scorecardresearch
 

चार साल के ग्रेजुएशन प्रोग्राम की विरोधी टीचर बनी दिल्ली विवि शिक्षक संघ की अध्यक्ष

वाम संबद्ध डेमोक्रेटिक टीचर्स फ्रंट (डीटीएफ) की उम्मीदवार नंदिता नारायण दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक एसोसिएशन के अध्यक्ष पद का चुनाव जीत गई हैं. सेमेस्टर प्रणाली एवं चार वर्षीय स्नातक पाठ्यक्रम लागू करने की कटु आलोचक नंदिता को चुनाव में 2,705 वोट मिले.

दिल्ली विश्वविद्यालय दिल्ली विश्वविद्यालय

वाम संबद्ध डेमोक्रेटिक टीचर्स फ्रंट (डीटीएफ) की उम्मीदवार नंदिता नारायण दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक एसोसिएशन के अध्यक्ष पद का चुनाव जीत गई हैं. सेमेस्टर प्रणाली एवं चार वर्षीय स्नातक पाठ्यक्रम लागू करने की कटु आलोचक नंदिता को चुनाव में 2,705 वोट मिले.

सेंट स्टीफेंस में गणित की प्राध्यापिका ने देशबंधु कॉलेज के अपने करीबी प्रतिद्वंद्वी अश्विनी सरकार को 700 वोटों से हराया. सरकार को 1,909 वोट मिले. वह एएडी-इंटेक के उम्मीदवार थे.

डूटा के पूर्व सचिव एसडी सिद्दिकी ने बताया कि इस जीत ने दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति की गलत नीतियों के खिलाफ शिक्षकों के आंदोलन को उचित साबित कर दिया है. शिक्षकों ने बड़ी संख्या में चार वर्षीय पाठ्यक्रम के खिलाफ वोट दिया जिसे किसी परामर्श के बगैर लागू किया गया है.

इस चुनाव में किरोड़ीमल कॉलेज के प्रमोद सी शर्मा को 818 और सत्यवती कॉलेज की शीबा सी पांडा को 561 वोट मिले. विभिन्न शिक्षक संगठनों से कार्यकारिणी परिषद के 15 अन्य सदस्य भी चुने गए. इसके लिए 22 उम्मीदवार मैदान में थे.

परिषद अब उपाध्यक्ष, सचिव, संयुक्त सचिव और कोषाध्यक्ष का चयन अपने सदस्यों के बीच से करेगी. अध्यक्ष पद के लिए गुरुवार को वोट डाले गए थे. मतदान सुबह 10 बजे से शाम पांच बजे तक चला था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें