scorecardresearch
 
न्यूज़

इंजीनियर्स से बात, मजदूरों से मुलाकात....जब सेंट्रल विस्टा साइट पर अचानक पहुंचे पीएम मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी
  • 1/8

US दौरे से लौटे पीएम नरेंद्र मोदी रविवार को भी एक्शन मोड में दिखाई दिए. सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के निर्माण कार्य का निरीक्षण करने के लिए पीएम ग्राउंड जीरो पर पहुंचे. वहां उन्होंने नए संसद भवन के निर्माण कार्य का भी जायजा लिया. पीएम करीब एक घंटे तक वहां पर मौजूद रहे.

पीएम नरेंद्र मोदी
  • 2/8

पीएम के इस दौरे की जानकारी किसी को भी पहले से नहीं थी. ऐसे में जब पीएम मोदी रात करीब 8:45 बजे निर्माण स्थल पर पहुंचे तो कई लोग हैरान भी हुए. पीएम मोदी ने मौके पर पहुंच सिर्फ निर्माण कार्य का निरीक्षण नहीं किया, बल्कि उन्होंने उन श्रमिकों से भी विस्तार से बात की जो दिन-रात इस प्रोजेक्ट को समय रहते पूरा करने की कोशिश में हैं.

पीएम मोदी
  • 3/8

श्रमिकों के अलावा पीएम मोदी ने वहां मौजूद अधिकारियों संग भी बातचीत की. उन्होंने प्रोजेक्ट को लेकर हर बारीकी को समझने का प्रयास किया और कई तरह के सवाल-जवाब भी लगातार करते रहे. इस तस्वीर में पीएम को एक नक्शे के जरिए प्रोजेक्ट के बारे में विस्तार से बताया जा रहा है.

पीएम नरेंद्र मोदी
  • 4/8

मौके पर पहुंच पीएम ने खुद अपने स्तर पर भी निर्माण कार्य का अच्छे से निरीक्षण किया. कई तस्वीरें सामने आई हैं जहां पर पीएम खुद सीढ़ी चढ़ अलग-अलग जगहों का जायजा लेते देखे गए.

पीएम मोदी
  • 5/8

जानकारी के लिए बता दें कि सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पीएम मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है. इसके तहत बनने जा रहा नया संसद भवन तो और ज्यादा महत्वकांक्षी बताया जा रहा है. नया संसद भवन पुराने भवन से 17 हजार वर्गमीटर बड़ा होगा. इसे 971 करोड़ रुपये की लागत से कुल 64500 वर्गमीटर क्षेत्र में बनाया जा रहा है. इसका ठेका टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड को दिया गया है. 

पीएम मोदी
  • 6/8

नए संसद भवन में लोकसभा और राज्यसभा कक्षों के अलावा एक भव्य संविधान कक्ष भी बनाया जा रहा है. इसमें भारत की लोकतांत्रिक विरासत दर्शाने के लिए अन्य वस्तुओं के साथ-साथ संविधान की मूल प्रति, डिजिटल डिस्प्ले आदि होंगे.

पीएम मोदी
  • 7/8

कहा जा रहा है कि अगले साल तक नए संसद भवन का कार्य पूरा हो जाएगा. वैसे अब जरूर इस प्रोजेक्ट के निर्माण कार्य में तेजी देखने को मिल रही है, लेकिन कोरोना काल में कई मौकों पर इस पर ब्रेक भी लग गया था. मामला कोर्ट तक गया था और निर्माण कार्य पर रोक लगाने की मांग हुई थी. ये अलग बात रही कि कोर्ट ने तमाम याचिकाओं को खारिज कर दिया और अब फुल स्पीड से इस परियोजना को पूरा करने का प्रयास है.

पीएम मोदी
  • 8/8

वैसे नए संसद भवन के अलावा सचिवालय समेत अन्य इमारतों का निर्माण भी होना है. इस पूरे प्रोजेक्ट पर 20 हजार करोड़ रुपये की लागत आने का अनुमान है. हालांकि, माना यही जा रहा है कि परियोजना के पूरा होने में जितनी देर होगी, इसकी लागत बढ़ती जाएगी.