scorecardresearch
 

कोरोना: मृत्यु दर कम करने में प्लाज्मा थेरेपी कारगर नहीं, AIIMS ने 30 मरीजों पर की स्टडी

एक परीक्षण में पाया गया है कि प्लाज्मा थेरेपी कोरोना के मृत्यु दर को कम करने में कारगर नहीं है. एम्स ने 30 मरीजों पर किए गए परीक्षण के आधार पर ये अनुमान लगाया है.

एम्स ने 30 मरीजों पर किया परीक्षण (फाइल फोटो) एम्स ने 30 मरीजों पर किया परीक्षण (फाइल फोटो)

  • एम्स दिल्ली में 30 मरीजों पर किया गया है परीक्षण
  • 'मृत्यु दर को कम करने में कारगर नहीं प्लाज्मा थेरेपी'

एम्स दिल्ली ने एक परीक्षण में पाया है कि प्लाज्मा थेरेपी कोरोना के मृत्यु दर को कम करने में कारगर नहीं है. एम्स ने 30 मरीजों पर किए गए परीक्षण के आधार पर ये अनुमान लगाया है. डॉक्टरों ने पाया कि मृत्यु दर के मामले में कोई लाभ नहीं है, लेकिन एक बड़े अध्ययन में थेरेपी से जीवित रहने की संभावना में सुधार देखा गया.

बता दें कि इन दिनों कोरोना से ठीक हो जाने वाले लोगों के शरीर से प्लाज्मा लेकर संक्रमित लोगों के इलाज पर काफी जोर दिया जा रहा. लेकिन अब एम्स की ये स्टडी लोगों की उम्मीदों पर पानी फेर सकती है.

डॉक्टरों ने कहा कि आपको पता नहीं होगा कि आप बहुत बीमार हैं. लेकिन फिर अगर कोई कोरोना पॉजिटिव शख्स के संपर्क में आता है तो उसे टेस्ट के लिए जाना चाहिए. लोग ये भी न भूलें कि उन्हें डॉक्टरों की सलाह पर ऑक्सीमीटर का इस्तेमाल करना चाहिए.

ये भी पढ़ें- राहुल बोले- भूल जाएं चीन के सामने खड़ा होना, PM में इतनी हिम्मत नहीं कि नाम ले सकें

एम्स के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा कि ये प्रारंभिक विश्लेषण है. 15 मरीजों के दो समूह थे जिन पर प्लाज्मा थेरेपी की प्रभावशीलता को जानने के लिए एक परीक्षण किया गया. एक समूह को सामान्य उपचार दिया गया, जबकि दूसरे को सामान्य उपचार के अलावा प्लाज्मा भी दिया गया.

डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि परीक्षण में हमने पाया कि मृत्यु दर दोनों समूहों में समान थी. मरीजों को बहुत अधिक ​​लाभ नहीं थे. उन्होंने आगे कहा कि हमें अभी कुछ भी निष्कर्ष निकालने के लिए उस पर और अधिक सबूत चाहिए. वर्तमान परीक्षण से पता चलता है कि प्लाज्मा थेरेपी सुरक्षित है. इससे किसी मरीज को कोई नुकसान नहीं होता है. लेकिन उसी समय में यह बहुत प्रभावी नहीं है.

ये भी पढ़ें- चीन सीमा की निगहबानी के लिए सुरक्षाकर्मियों ने मांगे सैटेलाइट नेटवर्क

क्या है प्लाज्मा थेरेपी?

कोरोना से ठीक हो चुके मरीजों के शरीर से लिए गए प्लाज्मा को कोरोना के एक्टिव मरीजों के शरीर में डाला जाता है. इससे उस मरीज के शरीर में कोरोना से लड़ने की एंटीबॉडी बन जाती है.

कोरोना के इलाज के लिए प्लाज्मा थेरेपी का इस्तेमाल सिर्फ भारत में ही नहीं हो रहा है, बल्कि दुनिया के कई अन्य देशों में भी इसका इस्तेमाल किया जा रहा है. भारत के अलावा अमेरिका, स्पेन, दक्षिण कोरिया समेत कई देशों में इसका इस्तेमाल हो रहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें