scorecardresearch
 

Major Review: अदिवि शेष-प्रकाश राज का कमाल, एक्शन और इमोशन्स से भरी फिल्म देख नहीं रोक पाएंगे आंसू

Major Review: मेजर संदीप उन्नीकृष्णन की जिंदगी पर बनी फिल्म मेजर रिलीज हो चुकी है. इस फिल्म में संदीप की पर्सनल लाइफ के साथ उनका 2008 में हुए 26/11 हमले में लोगों की जान बचाने और अपनी जान की कुर्बानी देने की कहानी को दिखाया गया है. इमोशन्स और एक्शन से भरी इस फिल्म को देखने के लिए यूं तो प्लान बना ही रहे होंगे. लेकिन अगर आप इसे देखने के लिए सही कारण ढूंढ रहे हैं, तो पढ़िए हमारा रिव्यू.

X
मेजर फिल्म में अदिवि शेष
मेजर फिल्म में अदिवि शेष
फिल्म:मेजर
4/5
  • कलाकार : अदिवि शेष, प्रकाश राज, रेवती, सई मांझरेकार, शोभिता धुलिपाला
  • निर्देशक :शशि किरण तिक्का

What it means to be a soldier? फौजी होना क्या है? इस सवाल का जवाब बहुत कम ही लोग दे सकते हैं, लेकिन असली फौजी की पहचान करना बिल्कुल मुश्किल बात नहीं है. 

जब हम और आप अपनी जिंदगी की परेशानियों की शिकायत रहे होते हैं या आराम फरमा रहे होते हैं, तब देश के कई हिस्सों में हमारी हिफाजत करने की तैयारी एक फौजी कर रहा होता है. उसे अपने आप की और सिर्फ अपने परिवार या प्यार की चिंता नहीं होती, बल्कि वो तो देश के बारे में सोचता है. ऐसा ही एक फौजी था संदीप उन्नीकृष्णन. 

3 जून 2022 को रिलीज हुई फिल्म मेजर, संदीप उन्नीकृष्णन के जीवन और देश के लिए उनके शहीद होने की कहानी है. एक लड़का जो बचपन से ही फिल्म कंमाडो का फैन रहा, बड़े होते हुए नेवी में जाने का सपना देखता था और बाद में उसकी किस्मत उसे आर्मी में लेकर आई. फौजी बनने से पहले ही संदीप रक्षक थे. किसी को भी मुश्किल में देखते तो उसे बचाने निकल पड़ते. खुद को चोट लगने की चिंता उन्हें नहीं थी. यही चीज उन्हें 26/11 के हमले में ट्रेनिंग अफसर होने के बावजूद भी लड़ाई के लिए लेकर गई. उन्हें बस लोगों को बचाना था. खुद के बारे में वो बाद में सोचते थे.

फिल्म मेजर में आप एक बार फिर 2008 में मुंबई में हुए देश के सबसे बड़े हमले की कहानी को देखेंगे. लेकिन इस बार कहानी में एक हीरो भी है. ये कहानी संदीप उन्नीकृष्णन के नजरिये से दिखाई गई है. इसमें देशभक्ति की भावना के साथ एक परिवार, एक बहादुर इंसान और उनके इमोशन्स भी शामिल हैं. जो इस फिल्म को आपके दिल तक पहुंचाते हैं.

अदिवि शेष ने किया कमाल

फिल्म के हीरो हैं अदिवि शेष. शेष को देखते ही समझ आता है कि संदीप उन्नीकृष्णन के रोल में वह एकदम परफेक्ट कास्टिंग हैं. फिल्म के पहले सीन से लेकर आखिरी सीन तक वह जबरदस्त तरीके से अपने रोल को निभाते हैं. संदीप का जुनून, उनकी बहादुरी और उनकी मस्तीखोरी हर चीज से आपको अदिवि शेष रूबरू करवाते हैं. उन्होंने इस किरदार को बेहतरीन तरीके से निभाया है. साथ ही फिल्म की कहानी को भी बढ़िया लिखा है. कहना होगा कि अदिवि शेष अपने डेब्यू से हिंदी फिल्म इंडस्ट्री और दर्शकों पर बड़ी छाप छोड़ने वाले हैं. साथ ही कई फैन्स को उनपर क्रश भी होने वाला है. 

फिल्म की हीरोइन हैं सई मांझरेकर, जिन्हें आप दबंग 3 में देख चुके हैं. सई ने संदीप की पत्नी ईशा का किरदार निभाया है. अदिवि शेष संग उनकी केमिस्ट्री अच्छी रही और अपने रोल में भी सई ने अच्छा काम किया है. लेकिन अदिवि शेष के अलावा फिल्म में किसी ने कमाल का काम किया है तो वो हैं प्रकाश राज.

प्रकाश राज का काम जबरदस्त

प्रकाश राज इंडस्ट्री के लेजेंड्स में से एक हैं. कोई भी किरदार हो, वह उसे बेहद खूबसूरती से निभाते हैं. ऐसा ही उन्होंने फिल्म मेजर में भी किया है. प्रकाश, संदीप उन्नीकृष्णन के पिता के. उन्नीकृष्णन के किरदार में हैं. एक पिता जो अपने बेटे के लिए हीरो है, जो नहीं चाहता कि उसका बेटा आर्मी में जाए, जो अपने बेटे से बेहद प्यार करता है और भले ही दिखाता नहीं है लेकिन उसके लिए डरता और उसकी चिंता भी करता है. अपने इस रोल में प्रकाश राज ने जान डाली है और इसे उम्दा तरीके से निभाया है. उन्हें देखकर ये बिल्कुल नहीं लगता कि वह एक फिल्म में एक्टिंग कर रहे हैं. 

उनके काम को कॉम्पलिमेंट किया है एक्ट्रेस रेवती ने, जो संदीप की मां धनलक्ष्मी उन्नीकृष्णन के रोल में हैं. रेवती ने एक मां के इमोशन्स और अपने बच्चे संग उसकी एक्वेशन को अच्छे से पकड़ा है. अदिवि शेष संग प्रकाश और रेवती की केमिस्ट्री बेहद नेचुरल है. उन्हें देखकर लगता है कि वह सही में एक परिवार हैं. फिल्म में शोभिता धुलिपाला ने एक स्पेशल रोल निभाया है. अपने छोटे से रोल को शोभिता ने पूरे डेडिकेशन के साथ किया है.

रुला देगी संदीप की कहानी

डायरेक्टर शशि किरण तिक्का ने इस फिल्म को काफी बढ़िया तरीके से बनाया है. इसमें एक्शन, ड्रामा और इमोशन्स सबकुछ है. ये फिल्म आपको देशभक्ति की भावना तो देती है, लेकिन प्यार का एहसास भी करवाती है. इसके एक्शन सीन्स आपको अपनी सीट से जोड़े रखते हैं तो कई सीन्स आपके आंसुओं को बहने पर मजबूर कर देते हैं. इसमें एक्शन, इमोशन, ड्रामा और रोमांस सबकुछ आपको मिलता है. 

फिल्म की एडिटिंग काफी क्रिस्प है. इसे देखते हुए आप बोर बिल्कुल नहीं होते, बल्कि इसके आगे बढ़ते हुए आपका उत्साह और बढ़ता जाता है. मेजर का बैकग्राउंड म्यूजिक काफी अच्छा है और हर सीन के साथ बढ़िया काम करता है. ये फिल्म आपको एहसास दिलाती है कि फौजी होना आसान बात नहीं है. एक फौजी को अपनी ड्यूटी पूरी करने के किए और देश को सुरक्षित रखने के लिए कई कुर्बानियां देनी होती हैं. 

आपको फिल्म मेजर को एक बार तो जरूर देख ही लेना चाहिए. इस फिल्म को देखने के बाद आपकी आंखें नम होनी ही होनी है. तो टिश्यू साथ में लेकर जाना. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें