scorecardresearch
 

Exit Poll से शेयर बाजार में उछाल, क्या जारी रहेगी यह तेजी, क्या कहते हैं एक्सपर्ट?

एग्जिट पोल में बीजेपी-एनडीए की भारी जीत का अनुमान आने के बाद सोमवार को सेंसेक्स में 10 साल की रिकॉर्ड बढ़त देखी गई. लेकिन क्या यह बढ़त आगे भी टिकेगी? बाजार में क्या हो सकता है आगे?

एग्जिट पोल में मोदी सरकार की वापसी के संकेत से शेयर बाजार में तेजी एग्जिट पोल में मोदी सरकार की वापसी के संकेत से शेयर बाजार में तेजी

एग्जिट पोल में बीजेपी-एनडीए की भारी जीत का अनुमान आने के बाद सोमवार को शेयर मार्केट बल्लियों उछलने लगा और सेंसेक्स में 10 साल की रिकॉर्ड बढ़त देखी गई. बीएसई सेंसेक्स अंत में कारोबार करीब 1421 अंकों की जबर्दस्त उछाल के साथ बंद हुआ. सेंसेक्स में एक दिन में पिछले 10 साल की सबसे ज्यादा बढ़त देखी गई. निफ्टी भी 421 अंकों की बढ़त के साथ बंद हुआ. लेकिन क्या यह बढ़त आगे भी टिकेगी? बाजार में क्या हो सकता है आगे? आइए जानते हैं इस बारे में एक्सपर्ट की राय.

सोमवार को सेंसेक्स 39,352 और निफ्टी 11,832.70 पर बंद हुआ. जानकार कहते हैं कि यदि वास्‍तविक नतीजे एग्जिट पोल जैसे ही आए यानी नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) की भारी जीत हुई और मैक्रो इकोनॉमिक इंडिकेटर यानी वृहद अर्थव्यवस्था के संकेतों में सुधार हुआ तो ही शेयर बाजार की यह तेजी टिक सकती है.

क्या होते हैं मैक्रो इकोनॉमिक इंडिकेटर

गौरतलब है कि मैक्रो इकोनॉमिक इंडिकेटर यानी वृहद आर्थ‍िक संकेतक किसी देश की अर्थव्यवस्था की बुनियादी सेहत को बताते हैं. इनमें सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी ग्रोथ, आय एवं वेतन, बेरोजगारी दर, महंगाई, ब्याज दरें, कंपनियों का मुनाफा, व्यापार संतुलन आदि देखे जाते हैं.

इक्विनॉमिक्स रिसर्च ऐंड एडवाइजरी के संस्थापक जी. चोक्कालिंगम ने कहा, 'यह तेजी तभी बरकरार रह सकती है, जब देश में राजनीतिक स्थ‍िरता हो. यदि वास्तविक नतीजे एग्जिट पोल से अलग होते हैं तो फिर से बीएसई फर्मों की  बाजार पूंजी फिर 145 लाख करोड़ रुपये पर आ जाएगी. बीएसई पर सूचीबद्ध फर्मों की बाजार पूंजी अगस्त 2018 में रिकॉर्ड 159 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गई थी. हम उस स्तर से अब भी 7.5 लाख करोड़ रुपये नीचे हैं. इसी तरह 8-9 लाख करोड़ रुपये की पूंजी सिर्फ सूचकांक के 15 शेयरों की है. बाकी शेयर अब भी नीचे हैं और 16 लाख करोड़ रुपये का नुकसान बहुत ज्यादा है.'  

चोक्कालिंगम कहते हैं, 'केंद्र में मजबूत सरकार आने के बाद भी यह तेजी नहीं टिक पाएगी, यदि वृहद अर्थव्यवस्था के संकेतक सकारात्मक नहीं हुए. सबसे बड़ी चिंता तेल की बढ़ती कीमतें, कॉरपोरेट कंपनियों की कमजोर कमाई और अप्रैल में मैन्युफक्चरिंग सेक्टर का ग्रोथ आठ महीने के निचले स्तर पर जाना है. इससे आर्थिक माहौल को चुनौती मिल रही है.'

फर्स्ट ग्लोबल के को-फाउंडर और चीफ ग्लोबल स्ट्रेटेजिस्ट शंकर शर्मा ने बताया, 'चुनाव के नतीजों से बाजार का मूड चाहे जैसा हो, मेरा तो यह मानना है कि यह ट्रेंड (यानी तेजी का सिलसिला) जारी नहीं रह सकता, क्योंकि बुनियादी आर्थिक संकेत लगातार पिछले कुछ महीनों में कमजोर होते दिख रहे हैं.'

शर्मा ने कहा कि बड़ी हो या छोटी हर तरह की कंपनियां वृहद आर्थिक कारकों से बुरी तरह प्रभावित हो रही हैं. उन्होंने कहा, 'यहां तक की बड़ी कंपनियों ने भी आगे का कमजोर आकलन पेश किया है. मुझे लगता है कि ग्रोथ के मामले में गंभीर समस्या है. हमने आगे के लिए इतना निराशाजनक आकलन कभी नहीं देखा है. साल 2008 लीमैन की वजह से खराब हुआ था, लेकिन अब तो ऐसा कोई बड़ा मसला भी नहीं है.'

 (www.businesstoday.in से साभार)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें