scorecardresearch
 

Delhi election: AAP के प्रवीण कुमार की लगातार दूसरी जीत, अब भी पंक्चर जोड़ते हैं पिता

प्रवीण कुमार के पिता भोपाल में अभी भी पंक्चर की दुकान चलाते हैं. इससे होने वाली कमाई से ही वह अपना खर्च निकालते हैं.

प्रवीण कुमार ने लगातार दूसरी बार जीत दर्ज की (फाइल फोटो) प्रवीण कुमार ने लगातार दूसरी बार जीत दर्ज की (फाइल फोटो)

  • जंगपुरा से लगातार दूसरी बार जीते प्रवीण कुमार
  • प्रवीण कुमार के पिता की है भोपाल में दुकान

दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी (आप) ने प्रचंड जीत हासिल की. 2015 के चुनाव में 67 सीटों पर कब्जा करने वाली आप ने 5 साल बाद हुए दिल्ली चुनाव में 62 सीटों पर कब्जा जमाया. इनमें से ज्यादातर सीटें ऐसी रहीं जहां पर आप ने लगातार दूसरी बार जीत हासिल की, उन्हीं में से एक जंगपुरा भी है. यहां से आप के प्रत्याशी प्रवीण कुमार ने कब्जा जमाया.

जंगपुरा विधानसभा से दूसरी बात जीत दर्ज करने वाले प्रवीण कुमार मूल रूप से भोपाल के रहने वाले हैं और यहीं से पढ़े-लिखे हैं. पढ़ाई पूरी करने के बाद प्रवीण दिल्ली चले गए थे और वहीं नौकरी करने लगे थे. प्रवीण कुमार की जिंदगी ने साल 2011 में तब मोड़ लिया जब वो अन्ना आंदोलन से जुड़े. साल 2011 के अप्रैल और फिर अगस्त में हुए अन्ना आंदोलन में प्रवीण कुमार ने बढ़-चढ़कर भाग लिया और उसके बाद जब अरविंद केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी की स्थापना की तो वो AAP से जुड़ गए.

ये भी पढ़ें- AAP vs BJP: सबसे छोटे सत्तारूढ़ दल से हार गई दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी

इसके बाद प्रवीण कुमार को 2015 में आम आदमी पार्टी ने जंगपुरा सीट से उम्मीदवार बनाया और चुनाव जीतकर प्रवीण कुमार विधायक बन गए. प्रवीण के पिता भोपाल में अभी भी पंक्चर की दुकान चलाते हैं और उससे होने वाली कमाई से ही अपना खर्च निकालते हैं. फिलहाल प्रवीण के माता-पिता दोनों दिल्ली में हैं जिनके रविवार बाद भोपाल वापस आने की संभावना है.

bhopal_021220122145.jpg

प्रवीण कुमार के पिता की है पंक्चर बनाने की दुकान

ये भी पढ़ें- जहां नीतीश-शाह ने की रैली, उसी सीट पर बना सबसे बड़े हार का रिकॉर्ड

मंगलवार को प्रवीण कुमार फिर से जीतकर दोबारा विधायक बने हैं. पहली बार विधायक बनने के बाद भी प्रवीण कुमार का सफर इतना आसान नहीं था. आम आदमी पार्टी के जिन विधायकों पर ऑफिस ऑफ प्रॉफिट का आरोप लगा था उनमें से प्रवीण कुमार भी एक थे. हालांकि लंबी चली कानूनी लड़ाई के बाद उनको राहत मिल गई थी.

छोड़ दी MNC में जॉब

प्रवीण कुमार को दिल्ली की एक मल्टीनेशनल कंपनी (MNC) में करीब 50 हजार रुपये महीने की नौकरी मिल गई. लेकिन फिर अन्ना के आंदोलन से वह इतने प्रभावित हुए कि नौकरी छोड़कर उसमें शामिल हो गए. आंदोलन खत्म हुआ तो वह अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी के साथ जुड़े. वह शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया के ओएसडी (ऑफिसर ऑन स्पेशल ड्यूटी) भी रह चुके हैं. उन्होंने स्कूल दाखिलों में डोनेशन रोकने के लिए अहम कदम उठाए. साथ ही नर्सरी एडमिशन में डोनेशन रोकने के लिए हेल्पलाइन नंबर लॉन्च करने में भी उनकी अहम भूमिका रही.

क्या रहे नतीजे

जंगपुरा असेंबली सीट पर आम आदमी पार्टी के प्रवीण कुमार ने जीत हासिल की. उन्होंने बीजेपी के इमप्रीत सिंह को 16063 मतों के अंतर से शिकस्त दी.  साल 2015 में हुए विधानसभा चुनाव में भी प्रवीण कुमार को जीत मिली थी. उन्होंने बीजेपी उम्मीदवार मनिंदर सिंह धीर को 20450 मतों से पराजित किया था. प्रवीण कुमार को जहां 43927 वोट मिले थे, वहीं बीजेपी उम्मीदवार मनिंदर सिंह धीर को 23477 वोट मिले थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें