scorecardresearch
 

आईआरसी लीग और अविष्कार मेकथॉन का समापन, बच्चों ने दिखाए अपने हुनर

दोनों प्रतियोगताओं की चैंपियन टीमों को अब रूस में आयोजित रोबोटिक्स प्रतियोगिता में देश का नेतृत्व करने का मौका मिलेगा.

प्रतियोगिता में शामिल बच्चे (फोटो-नयनिका सिंघल) प्रतियोगिता में शामिल बच्चे (फोटो-नयनिका सिंघल)

दिल्ली के त्यागराज स्टेडियम में आयोजित दो दिवसीय साइंस और रोबोटिक्स के सबसे बड़े महोत्सव का रविवार को विजेताओं के चयन के साथ समापन हो गया. इस महोत्सव में दो अलग-अलग प्रतियोगिताएं आईआरसी लीग और अविष्कार मेकथॉन आयोजित किए गए. अविष्कार मेकथॉन में मौलसरी के श्रीराम स्कूल की टीम को मेकथॉन का चैंपियन चुना गया जिन्होंने दृष्टिहीनों के लिए एक अनोखा चश्मा बनाया है. वहीं आईआरसी लीग में गुरुग्राम के स्कॉटिश हाई इंटरनेशनल को विजेता चुना गया. दोनों प्रतियोगताओं की चैंपियन टीमों को अब रूस में आयोजित रोबोटिक्स प्रतियोगिता में देश का नेतृत्व करने का मौका मिलेगा.

गौरतलब है कि त्यागराज स्टेडियम में दो दिवसीय आईआरसी लीग सीजन 9 और अविष्कार मेकथॉन का आयोजन किया गया. यह आयोजन बच्चों के लिए रोबोट्स बनाने वाली कंपनी अविष्कार ने किया गया था. इसमें पूरे देश के अलग-अलग राज्यों से करीब 350 से अधिक टीमों ने हिस्सा लिया. इसमें 1500 से भी अधिक बच्चों ने विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग के क्षेत्रों में अपनी महारत दिखाई और कई अद्भुत व अनोखे अविष्कार पेश किए. एक ओर अविष्कार मेकथॉन में राज्यों से आए स्कूलों की टीमों ने अपने इनोवेशन पेश किए तो आईआरसी लीग में 'आरएमई (मिशन और अभियान में रोबोट)' को काफी बढ़ावा दिया गया और यहां एशिया की सबसे बड़ी रोबोटिक्स प्रतियोगिता देखी गई.

'अविष्कार मेकथॉन' एक मंच है जहां महत्वाकांक्षी बच्चे अपने इनोवेशन लेकर आगे आए और साइंस व रोबोटिक्स के क्षेत्र में अपने जुनून को सभी के सामने पेश किया. इस कार्यक्रम को और अधिक रोमांचक बनाने के लिए एक शो आविष्कार औरोरा सहित इंटरैक्टिव कार्यशाला भी आयोजित की गई. आईआरसी स्कूल लीग के 17 क्वालीफायर राउंड हुए. इसमें हिमाचल प्रदेश से लेकर तमिलनाडु तक पूरे देश के अलग-अलग राज्यों से बच्चे शामिल थे. दोनों प्रतियोगिताओं के प्रत्येक दौर में प्रतिभागियों ने राष्ट्रीय स्तर पर अपनी जगह बनाने के लिए कड़ा मुकाबला दिखाया.

इस आयोजन पर आविष्कार के फाउंडर और सीईओ तरुण भल्ला ने कहा, "आईआरसी लीग सीजन 9 और अविष्कार मेकथॉन में प्रतिभागियों ने गजब का उत्साह दिखाया है और साइंस व तकनीक का इस्तेमाल कर असाधारण इनोवेशन किए. हमारा मकसद है कि साइंस और रोबोटिक्स में चाह होने के बावजूद संसाधनों की कमी की वजह से जो हम पूरा नहीं कर सके, उन संसाधनों को इस मंच के माध्यम से ऐसे बच्चों तक पहुंचाया जा सके. हमें खुशी है कि उम्मीद के अनुरूप लीग में क्रिएटिविटी के साथ कड़ा कंपटीशन और रोमांच देखा गया. इसे यहां आए लोगों ने भी काफी पसंद किया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें