scorecardresearch
 

पराली से 4 फीसदी प्रदूषण पर प्रकाश जावड़ेकर की सफाई, दिल्ली के प्रदूषण में 40 फीसदी हिस्सेदारी

प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि उनके कहने का मतलब था कि पराली का चार फीसदी प्रदूषण इस हफ्ते का है. दिल्ली के प्रदूषण में पराली की हिस्सेदारी चालीस फीसदी तक है.

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (फाइल फोटो) केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दिल्ली में फिर से बढ़ रहा है प्रदूषण
  • पराली की वजह से सिर्फ चार फीसदी प्रदूषण होता है: प्रकाश जावड़ेकर
  • केंद्रीय मंत्री ने विवाद बढ़ने पर दी सफाई

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बयान दिया था कि दिल्ली में पराली की वजह से सिर्फ चार फीसदी प्रदूषण होता है. उनके इस बयान पर विवाद भी हुआ. वहीं, अब केंद्रीय मंत्री ने सफाई दी है. उन्होंने कहा कि उनके कहने का मतलब था कि पराली का चार फीसदी प्रदूषण इस हफ्ते का है. दिल्ली के प्रदूषण में पराली की हिस्सेदारी चालीस फीसदी तक है.

इससे पहले प्रकाश जावड़ेकर ने बयान दिया था कि दिल्ली में पराली की वजह से सिर्फ चार फीसदी प्रदूषण होता है, बाकि प्रदूषण यहां की ही लोकल समस्याओं के कारण होता है. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि दिल्ली में बायोमास जलती है. ये सभी कारक मिलकर राष्ट्रीय राजधानी में प्रदूषण संकट में योगदान करते हैं.

उनके इस बयान पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि बार-बार इनकार करने से कुछ नहीं होगा. अगर पराली जलने से सिर्फ चार फीसदी प्रदूषण हो रहा है तो फिर अचानक रात में ही कैसे प्रदूषण फैल गया? उससे पहले तो हवा साफ थी. यही कहानी हर साल होती है. कुछ ही दिनों में दिल्ली में प्रदूषण को लेकर ऐसा कोई उछाल नहीं हुआ है?

देखें: आजतक LIVE TV

गौरतलब है कि हर साल की तरह इस साल भी दिल्ली में धुंध की समस्या शुरू हो गई है. दिल्ली, पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी यूपी के इलाकों में अब पराली जलना शुरू हो गई है, जिसके कारण धुंध इकट्ठा हो रही है. सरकार के ही आंकड़ों के मुताबिक, पंजाब में पिछले साल की तुलना में पराली जलाने की घटनाओं में 280% का इजाफा हुआ है. पिछले साल पंजाब में 21 सितंबर से 12 अक्टूबर तक 775 पराली जलाने की घटनाएं रिपोर्ट हुई थीं जो इस साल इसी अवधि में 2,873 तक पहुंच गई हैं.  

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें