scorecardresearch
 

तालिबान से संघ की तुलना: जावेद अख्तर की मुश्किलें बढ़ीं, मिले मानहानि के दो नोटिस, माफी की मांग

जावेद अख्तर ने राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ और तालिबान की तुलना (Javed Akhtar RSS and Taliban Statement) की थी. इसपर उनको दो-दो मानहानि के नोटिस मिल चुके हैं.

गीतकार जावेद अख्तर (फाइल फोटो) गीतकार जावेद अख्तर (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • जावेद अख्तर के खिलाफ मानहानि नोटिस
  • जावेद अख्तर पर संघ के खिलाफ टिप्पणी करने का आरोप

संघ और तालिबान की तुलना करने के मामले पर गीतकार जावेद अख्तर (Javed Akhtar) की मुश्किलें बढ़ गई हैं. तालिबान से संघ की तुलना करने वाले बयान पर उनके खिलाफ एक वकील ने आपराधिक मानहानि की शिकायत की है, वहीं दूसरे वकील ने भी मानहानि का नोटिस भेजा है, साथ ही कहा है कि वह 100 करोड़ की क्षतिपूर्ति की मांग करेंगे.

एडवोकेट धृतिमान जोशी जो कि संघ से जुड़े हैं उन्होंने अख्तर के खिलाफ कुर्ला कोर्ट का रुख किया है. जोशी ने कहा कि उन्होंने 4 सितंबर को एक प्रोग्राम देखा था जो कि आतंकी संगठन तालिबान पर था जिसमें अख्तर ने तालिबान की तुलना संघ से की. अपनी शिकायत में जोशी ने कहा है कि आरोपी (अख्तर) ने यह बयान सोच-समझकर प्लानिंग के साथ दिया था, जिससे ऐसे लोगों को हतोत्साहित, तिरस्कृत और गुमराह किया जा सके जो संघ से जुड़े हैं या फिर जुड़ने वाले हैं.

दूसरे वकील ने की माफी की मांग

जोशी के अलावा मुंबई के एक वकील संतोष दुबे ने भी गीतकार जावेद अख्तर पर केस किया है. उन्होंने अख्तर की टिप्पणी को 'झूठी और अपमानजनक' बताया है और बिना किसी शर्त के माफी की मांग की है.वकील संतोष दुबे ने कहा है कि अगर जावेद अख्तर बिना शर्त लिखित में माफी नहीं मांगते हैं और नोटिस मिलने के सात दिनों के अंदर अपने सभी बयानों को वापस नहीं लेते हैं, तो वह उनपर 100 करोड़ रुपये की क्षतिपूर्ति की मांग करते हुए एक आपराधिक मामला भी दायर करेंगे.

वकील ने नोटिस में कहा कि इस तरह का बयान IPC की धारा 499 (मानहानि) और 500 (मानहानि के लिए सजा) के अंतर्गत आता है.

बता दें कि जावेद अख्तर (76) ने एक हालिया साक्षात्कार में तालिबान और हिंदू अतिवादियों के कथित तौर पर एक समान होने का दावा किया था. अख्तर ने यह कथित टिप्पणी एक समाचार चैनल को दिए इंटरव्यू में की थी. अख्तर ने कहा था कि पूरी दुनिया में दक्षिणपंथियों में एक अनोखी समानता है. गीतकार ने आरएसएस का नाम लिए बिना कहा था, ‘तालिबान एक इस्लामी देश चाहता है. ये लोग एक हिंदू राष्ट्र बनाना चाहते हैं.’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें