वारा रूम देने से इनकार करने का मामला सामने आया है. OYO के तहत रजिस्टर्ड सिल्वरकी होटल ने सिर्फ इसलिए दोनों को रूम देने से इनकार कर दिया क्योंकि दोनों अलग-अलग धर्म से संबंध रखते थे.

प्रतीकात्मक तस्वीर (रॉयटर्स) प्रतीकात्मक तस्वीर (रॉयटर्स)

  • जयपुर में हिन्दू-मुस्लिम कपल को नहीं मिला रूम
  • होटल मैनेजर ने कहा पुलिस का निर्देश है, नहीं दे सकते रूम

राजस्थान की राजधानी जयपुर में एक मुस्लिम व्यक्ति और हिन्दू महिला को OYO के एक होटल द्वारा रूम देने से इनकार करने का मामला सामने आया है. OYO के तहत रजिस्टर्ड सिल्वरकी होटल ने सिर्फ इसलिए दोनों को रूम देने से इनकार कर दिया क्योंकि दोनों अलग-अलग धर्म से संबंध रखते थे.

दरअसल, उदयपुर के 31 वर्षीय सहायक प्रोफेसर, शनिवार को जयपुर पहुंचे और OYO सिल्वरकी होटल में चेक इन किया. इसके बाद उनकी महिला मित्र बाद में दिन में वहां आना था. लेकिन होटल द्वारा दोनों को रूम शेयर करने की इजाजत देने से इनकार कर दिया गया.

होटल ने प्रोफेसर से क्या कहा?

प्रोफेसर ने इंडिया टुडे से बताया, 'मैंने गोईबिबो द्वारा कपल फ्रेंडली होटल सर्च किया और जयपुर के टोंक फाटक पर स्थित सिल्वरकी होटल को यहां ठहरने के लिए बुक किया. इसके बाद मैं वहां थोड़ा पहले ही पहुंच गया जबकि मेरी महिला मित्र को वहां शाम को आना था. जल्दी पहुंचने के बाद मैं फ्रेश होने चला गया और जब आया तो होटल वालों ने पूछा कि आपका दूसरा दोस्त कहां है... इसके बाद मैंने उन्हें नाम बताया. उन्होंने कहा, आप एक अलग धर्म से हैं. इसीलिए, हम आपको रुकने की अनुमति नहीं दे सकते. मैंने कहा, यहां तो सभी प्रकार की चीजें आपने अपने टर्म -कंडिशन में शामिल किया हुआ है जिसमें अविवाहित जोड़े भी शामिल है. इसके बाद उन्होंने कहा, यदि आप अविवाहित होते और एक ही धर्म के होते, तो कोई समस्या नहीं होती. लेकिन आप अविवाहित हैं और विभिन्न धर्म के हैं, इसीलिए समस्या है. इसलिए हम आपको रूम नहीं दे सकते.'

लिखित में मांगने पर होटल ने कहा- नहीं दे सकते

जब प्रोफेसर ने लिखित में इसका प्रमाण मांगा, तो होटल प्रबंधन कोई भी प्रमाण उपलब्ध नहीं करा सका. हालांकि, उन्हें बताया गया कि ऐसा करने के लिए उनके पास पुलिस के निर्देश थे.

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए प्रोफेसर ने कहा, 'मैंने कहा, अगर इस तरह का नियम कहीं भी लिखा गया है तो आप इसे लिखित रूप में मुझे दिखाएं. उन्होंने कहा, नहीं साहब, यह पुलिस का मामला है और हम आपको अनुमति नहीं दे सकते. मैंने कहा, जो भी है, मैं सभी नियमों का पालन करता हूं, मैं एक कानून का पालन करने वाला नागरिक हूं और मैं चीजों को समझने के लिए काफी समझदार हूं. मुझे कोई समस्या नहीं है और यह भी जानना है कि स्थिति से कैसे निपटना है. आप केवल मुझे लिखित रूप में दे दीजिए, बस इतना ही करना है आपको और कुछ नहीं.'

उस शख्स ने ऑनलाइन ऐप, जिसके जरिए उसने बुकिंग की थी, गोईबिबो के साथ बात की. इसके बाद गोईबिबो ने प्रोफेसर को न केवल दोगुनी राशि का भुगतान किया, बल्कि उनके लिए दूसरा रूम भी बुक किया, जो पहले के मुकाबले बेहद खराब था.

बाद में पहुंची असिस्टेंट प्रोफेसर की महिला मित्र को दूसरे होटल में रुकना पड़ा. उन्होंने इस घटना को चौंकाने वाला करार दिया और दावा किया कि जब से वो एक दूसरे को जानते है तब से यह ऐसा पहला और सबसे बुरा अनुभव था.

हिन्दू महिला मित्र ने कहा- चौंकाने वाला अनुभव था

अपनी पहचान उजागर न करने की शर्त पर महिला ने इंडिया टुडे को बताया कि वो और प्रोफेसर पिछले 13 साल से दोस्त हैं और उनके बीच धर्म कभी मुद्दा नहीं बना. लेकिन अचानक ऐसा होना चौंकाने वाला था. उदयपुर के सहायक प्रोफेसर ने भी कहा कि उन्होंने इस तरह की स्थिति का सामना पहले नहीं किया था.

प्रोफेसर ने बताया, 'गोईबिबो ने अपनी वेबसाइट और ऐप पर ऐसा कुछ भी उल्लेख नहीं किया है और इस बारे में उन्होंने मेरे से भी कोई बात नहीं कही. Goibibo ने बस यही कहा कि यह पुलिस के हस्तक्षेप का मामला है और यही कारण है कि हम इसमें कुछ नहीं कर सकते. यह किस तरह का तर्क था?'

इंडिया टुडे ने सिल्वरकी होटल के मैनेजर से बार-बार मिलने की कोशिश की लेकिन बताया गया कि मैनेजर गोवर्धन, जिन्होंने कथित तौर पर दोनों को रूम देने से इनकार किया था वो छुट्टी पर हैं. इंडिया टुडे को यह भी बताया गया कि जिस रजिस्टर में एंट्री की गई थी, उसे ऑडिट के लिए भेज दिया गया.

हालांकि, सहायक प्रोफेसर ने इंडिया टुडे को बताया कि गोवर्धन ही वो मैनेजर थे, जिन्होंने शनिवार को होटल में रूम देने से इनकार कर दिया था.

OYO ने सफाई में क्या कहा?

OYO ने इंडिया टुडे के लिए जारी एक बयान में कहा, 'OYO होटल और होम्स दुनिया भर के मेहमानों के लिए गुणवत्ता वाले जीवन का अनुभव देने के लिए प्रतिबद्ध हैं, फिर चाहे वो किसी भी जाति, धर्म, राष्ट्रीय मूल, विकलांगता, लिंग, वैवाहिक स्थिति, आयु, आदि से संबंध रखते हों. हम किसी भी प्रकार के भेदभाव को बर्दाश्त नहीं करते हैं और तत्काल सख्त कदम उठाते हैं, जिसमें होटल के मालिकों के साथ कांट्रैक्ट को खत्म करना भी शामिल है. अगर किसी के साथ भेदभाव किया जाता है तो वो OYO की कार्य नीतियों के मूल सिद्धांतों का गंभीर उल्लंघन के तहत आता है.'

OYO ने कहा, 'उन्होंने मैनेजर्स के कार्यों की जांच शुरू की है जिसके कारण ग्राहक को असुविधा हुई है. साथ ही इस दुर्भाग्यपूर्ण अनुभव के लिए ईमानदारी से माफी मांगते हैं.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें