scorecardresearch
 

टिकटॉक बैन पर बोलीं कॉमेडियन कुशा कपिला, टैलेंट किसी एप पर निर्भर नहीं करता

यूट्यूब हो या इंस्टाग्राम कुशा कपिला तमाम प्लेटफॉर्म्स पर फैन्स को हंसाने की कोशिश में लगी रहती हैं. अब उन्होंने इंडिया टुडे के e-Mind Rocks 2020 में सोशल मीडिया कंटेंट, टिक टॉक बैन और एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के बारे में बात की है. आइए आपको बताएं उन्होंने क्या कहा.

कुशा कपिला कुशा कपिला

सोशल मीडिया स्टार कुशा कपिला को आखिर कौन नहीं जानता. कुशा कपिला इंटरनेट पर छाई हुई हैं. यूट्यूब हो या इंस्टाग्राम कुशा तमाम प्लेटफॉर्म्स पर फैन्स को हंसाने की कोशिश में लगी रहती हैं. अब उन्होंने इंडिया टुडे के e-Mind Rocks 2020 में सोशल मीडिया कंटेंट, टिक टॉक बैन और एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के बारे में बात की है. आइए आपको बताएं उन्होंने क्या कहा.

इंटरनेट सेंसेशन होने के फायदे और नुकसान

कुशा कपिला ने बताया कि वे पहले एक साधारण नौकरी किया करती थीं. बाद में उन्होंने वीडियोज पर ध्यान देना शुरू किया. कुशा एक फैशन डिजाइनर बनने की पढ़ाई कर रही थीं लेकिन जब उन्हें सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर बनने का मौका मिला तो उन्होंने इसे ले लिया. कुशा ने कहा- मैंने एक समय पर इस बारे में सोचा था लेकिन जब ये करना शुरू किया तो लगा कि जिंदगी को एक नया मौका मिल गया है.

मैं कम्पटीशन में नहीं मानती. मैं मानती हूं कि हर चीज के लिए एक ऑडियंस है. आपको बहुत प्यार मिल सकता है. लेकिन आपका रिलेवेंट होना जरूरी है. वहीं सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर होने के फायदे और नुकसान के बारे में कुशा ने कहा कि वे इस काम को अपने तरीके से कर सकती हैं और ये एक उद्योग चलाने जैसी नौकरी है जो कि बहुत अच्छा है.

उन्होंने कहा- मैं अपने हिसाब से अपना कंटेंट तैयार करती हूं और उसे एन्जॉय भी करती हूं. मुझे बहुत से लोग पसंद करते हैं. बहुत से परिवार साथ मिलकर मेरा कंटेंट देखते हैं. मुझे मैसेज में कई बार तारीफ मिली है. एक खराब बात बस यही है कि आपको दिन-रात एक करके सारा काम करना पड़ता है. आपको लगातार नए आईडिया सोचने पड़ते हैं जो कि थकाने वाली बात है.

टिक टॉक बैन पर ये है कुशा की राय

कुशा कपिला ने कहा कि ये एक ऐसी चीज है जिसे नेशनल सिक्यूरिटी के लिए किया गया है. मुझे नहीं लगता कि मैं इसपर कुछ कह सकती हूं. लेकिन कंटेंट क्रिएटर्स को कुशा ने जरूर सलाह दी. उन्होंने कहा- मुझे नहीं लगता कि आपका टैलेंट एक एप पर निर्भर करता हैं. अगर आपके पास टैलेंट है तो आप किसी भी एप पर उसका प्रदर्शन कर सकते हैं. इस समय आपके पास जो टैलेंट है उसे कई और शिफ्ट करें. यूट्यूब पर डालें, इंस्टाग्राम पर डालें. यूट्यूब पर आप अपने काम से पैसे भी कमा सकते हैं. मैं हर क्रिएटर को कहना चाहूंगी कि आप जितने ज्यादा सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर रहें उतना अच्छा है.

सुशांत सिंह राजपूत के बारे में बोलीं कुशा

कुशा कपिला ने बताया कि सुशांत का जाना उनके लिए किसी अपने के जाने जैसा है. इस बात को बताते हुए वे थोड़ा इमोशनल भी हो गई थीं. उन्होंने खुलासा किया कि फिल्म सोन चिड़िया के समय पर उन्होंने एक वीडियो के लिए सुशांत संग काम किया था. कुशा कहती हैं- मुझे उनके साथ सिर्फ एक बार बहुत छोटे से वक्त के लिए काम करने का मौका मिला था. वे बेहद प्रोफेशनल थे, बहुत आसानी से कोई भी सीन कर ले रहे थे, काफी शांत स्वाभाव के थे और बहुत अच्छे थे. अब जब उनके बारे में सोचती हूं तो यकीन नहीं होता.

सुशांत के साथ-साथ कुशा ने मेंटल हेल्थ के बारे में भी बात की. उन्होंने कहा कि वे खुद भी थेरेपी के लिए जाती हैं. अगर वो ऐसा ना करतीं तो वो भी यहां इतनी सुलझी हुई ना होतीं. दुनिया में बहुत से थेरापिस्ट हैं जिसने आप मदद ले सकते हैं. आप जरूर उनसे मदद लें. सभी के लिए अपना ख्याल रखना बेहद जरूरी है. इसमें किसी को मदद लेने से शर्माना नहीं चाहिए.

ये थे कुशा कपिला के मैजिक मोमेंट

कुशा ने बताया कि उनकी जिंदगी के सबसे बेहतरीन मोमेंट में से एक एक्टर पंकज त्रिपाठी के साथ काम करना था. उन्होंने कहा- मैं जब पंकज त्रिपाठी के पास स्क्रिप्ट लेकर गई थी तो मुझे उनके साथ काम करने में बेहद मजा आया था. वो बहुत अच्छे से अपना काम करने हैं. आप मानिये कि वे कैमरा के साथ रोमांस करते हैं और स्क्रिप्ट के साथ मस्ती करते हैं. तब मुझे पता चला कि हम बहुत अच्छे समय में काम कर रहे हैं जिसमें मेरे जैसी एक सोशल मीडिया क्रिएटर पंकज जी जैसे कमल के टैलेंटेड इंसान के साथ का कर रही है. इसलिए मुझे कोलैबोरेशन करना पसंद है. उन्हें लाइव परफॉर्म करना बहुत ही अद्भुत एहसास था.

नेपोटिज्म का सामना कर चुकी हैं कुशा?

कुशा ने नेपोटिज्म के सवाल पर बताया कि जिस इंडस्ट्री में वो प्यार करती हैं, उसमें उन्होंने ऐसा कुछ नहीं देखा. वे इंटरनेट में काम करती हैं जिसमें उनकी जाति या कुछ और से फर्क नहीं पड़ता. उनका कंटेंट ही उनका सबकुछ है. इंटरनेट पर नेपोटिज्म जैसा कुछ नहीं है. मेरी दुनिया एकदम अलग है.

इसके साथ ही कुशा कपिला ने सफलता को हैंडल करने के बारे में भी बात की. उन्होंने कहा कि लोगों को सफलता मिलने के बाद भी बहुत ज्यादा फोकस उसपर नहीं करना चाहिए. ताकि अगर वो चली भी जाए तो आपको बहुत ज्यादा दुख ना हो. कुशा कहती हैं कि इंसान के लिए अपने आप पर काम करना जरूरी है. यही वो भी सीख रही हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें