scorecardresearch
 

जानें- कौन हैं वो, जिनके नाम पर मनाया जाता है ‘इंजीनियर्स डे’

15 सितंबर को भारत में इंजीनियर डे के रूप में मनाया जाता है. जानें- क्यों आज ही रोज मनाया जाता है ये दिन और क्या है खासियत

मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया

भारत में हर साल 15 सितंबर को इंजीनियर डे मनाया जाता है. आज ही के रोज महान इंजीनियर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया का जन्म हुआ था. उन्हीं के जन्मदिन इंजीनियर दिवस बनाया जाता है. आइए जानते हैं उनके बारे में...

सालों पहले जब बेहतर इंजीनियरिंग सुविधाएं नहीं थीं, तकनीकी नहीं थी तब एक इंजीनियर ने ऐसे विशाल बांध का निर्माण पूरा करवाया जो भारत में इंजीनियरिंग की अद्भुत मिसाल के तौर पर गिनी जाती है. वो इंजीनियर एम विश्वेश्वरैया थे. उनका जन्म साल 15 सितंबर 1861 में हुआ था. विश्वेश्वरैया का जन्म मैसूर, जो कि अब कर्नाटक में है. वह बहुत की गरीब परिवार से थे. उनका बचपन  आर्थिक संकट में गुजरा था.

यहां से की पढ़ाई

मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया ने अपनी शुरुआती पढ़ाई  जन्म स्थान में की.  आगे की पढ़ाई के लिए उन्होंने बंगलूर के 'सेंट्रल कॉलेज' में दाखिला मिला, लेकिन इस कॉलेज में फीस के लिए उनके पास पैसे नहीं थे. जिसके बाद उन्होंने ट्यूशन लेना शुरू किया.

विश्वेश्वरैया ने 1881 में बी.ए. की. इसके बाद स्थानीय सरकार की मदद से इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए पूना के 'साइंस कॉलेज' में दाखिला लिया. 1883 की एल.सी.ई. व एफ.सी.ई. (वर्तमान समय की बीई उपाधि) की परीक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त करके अपनी योग्यता का परिचय दिया. इसी उपलब्धि के चलते महाराष्ट्र की सरकार ने इन्हें नासिक में सहायक इंजीनियर के पद पर नियुक्त किया था.

कार्यक्षेत्र

मुंबई में असिस्टेंट इंजीनियर के पद पर नियुक्ति मिलने के बाद उन्होंने इंजीनियर में अपने करियर की शुरुआत की. आपको बता दें, उस समय ब्रिटिश शासन था. अधिकांश उच्च पदों पर अंग्रेज़ों की ही नियुक्ति होती थी. ऐसे में उच्च पद पर नियुक्त विश्वेश्वरैया ने अपनी योग्यता और सूझबूझ द्वारा बड़े बड़े अंग्रेज़ इंजीनियरों को अपनी योग्यता और प्रतिभा का लोहा मनवा दिया.

अपने इस पद पर रहते हुए उन्होंने सबसे पहली सफलता प्राकृतिक जल स्रोत्रों से घर घर में पानी पहुंचाने की व्यवस्था करना और गंदे पानी की निकासी के लिए नाली - नालों की समुचित व्यवस्था करके प्राप्त की.

आपको बता दें, वह 1932 में 'कृष्ण राजा सागर' बांध के निर्माण परियोजना में वो चीफ इंजीनियर की भूमिका में थे. तब इस बांध को बनाना इतना आसान नहीं था क्योंकि 'कृष्ण राज सागर' बांध के निर्माण के दौरान देश में सीमेंट तैयार नहीं होता था.  

विश्वेश्वरैया ने हार नहीं मानी. उन्होंने इंजीनियर्स के साथ मिलकर 'मोर्टार' तैयार किया जो सीमेंट से ज्यादा मजबूत था. बांध बनकर तैयार भी हुआ. ये बांध आज भी कर्नाटक में मौजूद है. उस वक्त इसे एशिया का सबसे बड़ा बांध कहा गया था.  इस बांध से कावेरी, हेमावती और लक्ष्मण तीर्थ नदियां आपस में मिलती है. उन्हें 1955 में भारत के सर्वोच्च सम्मान 'भारत रत्न' से सम्मानित किया गया था.

कौन थी दुनिया की पहली महिला इंजीनियर

दुनिया की पहली महिला इंजीनियर एलिसा लेओनिडा जमफिरेसको (Elisa Leonida Zamfirescu) थीं. एलिसा जनरल एसोसिएशन ऑफ रोमानियन (AGIR) की मेंबर थीं और साथ ही रोमानिया के जियोलॉजिकल इस्टीट्यूट में प्रयोगशाला को चलाया. इसी के साथ उन्होंने कई आर्थिक अध्ययनों का निरीक्षण किया जिसने रोमानिया को कोयला, शेल, प्राकृतिक गैस, क्रोमियम, बॉक्साइट और तांबा जैसे प्राकृतिक संसाधनों शामिल थे. जिसके बाद साल 1993 में रोमानिया की सरकार ने उनके योगदान को देखते हुए राजधानी बुखारेस्‍ट की एक सड़क का नाम उनके नाम पर रखा था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें