scorecardresearch
 

IIT दिल्ली एकेडमिक सेशन 2022-23 से शुरू करेगा बैचलर ऑफ डिजाइन प्रोग्राम, ऐसे मिलेगा दाख‍िला

आईआईटी दिल्ली बोर्ड ऑफ गवर्नर्स ने सत्र 2022-23 से 'बैचलर ऑफ डिज़ाइन (B.Des.) प्रोग्राम की शुरुआत की मंजूरी दी है. आइए जानें- इस प्रोग्राम को शुरू करने के पीछे क्या है मकसद, कैसे मिलेगा दाख‍िला.

Image: IIT delhi Image: IIT delhi
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बी.डी.एस. प्रोग्राम संस्थान के डिजाइन विभाग द्वारा पेश किया जाएगा
  • चार साल के इस बी.डी.एस. प्रोग्राम में 20 सीटें होंगी
  • दाख‍िले के उम्मीदवार http://www.uceed.iitb.ac.in/2022 लिंक पर जाकर रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं. 

आईआईटी दिल्ली एकेडमिक सेशन 2022-23 से B. Des. प्रोग्राम यानी बैचलर ऑफ डिजाइन प्रोग्राम शुरू कर रहा है. आईआईटी दिल्ली बोर्ड ऑफ गवर्नर्स ने सत्र 2022-23 से 'बैचलर ऑफ डिज़ाइन (B.Des.) प्रोग्राम की शुरुआत के लिए मंजूरी दे दी है. ये बी.डी.एस. प्रोग्राम संस्थान के डिजाइन विभाग द्वारा पेश किया जाएगा. चार साल के इस प्रोग्राम में 20 सीटें होंगी. इसमें सभी विशेषज्ञताओं (विज्ञान, कला, वाणिज्य आदि) के छात्रों को दाख‍िला मिल सकेगा. 

बता दें कि पहली बार साल 2017 में बी.डी.एस. कार्यक्रम अस्तित्व में आया जो कि अब मंजूरी के बाद शुरू हो रहा है. छात्रों को बी.डी. एस कार्यक्रम में UCEED (स्नातक) यानी डिजाइन के लिए सामान्य प्रवेश परीक्षा की रैंक के आधार पर प्रवेश दिया जाएगा. फिलहाल यूसीईईडी परीक्षा के लिए पंजीकरण शुरू हो गया है. इच्छुक उम्मीदवार http://www.uceed.iitb.ac.in/2022 लिंक पर जाकर रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं. 
 
संस्थान द्वारा शुरू किए गए नए कार्यक्रम के बारे में आईआईटी दिल्ली के निदेशक प्रो वी. रामगोपाल राव ने कहा कि हम डिजाइन में इस नए स्नातक कार्यक्रम की शुरुआत को लेकर खुश हैं, क्योंकि यह पहली बार है जब IIT दिल्ली भौतिकी, रसायन विज्ञान और गणित के अलावा स्नातक छात्रों को (B.Des) में प्रवेश देगा. 

प्रो राव ने कहा कि बैचलर ऑफ डिज़ाइन (बी.डी.) प्रोग्राम और डिज़ाइन में अन्य प्रोग्राम, जो IIT दिल्ली में पाइपलाइन में हैं, वे गुणवत्ता डिजाइन की भारी मांग आपूर्ति अंतर को पाटेंगे. यहां से ऐसे पेशेवर तैयार होंगे  जिन्हें हमारे देश की रचनात्मक अर्थव्यवस्था के रूप में उत्कृष्टता प्राप्त करने की आवश्यकता है. 

डिजाइन विभाग, IIT दिल्ली के प्रमुख प्रो. पी. वी. मधुसूदन राव ने नए शैक्षणिक कार्यक्रम पर प्रकाश डालते हुए कहा कि कार्यक्रम को उच्च गुणवत्ता प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है. बता दें कि IIT दिल्ली 1994 से एक सफल मास्टर ऑफ़ डिज़ाइन (M.Des.) कार्यक्रम चला रहा है. जहां से कई उत्कृष्ट डिजाइन पेशेवरों, डिजाइन लीडर्स तैयार हुए हैं. यही नहीं डिजाइन के क्षेत्र में शोधकर्ता और डिजाइन शिक्षक भी तैयार हुए हैं. आईआईटी दिल्ली में डिजाइन विभाग के पास पीएचडी कार्यक्रम भी है, जहां वर्तमान में कार्यक्रम में नामांकित 35 से अधिक शोधार्थी हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×