scorecardresearch
 

पिता को याद कर भावुक हुए सचिन तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर का बल्ला खामोश है और उनके बल्ले की ये खामोशी ना सिर्फ उनके चाहनेवालों के लिए बल्कि सचिन के लिए भी जी का जंजाल बनी हुई है. इस मुश्किल घड़ी में बचपन में दी गई पिता की सीख ही सचिन को मजबूती दे रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें