scorecardresearch
 

भारत में कोरोना के बढ़ते खौफ के बीच WHO ने दी ये चेतावनी

COVID-19 Sublineages: कोरोना बढ़ते हुए मामलों ने स्वास्थ एजेंसियों की चिंता बढ़ा दी है. हाल ही में डबल्यूएचओ ने ओमिक्रॉन और कोविड-19 के आने वाले नए वैरिएंट, सब-लीनेज को लेकर चिंता जारी की है. WHO ने क्या चेतावनी दी है, इस बारे में आर्टिकल में जानेंगे.

X
WHO की महामारी विशेषज्ञ डॉ. मारिया वान केरखोव. WHO की महामारी विशेषज्ञ डॉ. मारिया वान केरखोव.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ओमिक्रॉन के नए वैरिएंट सामने आ रहे हैं
  • WHO ने चेतावनी देते हुए अपनी बात रखी
  • कोरोना से अभी भी मौतें हो रही हैं

देश और दुनिया में कोविड-19 के कई वैरिएंट सामने आ चुके हैं. इन वैरिएंट्स के कारण बढ़ने वाले मामलों से फिर से देश और दुनिया पर कोरोना का खतरा मंडराने लगा है. भारत में कई राज्यों ने मास्क को अनिवार्य कर दिया है और स्वास्थ विभाग कोरोना के मामलों की बारीकी से मॉनिटरिंग कर रहा है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) भी समय-समय पर कोरोना की स्थिति, नए वैरिएंट, उनकी संक्रामकता आदि के बारे में अपडेट दे रहा है. हाल ही में WHO ने बड़ी चेतावनी जारी की है. WHO का कहना है कि कोरोना का अगला वैरिएंट चिंता का कारण हो सकता है. WHO की महामारी विशेषज्ञ डॉ. मारिया वान केरखोव ने कहा, वर्तमान में दुनिया भर में सबसे अधिक मामले ओमिक्रॉन के ही हैं. साथ ही साथ इसके सबवैरिएंट बीए.4, बीए.5, बीए.2.12.1 पर भी नजर रखी जा रही है. 

अगर वैरिएंट कौन सा होगा?

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, यह बताना मुश्किल है कि अगला कोविड-19 वैरिएंट कौन सा होगा? हमारे लिए यह एक चिंता का महत्वपूर्ण कारण बना हुआ है. हमें अभी अलग-अलग परिस्थितियों के मुताबिक प्लान बनाने की जरूरत है. हमारे पास ऐसी तकनीक हैं जो जान तो बचा सकती हैं, लेकिन उन्हें पूरी प्लानिंग के साथ उपयोग करने की आवश्यकता है. फिलहाल वैक्सीन ही इस बीमारी से लड़ने का सबसे अच्छा तरीका है.

खतरा अभी टला नहीं है: WHO प्रमुख

डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस एडनम घेब्रेसियस (Tedros Adhanom Ghebreyesus) के मुताबिक, टेस्टिंग में आई कमी की वजह से कोरोना के खतरे पर लोगों का ध्यान नहीं जा रहा.

पिछले हफ्ते कोरोना से मौतों की संख्या में कमी आई है और दुनिया भर में सिर्फ 15 हजार मौतें पिछले हफ्ते हुईं. जो कि मार्च 2020 के बाद से अब तक सबसे कम मौतें हैं. 

WHO प्रमुख टेड्रोस ने आगे कहा, मौत के आंकड़े में कमी राहत भरी है और इसका स्वागत करना चाहिए. लेकिन इन आंकड़ों का कम होना टेस्टिंग कम होना भी हो सकता है. कम आंकड़ों ने हमें अंधा कर दिया है और हम इसके म्यूटेशन और खतरे को नहीं देख पा रहे हैं. इस घातक वायरस का खतरा अभी भी बना हुआ है और अभी भी लोगों की जान ले रहा है.

ग्लोबल डायग्नोस्टिक्स एलियांज FIND के प्रमुख  विलियम रोड्रिग्ज ने प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि पिछले 4 महीनों में ओमिक्रॉन वैरिएंट के कारण कोरोना के मामले बढ़ने के बावजूद दुनिया भर में कोरोना के टेस्ट की संख्या में 70 से 90 प्रतिशत तक की कमी आई है. 

पिछले 24 घंटे में आए 3303 केस

भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 3303 नए मामले सामने आए हैं. इससे पहले मंगलवार को कोरोना के 2,927 नए मामले सामने आए थे. वहीं, 32 लोगों की मौत कोरोना से हुई थी. 

भारत में एक्टिव केस बढ़कर 16980 हो गए हैं. यह कुल केसों का 0.04% हैं. भारत में रिकवरी रेट अभी भी 98.74% हैं. पिछले 24 घंटे में कोरोना से 2563 मरीज ठीक हुए हैं. अब तक कुल 4.25 करोड़ लोग कोरोना से ठीक हो चुके हैं. डेली पॉजिटिविटी रेट 0.66% है. वहीं, वीकली पॉजिटिविटी रेट 0.61% है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें