scorecardresearch
 

इंदौर में लोग खरीद रहे कोविड सेल्फ टेस्ट किट, सरकार को नहीं मिल रहा पॉजिटिव लोगों का डाटा

मेडिकल स्टोर संचालक शशांक शर्मा ने बताया कि ये रेपिड टेस्ट किट है जो 15 मिनट में बता देती हैं कि आप कोरोना पॉजिटिव हैं या निगेटिव. इसे सरकार ने बेचने की परमिशन दी है. हम रोज़ाना 15 से 20 किट बेचते हैं. खरीदारों के रिकॉर्ड रखने का हमें अभी कोई दिशा-निर्देश नहीं दिए गए हैं.

कोविड सेल्फ टेस्ट किट को IMCR ने मंजूरी दी है. कोविड सेल्फ टेस्ट किट को IMCR ने मंजूरी दी है.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 230 रुपए की है कोविड सेल्फ टेस्ट किट
  • ICMR की मंजूरी के बाद मेडिकल स्टोर्स पर उपलब्ध

घर पर खुद कोविड टेस्ट करने की किट बाजारों में धड़ल्ले से बिक रही है. ICMR की मंजूरी के बाद रोजाना इंदौर की सैंकड़ों मेडिकल स्टोर्स पर हजारों किट बेची जा रही है, लेकिन इसका रिकॉर्ड स्वास्थ्य विभाग या ड्रग डिपार्टमेंट के पास नहीं है. इंदौर में ही रोजाना हजारों लोग इसका इस्तेमाल कर रहे हैं. सिर्फ पॉजिटिव आने वाले मरीजों को ही पता होता है कि वे कोरोना संक्रमित हैं. टेस्टिंग खरीदने वालों का रिकॉर्ड ना मेडिकल स्टोर वाले रख रहे हैं और ना स्वास्थ्य विभाग को पता है कि कितने लोग इस किट से टेस्ट के बाद पॉजिटिव हुए हैं.

230 रुपए की है किट

मेडिकल स्टोर चलाने वाले मयंक मेहता ने एक न्यूज एजेंसी को बताया कि कोविड सेल्फ टेस्ट किट की कीमत 230 रुपए है. इसका रिजल्ट भी असरकारक है. इसमें टेस्ट करने पर एक लाइन आने पर निगेटिव और दो लाइन आने पर पॉजिटिव होने का पता चलता है. रोज हमारे यहां से 10 से 12 पीस ग्राहक खरीदकर ले जाते हैं. ड्रग डिपार्टमेंट के अधिकारियों ने हमें बिना इसका रिकॉर्ड रखे बेचने की अनुमति दी है.

एक अन्य मेडिकल स्टोर संचालक शशांक शर्मा ने बताया कि ये रेपिड टेस्ट किट है जो 15 मिनट में बता देती हैं कि आप कोरोना पॉजिटिव हैं या निगेटिव. इसे सरकार ने बेचने की परमिशन दी है. हम रोज़ाना 15 से 20 किट बेचते हैं. खरीदारों के रिकॉर्ड रखने का हमें अभी कोई दिशा-निर्देश नहीं दिए गए हैं.

इस मामले में मुख्य चिकित्सा व स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर भूरेसिंह सेतिया ने न्यूज एजेंसी को बताया कि सेल्फ कोविड टेस्ट किट का रिकॉर्ड रखे जाने के बारे में कोई गाइडलाइन जारी नहीं हुई है, लेकिन मेडिकल स्टोर से जो लोग टेस्टिंग किट खरीद कर खुद टेस्ट कर रहे हैं, उनके लिए हम ड्रग डिपार्टमेंट को निर्देश देंगे कि वे मेडिकल स्टोर से ऐसे लोगों की जानकारी लें ताकि उनकी मॉनिटरिंग हो सके.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×