scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: दिल्ली में बारिश के पानी में डूबी बस की एक साल पुरानी तस्वीर अभी की बताकर हो रही शेयर

सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल होने लगी जिसमें एक पु​ल के नीचे सड़क पर एक बस और एक मालवाहक टेंपो पानी में लगभग डूबे दिखाई दे रहे हैं. दावा किया जा रहा है कि ऐसा दिल्ली के मशहूर मिंटो रोड रेल ब्रिज के नीचे सड़क पर हुआ.

वायरल हो रही पुरानी तस्वीर वायरल हो रही पुरानी तस्वीर

उमस भरी गर्मी में मॉनसून का इंतजार करते दिल्ली-एनसीआर के लोगों को सोमवार को काफी राहत मिली, जब कई इलाकों में खूब झमाझम बारिश हुई. ये बारिश मंगलवार को भी जारी रही. इसी बीच सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल होने लगी जिसमें एक पु​ल के नीचे सड़क पर एक बस और एक मालवाहक टेंपो पानी में लगभग डूबे दिखाई दे रहे हैं. दावा किया जा रहा है कि ऐसा दिल्ली के मशहूर मिंटो रोड रेल ब्रिज के नीचे सड़क पर हुआ. कई यूजर्स तंज कर रहे हैं कि अब इसी के साथ दिल्ली में मॉनसून के आने की आधिकारिक घोषणा की जा सकती है.

एक ट्विटर यूजर ने इस तस्वीर के साथ लिखा, "मिंटो ब्रिज पर डीटीसी बस के पानी में डूबने की अनिवार्य घटना हो गई है!! अब यह आधिकारिक तौर पर घोषित किया जा सकता है कि दिल्ली में मानसून आ गया है। हैप्पी मॉनसून!"

इस पोस्ट से ऐसा संदेश देने की कोशिश की जा रही है कि सोमवार को हुई बारिश की वजह से जलजमाव हुआ जिसमें ये बस और मालवाहक टेंपो डूब गए.

इंडिया टुडे एंटी फेक न्यूज़ वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि तस्वीर के साथ किया जा रहा दावा आधा सच है. ये तस्वीर दिल्ली की ही है लेकिन अभी की नहीं बल्कि करीब एक साल पुरानी है जब 19 जुलाई 2020 को दिल्ली के मिंटो रोड रेल ब्रिज के नीचे एक डीटीसी बस और एक मिनी टेंपो बारिश के बाद हुए जलजमाव में फंस गए थे.

यह पोस्ट फेसबुक पर काफी वायरल है. वायरल पोस्ट के कुछ आर्काइव यहां, यहां और यहां देखे जा सकते हैं.

कैसे पता की सच्चाई?

भारतीय जनता युवा मोर्चा की पूर्व उपाध्यक्ष वैशाली पोद्दार ने भी वायरल तस्वीर पोस्ट करते हुए लिखा, "अब आधिकारिक तौर पर मानसून दिल्ली में". हालांकि कुछ घंटे बाद उन्होंने ये ट्वीट डिलीट कर दिया. उनके ट्वीट का आर्काइव वर्जन यहां देखा जा सकता है. एक ट्वीट के जवाब में उन्होंने ये जानकारी भी दी कि उन्होंने ट्वीट डिलीट कर दिया है.
 

हमें आम आदमी पार्टी से जुड़े एक वेरीफाएड ट्विटर हैंडल से किया गया ट्वीट मिला जिसमें कहा गया, "फेक न्यूज का भंडाफोड़, यह मिंटो ब्रिज पर जलजमाव की पुरानी फोटो है. दिल्ली के मिंटो ब्रिज पर फिलहाल पानी नहीं जमा है."

वायरल तस्वीर को रिवर्स सर्च करने पर हमें कई न्यूज रिपोर्ट्स मिलीं, जिनमें ये तस्वीर मौजूद है. 19 जुलाई 2020 को प्रकाशित हुई इन खबरों में बताया गया था कि जोरदार बारिश की वजह से दिल्ली के मिंटो ब्रिज के नीचे लगभग 8 से 10 फीट पानी भर गया था और इसमें एक डीटीसी बस, एक ऑटो और एक मिनी टेंपो फंस गया था. सूचना मिलने पर  दमकलकर्मियों ने डीटीसी बस चालक, कंडक्टर और ऑटो चालक को तो बचा लिया था, लेकिन मिनी मालवाहक टेंपो चालक की डूबने से मौत हो गई थी. खबरों में ये भी बताया गया कि उस वक्त बस में कोई सवारी मौजूद नहीं थी वरना बहुत बड़ी दुर्घटना हो सकती थी.

हालांकि, दिल्ली के मिंटो ब्रिज के नीचे हर साल बारिश में भारी जलजमाव देखने को मिलता है, लेकिन इस बारिश में अब तक ऐसा कुछ देखने को नहीं मिला है. इसे लेकर ANI न्यूज़ एजेंसी ने मंगलवार को एक वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा, "मिंटो रोड क्षेत्र में यातायात का सुचारु प्रवाह देखा गया. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में सुबह से ही बारिश हो रही है".

यहां हमारी पड़ताल में साबित हो जाता है कि इस बार अभी तक बारिश की वजह से दिल्ली के मिंटो रोड ब्रिज के नीचे कोई जलजमाव नहीं हुआ है. वायरल तस्वीर एक साल पुरानी है जिसे अभी का बताकर शेयर किया जा रहा है.

फैक्ट चेक

सोशल मीडिया यूजर्स

दावा

दिल्ली में शुरू हुई बारिश के बाद मिंटो ब्रिज के नीचे एक डीटीसी बस पानी में डूब गई.

निष्कर्ष

ये तस्वीर दिल्ली की ही है लेकिन जुलाई 2020 की है. इस बार की बारिश में अब तक दिल्ली के मिंटो रोड ब्रिज के नीचे न तो कोई जलजमाव हुआ है न ही कोई वाहन डूबा है.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
सोशल मीडिया यूजर्स
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें