scorecardresearch
 
साइंस न्यूज़

मच्छर, दीमक, चूहे समेत इन 10 जीवों ने कराया 94.13 लाख करोड़ का नुकसान, जानिए कैसे?

Invasive Species causing crores of Damages
  • 1/10

धरती पर सिर्फ इंसान ही नहीं रहते. यहां पर कुछ ऐसे जीव रहते हैं जिन्हें आक्रामक प्रजातियों (Invasive Species) की श्रेणी में रखा गया है. इन जीवों की वजह से पूरी दुनिया की आर्थिक व्यवस्था को तगड़ा नुकसान हुआ है. इनकी वजह से 47 सालों में यानी 1970 से 2017 तक 94.13 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है. यानी हर साल करीब 2 लाख करोड़ रुपए का नुकसान. जबकि ये भारत के इस साल के बजट से करीब तीन गुना ज्यादा बड़ी राशि है. आइए जानते हैं इसानों के इन छोटे जीवों की कारगुजारियों... (फोटोः गेटी)

Invasive Species causing crores of Damages
  • 2/10

आक्रामक प्रजातियों (Invasive Species) में शामिल हैं मच्छर, दीमक, चीटियां, चूहे, बिल्ली, सांप, मोथ, वीविल्स, अफ्रीकन मधुमक्खी और स्क्रू-वॉर्म फ्लाइस. ये जीव नए वातावरण में जानबूझकर या अनजाने में प्रवेश करते हैं. ताकि नई बीमारियां फैला सकें. फसलों को खराब कर सकें. इसके अलावा हमारे मजबूत ढांचों और खाद्य उत्पादों को खाकर नष्ट कर सकें. (फोटोः गेटी)

Invasive Species causing crores of Damages
  • 3/10

1970 से लेकर 2017 तक इन जीवों की वजह से हुए नुकसान की एक एनालिटिकल रिपोर्ट 31 मार्च को Nature मैगजीन में प्रकाशित हुई है. इसमें बताया गया है कि दुनिया अब पहले से ज्यादा इंटरकनेक्टेड है. इसलिए आक्रामक प्रजातियों को नई जगहें आसानी से मिल जा रही हैं. इसकी वजह से ये इंसानों को काफी ज्यादा नुकसान पहुंचा रहे हैं. (फोटोः गेटी)

Invasive Species causing crores of Damages
  • 4/10

पेरिस स्थित फ्रेंच नेशनल म्यूजियम ऑफ नेचुरल हिस्ट्री के बायोजियोग्राफर बोरिस लीरॉय (Boris Leroy) ने कहा कि शोधकर्ता दशकों से इस बात का पता करने में लगे थे कि इन आक्रामक प्रजातियों की वजह से इंसानों को कितना नुकसान होता है. यही नहीं इस नुकसान के बारे में सभी देशों को पता है. वहां की सरकारों को पता है लेकिन वो लोग सही नीतियां नहीं बनाते ताकि इस पर रोक लगाई जा सके. (फोटोः गेटी)

Invasive Species causing crores of Damages
  • 5/10

बोरिस और उनके साथियों ने इन जीवों के बारे में खुलासा करने के लिए करीब 19 हजार प्रकाशित रिसर्च पेपर्स का अध्ययन किया है. इनके विश्लेषण के बाद उन्होंने 1900 रिसर्च पेपर्स को अलग किया. फिर इनका अध्ययन करके यह पता लगाया कि हर साल कितना नुकसान होता है इन जीवों की वजह से. इस टीम ने एक स्टैटिस्टिकल मॉडल बनाया. उसके सहारे सारे आंकड़े निकाले. (फोटोः गेटी)

Invasive Species causing crores of Damages
  • 6/10

इन 10 जीवों ने दुनिया भर को पिछले 47 सालों में 94.13 लाख करोड़ रुपए का नुकसान पहुंचाया है. ये राशि भारत सरकार के इस साल के बजट से करीब तीन गुना ज्यादा है. हैरानी की बात ये है कि इन जीवों की वजह से होने वाला नुकसान हर छह साल में दोगुना हो जाता है. (फोटोः गेटी)

Invasive Species causing crores of Damages
  • 7/10

इनमें सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाने वाला जीव है मच्छर (Mosquitoes). इसकी वजह से पूरी दुनिया को 10.95 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है. इकलौता ऐसा जीव है जो हर देश में मिलता है. इसकी कोई न कोई प्रजाति आपको हो सकता है कि सबसे ठंडी या सबसे गर्म जगह पर ही मिल जाए. इनकी वजह से फैलने वाली बीमारियां, उनकी दवाइयां, इलाज, सफाई प्रबंधन आदि में दुनिया को इतना नुकसान सहना पड़ा. (फोटोः गेटी)

Invasive Species causing crores of Damages
  • 8/10

दूसरे स्थान पर है चूहे (Rats). इनकी वजह से पूरी दुनिया पिछले 47 सालों में 4.92 लाख करोड़ रुपए का नुकसान पहुंचाया है. 3000 साल पहले से दुनिया में मौजूद ये चूहे किसी भी नई जगह पर आने के बाद अपनी कॉलोनी इतनी तेजी से फैलाते है कि इनके आगे कोई जीव नहीं टिकता. कई बार तो ये पक्षियों और जलीय जीवों को भी नुकसान पहुंचा देते हैं. (फोटोः गेटी)

Invasive Species causing crores of Damages
  • 9/10

तीसरे स्थान पर है बिल्लियां (Cats). इन्होंने बर्फीली जगहों को छोड़कर पूरी दुनिया में तबाही मचाई है. इनकी वजह से हर साल करोड़ों पक्षी मारे जाते हैं. इनकी वजह से दुनिया को 3.83 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है. ये की़ड़ों से लेकर पक्षियों का शिकार करती हैं. बत्तख, मुर्गी, गौरैया या छोटे पक्षी. (फोटोः गेटी)

Invasive Species causing crores of Damages
  • 10/10

चौथे नंबर पर वो जीव है जिससे सभी लोग डरते हैं. ये है दीमक (Termite). इसकी वजह से वैश्विक स्तर पर 1.39 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है. इसके अलावा पांचवें नंबर पर है फायर आंट्स (Fire Ants) की वजह से 1.24 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है. ये चीटिंया अमेरिका, कैरिबियन देश, चीन, ऑस्ट्रेलिया में ज्यादा पाई जाती हैं. (फोटोः गेटी)