scorecardresearch
 

कांग्रेस के गले में फंसी विवादित अध्‍यादेश की हड्डी

दागी नेताओं को बचाने वाले अध्यादेश पर राहुल गांधी ने शुक्रवार को अपनी सरकार के खिलाफ बगावत का ऐसा बिगुल फूंका कि अब तक इसकी तरफदारी करने वाली कांग्रेसी और मनमोहन कैबिनेट के मंत्री भी एक-एक करके पलटी मारने लगे.

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी

दागी नेताओं को बचाने वाले अध्यादेश पर राहुल गांधी ने शुक्रवार को अपनी सरकार के खिलाफ बगावत का ऐसा बिगुल फूंका कि अब तक इसकी तरफदारी करने वाली कांग्रेसी और मनमोहन कैबिनेट के मंत्री भी एक-एक करके पलटी मारने लगे.

राहुल के इस तेवर पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी हैरान हो गए. मीडिया के सामने आए और कहा कि देश वापस लौटने के बाद कैबिनेट में इस पर चर्चा करूंगा. उन्होंने कहा कि इस संबंध में राहुल ने मुझे चिट्ठी लिखी थी. वहीं सरकार के सूत्रों के बताया है कि अब इस अध्यादेश को वापस लिया जाएगा. क्योंकि राहुल गांधी के सार्वजनिक विरोध के बाद सरकार के पास और कोई विकल्प नहीं बचता.

बकवास है अध्यादेश, फाड़ा और फेंक डालोः राहुल
दागियों के चुनाव लड़ने संबंधी सरकारी अध्यादेश पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी से अलग राय देकर चौंका दिया. अध्यादेश के लिए बेहद कड़े शब्दों का इस्तेमाल करते हुए राहुल ने कहा, 'अध्यादेश पर मेरी राय है कि यह सरासर बकवास है और इसे फाड़कर फेंक देना चाहिए.' नई दिल्ली में प्रेस कांफ्रेंस के दौरान राहुल ने यह बात कही. किसी को ऐसी उम्मीद नहीं थी, शायद इसलिए उन्होंने अपने स्टैंड को दोहराया भी.

राहुल राग में ही गुनगुनाने लगे कांग्रेसी प्रवक्ता
राहुल के बयान आते ही मानो गंगा की उल्टी बहने लगी. प्रेस कॉन्फ्रेंस में थोड़ी देर पहले अध्यादेश का बचाव करने वाले कांग्रेस के प्रवक्ता अजय माकन ही पलट गए. अजय माकन ने कहा, 'राहुल एक व्यक्ति हैं. उनकी व्यक्तिगत सोच है. वह हमारे नेता हैं इसलिए उनकी राय ही कांग्रेस की राय है. इस पर आगे कैसे बढ़ा जाएगा यह पार्टी तय करेगी.'

केंद्रीय मंत्रियों ने भी बदला पाला
अब तक मीडिया के सामने अध्यादेश का बचाव करते रहने वाले मनमोहन के कई मंत्री राहुल गांधी के बयान के बाद उनके सुर से सुर मिलाने लगे. मानव संसाधन गृह राज्यमंत्री शशि थरूर ने ट्वीट करके कहा, 'अब राहुल गांधी ने बयान दे दिया है. मैं खुश हूं. मैंने इससे पहले कई बार अध्यादेश पर होनी वाला चर्चा में शामिल नहीं हुआ.लेकिन अब मैं कह रहा हूं. राहुल गांधी सही हैं.' इसके बाद संसदीय कार्य राज्यमंत्री राजीव शुक्ला ने यहां तक कह दिया कि राहुल गांधी के बयान सही हैं. उनका बयान ही पार्टी की राय है.

अब सवाल यही उठता है कि अगर राहुल गांधी अपनी सरकार के इस फैसले से सहमत नहीं थे तो तीन दिन का इंतजार क्यों किया? वो भी तब जब कैबिनेट में किसी भी फैसले पर मुहर लगाने से पहले इसपर कांग्रेस कोर ग्रुप की बैठक में चर्चा होती है. गौर करने वाली बात है कि कांग्रेस कोर ग्रुप की बैठक में राहुल गांधी भी मौजूद रहते हैं. वो भी पार्टी के उपाध्यक्ष के तौर पर.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें