scorecardresearch
 

अर्थव्यवस्था को झटका, औद्योगिक उत्पादन दर में गिरावट

आर्थिक मोर्च पर मोदी सरकार को झटका लगा है. औद्योगिक उत्पादन में 1.1 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है. शुक्रवार को जारी आधिकारिक आंकड़े अगस्त माह के हैं.   

प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

  • IIP वृद्धि दर में 1.1 फीसदी की गिरावट
  • विशेषज्ञ सुस्ती को बता रहे वजह

आर्थिक मोर्च पर मोदी सरकार को झटका लगा है. औद्योगिक उत्पादन में 1.1 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है. शुक्रवार को जारी आधिकारिक आंकड़े अगस्त माह के हैं.

बिजली उत्पादन और खनन क्षेत्रों में सुस्ती बने रहने की वजह से ये गिरावट दर्ज की गई है. पिछले साल इसी महीने औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (IIP) में 4.8 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई थी. वहीं मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में 1.2 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई.  

आईआईपी का यह आंकड़ा फरवरी 2013 के बाद अब तक का सबसे कम है. पिछले कुछ समय से चल रही मंदी की चर्चा के बीच एक दर्जन से अधिक उद्योगों की ग्रोथ में जबरदस्त गिरावट आई है. इनकी ग्रोथ रेट निगेटिव हो गई है.

कई कंपनियों में काम के घंटे कम कर दिए गए हैं तो कई में कर्मचारियों की छंटनी की हो रही है. अर्थव्यवस्था के जानकारों की मानें तो यह हालात देश की अर्थव्यवस्था में सुस्ती के कारण उत्पन्न हुए हैं.

बता दें कि पिछले दिनों भारतीय अर्थव्यवस्था भी एक स्थान लुढ़क कर सातवें स्थान पर पहुंच गई थी. बता दें कि भारतीय अर्थव्यवस्था दुनिया में छठवें स्थान पर थी. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण अर्थव्यवस्था को सुस्ती से निकालने के लिए एक के बाद एक ऐलान कर रही हैं, लेकिन इनका कुछ ठोस नतीजा अब तक निकलता नजर नहीं आया है.

रिजर्व बैंक और इंटरनेशनल रेटिंग एजेंसी मूडीज ने जीडीपी की विकास दर के लिए अनुमान घटा दिया था. इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने भी आर्थिक सुस्ती को लेकर चेतावनी जारी की थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें