scorecardresearch
 

शिवसेना-BJP में सीटों पर सहमति लेकिन CM पद पर तय नहीं हुआ कोई फॉर्मूला

2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी-शिवसेना ने मिलकर चुनाव लड़ा था, लेकिन कुछ महीने के बाद ही राज्य में विधानसभा चुनाव में सीट शेयरिंग को लेकर खींचतान ऐसी बढ़ी कि 25 साल पुराना गठबंधन टूट गया था. दोनों दल अलग-अलग विधानसभा चुनाव लड़े.

महाराष्ट्र में दोस्ती बरकरार (PTI-फाइल फोटो) महाराष्ट्र में दोस्ती बरकरार (PTI-फाइल फोटो)

लोकसभा चुनाव के बाद अब महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव की सियासी बिसात बिछाई जाने लगी है. सत्ताधारी बीजेपी-शिवसेना आम चुनाव के तर्ज पर ही इस बार के विधानसभा चुनाव में मिलकर कांग्रेस-एनसीपी का मुकाबला करेंगी. इसके लिए बीजेपी-शिवसेना गठबंधन के बीच सीटों पर समहति बनी हुई है, लेकिन दोनों दलों के बीच मुख्यमंत्री पद का फॉर्मूला अभी भी तय नहीं है.

बता दें कि लोकसभा चुनाव में महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन ने शानदार सफलता दर्ज की. हालांकि कहानी यहीं खत्म नहीं होती, बल्कि शुरू होती है. कुछ ही महीने बाद सूबे में होने वाले विधानसभा चुनाव तक इस गठबंधन को बरकरार रखते हुए ऐसी ही सफलता को दोहराने की बड़ी चुनौती है. इसके लिए दोनों दलों के बीच सीट शेयरिंग का फॉर्मूला पहले से ही तय है.

महाराष्ट्र की कुल 288 विधानसभा सीटों में से बीजेपी-शिवसेना दोनों दल बराबर-बराबर सीटों पर चुनाव लड़ेंगे. इसका मतलब यह है कि 144 सीटों पर शिवसेना और 144 सीटों पर बीजेपी अपनी किस्मत आजमाएंगी. लेकिन मुख्यमंत्री पद के लिए बारी-बारी से ढाई-ढाई साल या जिसे ज्यादा सीटें मिले उसका सीएम हो, इनमें से किसी भी फॉर्मूले पर कोई सहमति नहीं बनी है.

इंडिया टुडे को दिए इंटरव्यू में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने कहा है कि मुझे नहीं लगता है कि हम इस समझौते से पीछे हटने जा रहे हैं. हम दोनों ही अच्छे से समझ चुके हैं और हमने अब मन बना लिया है कि साथ मिलकर चुनाव लड़ेंगे. हमारा पहला लक्ष्य विधानसभा चुनाव में 288 में से 220 सीटें जीतना है.

मुख्यमंत्री के पद के फॉर्मूले पर देवेंद्र फड़नवीस ने कहा कि जहां तक मुख्यमंत्री पद की बात है तो मुझे नहीं लगता है कि हम किसी भी फॉर्मूले के लिए राजी हुए हैं कि यह ढाई-ढाई साल होगा या चुनाव में जिसे ज्यादा सीटें आती हैं, उसे मुख्यमंत्री मिलेगा. वक्त जब आएगा तो हम तय कर लेंगे. सीएम फड़नवीस के बयान के बाद साफ है कि मुख्यमंत्री पद के किसी फॉर्मूले पर अभी तक शिवसेना और बीजेपी के बीच कोई सहमति नहीं बनी हुई है और चुनाव नतीजे के बाद ही इस सवाल का हल दोनों दल तलाश करेंगे.

दरअसल 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी-शिवसेना ने मिलकर चुनाव लड़ा था, लेकिन कुछ महीने के बाद ही राज्य में विधानसभा चुनाव में सीट शेयरिंग को लेकर खींचतान ऐसी बढ़ी कि 25 साल पुराना गठबंधन टूट गया था. दोनों दल अलग-अलग विधानसभा चुनाव लड़े. बीजेपी को 122 सीटें और शिवसेना 63 सीटें मिली थी. इसके बाद दोनों दलों ने मिलकर राज्य में सरकार बनाई थी.

दरअसल महाराष्ट्र की सियासत में 2014 से पहले शिवसेना राज्य में बीजेपी के बड़े भाई की तरह व्यवहार करती रही है. इसी का नतीजा है कि सूबे की कुल 288 विधानसभा सीटों में से 171 सीटों पर शिवसेना और 117 सीटों पर बीजेपी लड़ती रही.

शिवसेना अधिक सीटों पर लड़ती थी, तो अधिक सीटें जीतती भी थी. हालांकि लड़ी गई सीटों पर जीत का प्रदर्शन बीजेपी का ही बेहतर रहता था. लेकिन सीटों की कुल संख्या में पीछे रह जाने के चलते बीजेपी मुख्यमंत्री पद की दावेदारी में पीछे रह जाती थी. 2014 के विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी बराबरी की सीटों पर लड़कर अधिक सीटें जीतने वाले को मुख्यमंत्री पद देने की मांग पर अड़ गई. नतीजा रहा कि गठबंधन टूट गया. पिछले विधानसभा चुनाव में महाराष्ट्र की सियासत बीजेपी का ग्राफ बढ़ने के बाद शिवसेना भी इस बात को बाखूबी समझ चुकी है कि बराबर-बराबर सीटों के फॉर्मूले पर चुनाव लड़कर अपनी ताकत का एहसास करें.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें