scorecardresearch
 

फिर नापाक हरकत में जुटा PAK, बॉर्डर पर एजेंसियों ने देखी दर्जनों रबर बोट

इंटेलिजेंस एजेंसियों ने बॉर्डर के पास लॉन्च पैड पर कई रबर बोट को देखा. जिसके बाद वहां पर सेना की वाटर बॉडीज़ की पेट्रोलिंग शुरू हो गई है. एजेंसियों का मानना है कि आतंकी घुसपैठ करने के लिए इन रबर बोट्स का इस्तेमाल कर सकते हैं.

घुसपैठ की फिराक में आतंकी घुसपैठ की फिराक में आतंकी

  • घुसपैठ की कोशिश में आतंकवादी
  • गुरेज सेक्टर पर देखीं गईं रबर बोट
  • अलर्ट पर हैं इंटेलिजेंस एजेंसियां

पाकिस्तान रोजाना जम्मू-कश्मीर में अपने नापाक इरादे को फैलाने में लगा हुआ है. पाकिस्तान के हर कदम पर देश की सुरक्षा एजेंसियों की नज़र है. इंटेलिजेंस एजेंसियों ने लाइन ऑफ कंट्रोल और अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर पर कुछ रबर बोट को देखा है, जिसके बाद सभी अलर्ट पर हैं.

इंटेलिजेंस एजेंसियों ने बॉर्डर के पास लॉन्च पैड पर कई रबर बोट को देखा. जिसके बाद वहां पर सेना की वाटर बॉडीज़ की पेट्रोलिंग शुरू हो गई है. एजेंसियों का मानना है कि आतंकी घुसपैठ करने के लिए इन रबर बोट्स का इस्तेमाल कर सकते हैं.

अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर पर अखनूर, कठुआ के आसपास 13 छोटी-बड़ी रबर की नाव को स्पॉट किया है. इसी अलर्ट के बाद गुरेज सेक्टर के आसपास सुरक्षा कड़ी कर दी गई है. इसके अलावा आतंकियों के द्वारा घुसपैठ करने के लिए कृष्णा घाटी पर नदी के रास्ते का इस्तेमाल किया जा सकता है.

गौरतलब है कि 2011 में भी आतंकी इसी रास्ते से भारत में घुसे थे. अभी कुछ दिनों पहले ही अलर्ट आया था कि आतंकी भारत में घुसने के लिए समुद्री रास्ता का इस्तेमाल कर सकते हैं, इसलिए समुद्री रास्तों पर भी नौसेना अलर्ट हो गई थी. अब इसके बाद एजेंसियां इस बात को लेकर भी अलर्ट पर हैं कि आतंकी छोटी नदी-नहरों के रास्ते से भी घुसपैठ कर सकते हैं.

पाकिस्तान की ओर से बीते कुछ दिनों में लगातार सीमा पर सीजफायर का उल्लंघन हो रहा है, ताकि आतंकवादी बॉर्डर से घुसपैठ कर सकें. लेकिन हर बार पाकिस्तान की नापाक कोशिश नाकाम हो जाती है.

आपको बता दें कि भारत ने जबसे जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने का फैसला लिया है, तभी से पाकिस्तान में बैठे आतंक के आका यहां घुसपैठ करने की कोशिश कर रहे हैं. कई बार भारत में घुसपैठ करने की कोशिश करने वाले आतंकियों को भारतीय जवानों ने मौत के घाट उतारा है. लेकिन पाकिस्तान है कि मानने का नाम नहीं ले रहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें