scorecardresearch
 

स्टेम सेल में करियर बनाकर आप कमा सकते हैं 2 करोड़ तक सालाना

जानिए स्टेम सेल क्या है, इसमें कैसे बनाएं करियर और इस फील्ड में कितनी सैलरी मिल सकती है आपको...

Stem Cell Stem Cell

अगर आपका इंटरेस्ट साइंस के साथ-साथ टेक्नोलॉजी में है तो आप स्टेम सेल रिसर्च में करियर बनाने के बारे में सोच सकते हैं. यह एक ऐसा करियर हैं जिसमें आप कभी भी बोर नहीं होंगे क्योंकि इसमें आए दिन नई रिसर्च होती रहती हैं. इसके अलावा हमेशा आपके पास करने के लिए नए प्रयोग होते हैं. इस लाइन में बस जरूरत है तो लगन और अपने काम पर विश्वास करने की.

क्या हैं स्टेम सेल
स्टेम सेल्स या स्टेम कोशिकाएं हमारी अम्ब‍िलिकल कॉर्ड (नाल) में पाई जाती हैं. इन कोशिकाओं की खूबी यह होती है कि इनसे हमारे शरीर के अधिकांश अंगों की कोशिकाओं को विकसित किया जा सकता है. जब भी स्टेम सेल विभाजित होते हैं तो ये या तो स्टेम सेल बनते हैं या फिर किसी से खास फंक्शन को करने वाले (मसल्स सेल, रेड ब्लड सेल आद‍ि) सेल के रूप में बढ़ते हैं.

क्या है स्टेम सेल थेरेपी?
रोगी के बोन मैरो से सेल लेकर शरीर के क्षतिग्रस्त जगह पर रोपित करना स्टेम सेल थेरेपी के अंदर आता है. इससे क्षतिग्रस्त कोशिकाएं जल्द ठीक होने लगती है.

पिछले कुछ वर्षों में स्टेम सेल की फील्ड में हो रही रिसर्च को देखते हुए ऐसे कैंडिडेट्स की डि‍मांड खासी बढ़ी है. ऐसे में बायोमेडिसिन के इस क्षेत्र में आने वाले वक्त में असीम संभावनाएं देखी जा रही हैं. 

स्टेम सेल साइंटिस्ट का काम
स्टेम सेल रिसर्च साइंस का तेजी से बढ़ता हुआ फील्ड है. भारत में तमाम संस्थान कई बीमारियों का इलाज स्टेम सेल रिसर्च के जरिए खोज रहे हैं. स्टेम सेल रिसर्च करने वाले वैज्ञानिकों को इन बीमारियों की वजहों का पता लगा कर यह देखना हाेता है कि स्टेम सेल के जरिए किस तरह इनका निदान किया जाए. इसमें टिश्यू-स्पेसिफिक स्टेम सेल्स, कैंसर स्टेम सेल्स आदि से लेकर ट्रांसलेशनल रिसर्च तक शामिल है. किसी बीमारी के इलाज में कैसे नया सेल तैयार कर, उसे ठीक करना है, इसका पता भी स्टेम सेल साइंटिस्ट ही करते हैं.

स्टेम सेल में करियर ऑप्शन:
इस फील्ड में आप रिसर्च या थेरेपी, दोनों में करियर बना सकते हैं. दरअसल अभी स्टेम सेल में काफी रिसर्च हो रही है और इसी के साथ यह थेरेपी भी आगे बढ़ रही है. विदेश में भी स्टेम सेल वैज्ञानिकों और इस फील्ड में रिसर्च करने वालों की खासी मांग है. अगर आप इस फील्ड की अच्छी जानकारी रखेंगे तो आपको शुरुआत में 12-30 लाख रुपये सालाना, जबकि सीनियर पॉजिशन में आपको 30 लाख से 2 करोड़ तक सालाना सैलरी पैकेज आसानी से मिल सकता है.

कैसे आ सकते हैं इस फील्ड में?
इस फील्ड में मेडिकल प्रोफेशनल के अलावा बायोलॉजी की बेसिक पढ़ाई करने वाले लोग भी आ सकते हैं. लेकिन स्टेम सेल साइंटिस्ट बनने के लिए आपके पास मेडिसिन की फील्ड में रिजेनरेटिव में पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री होनी चाहिए. इसके अलावा वे लोग इस फील्ड में बेहतर करियर बना सकते हैं जो स्टेम सेल के कॉन्सेप्ट, डिवीजन और फंक्शन को बेहतर तरीके से  समझते हैं.

स्टेम सेल रिसर्च की पढ़ाई कराने वाले भारतीय संस्थान:
स्कूल ऑफ रिजेनरेटिव मेडिसिन, मणिपाल यूनिवर्सिटी
सेंटर फॉर स्टेम सेल रिसर्च, वेल्लौर
नेशनल सेंटर फॉर सेल साइंस, पुणे

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें