scorecardresearch
 

योगिनी एकादशी का क्या है महत्व, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा की विधि

योगिनी एकादशी का व्रत करने से जीवन में समृद्धि और आनन्द की प्राप्ति होती है. मान्यता है कि ये व्रत करने से 88 हजार ब्राह्मणों को भोजन कराने के बराबर पुण्य मिलता है.

योगिनी एकादशी का व्रत करने से सारे पाप नष्ट हो जाते हैं योगिनी एकादशी का व्रत करने से सारे पाप नष्ट हो जाते हैं

योगिनी एकादशी के दिन भगवान श्री नारायण की पूजा-आराधना की जाती है. आषाढ़ कृष्ण पक्ष की एकादशी को योगिनी एकादशी कहा जाता है. यह एकादशी पाप के प्रायश्चित के लिए विशेष मानी जाती है. इस दिन श्री हरि के ध्यान भजन और कीर्तन से पापों से मुक्ति मिलती है. कहा जाता है कि अगर इस दिन उपवास रखा जाए और साधना की जाए तो हर तरह के पापों का नाश होता है. इस बार योगिनी एकादशी 17 जून को है.

योगिनी एकादशी शुभ मुहूर्त

एकादशी तिथि प्रारम्भ- 16 जून सुबह 5 बजकर 40 मिनट

एकादशी तिथि समाप्त- 17 जून सुबह 7 बजकर 50 मिनट

पारण का समय- 18 जून को सुबह 5 बजकर 23 मिनट से 8 बजकर 10 मिनट तक

योगिनी एकादशी का महत्व

योगिनी एकादशी का व्रत करने से जीवन में समृद्धि और आनन्द की प्राप्ति होती है. यह व्रत तीनों लोकों में प्रसिद्ध है. मान्यता है कि योगिनी एकादशी का व्रत करने से 88 हजार ब्राह्मणों को भोजन कराने के बराबर पुण्य मिलता है.

योगिनी एकादशी के पूजा की विधि

- प्रातःकाल स्नान करके सूर्य देवता को जल अर्पित करें. इसके बाद कलश स्थापना करें.

- कलश के ऊपर भगवान विष्णु की प्रतिमा रखें. इसके बाद पीले वस्त्र धारण करके भगवान विष्णु की पूजा करें.

- भगवान विष्णु को पीले फूल,पंचामृत और तुलसी दल अर्पित करें. इसके बाद श्री हरि और मां लक्ष्मी के मन्त्रों का जाप करें.

- किसी निर्धन व्यक्ति को जल, अन्न-वस्त्र, जूते या छाते का दान करें . केवल जल और फल ग्रहण करके ही उपवास रखें. व्रत की रात्रि में जागरण करना चाहिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें