scorecardresearch
 
एजुकेशन न्यूज़

CUET एग्जाम में कहां से पूछे जाएंगे सवाल, जानें- लास्ट मिनट तैयारी के ट‍िप्स

प्रतीकात्मक फोटो (Getty)
  • 1/7

CUTE 2022: कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट यानी कि सीयूईटी परीक्षा 15, 16, 19, 20 जुलाई और 4, 5, 6, 7, 8, और 10 अगस्त को आयोजित की जाएगी. नेशनल एजुकेशन पॉलिसी के तहत पहली बार ये प्रावधान किया गया है कि देश के विश्वविद्यालयों में यूजी एडमिशन के लिए सीयूईटी का स्कोर काउंट होगा. जानिए CUET 2022 परीक्षा में कहां से सवाल पूछे जाएंगे और इस परीक्षा को पहली बार में क्रैक करने के लिए यहां कुछ लास्ट मिनट टिप्स दिए गए हैं, पढ़ें

प्रतीकात्मक फोटो (Getty)
  • 2/7

पिछले सालों तक हाई कटऑफ के चलते 12वीं के बाद ड्रीम कॉलेजेज में दाख‍िला एक सपने जैसा था. अब सीयूईटी एग्जाम से ये कॉलेज भी छात्रों की पहुंच में आ सकेंगे. इसके साथ ही केंद्रीय विश्वविद्यालयों और उनके कॉलेजों में प्रवेश के लिए यूजीसी द्वारा बोर्ड के अंकों को "नो वेटेज" का नियम लागू क‍िया है. इसलिए टॉपर छात्रों के पास भी सीयूईटी इकलौता विकल्प बचा है. इसलिए जरूरी है कि इस परीक्षा के पैटर्न, सिलेबस आदि के बारे में सटीक जानकारी हो.

प्रतीकात्मक फोटो (Getty)
  • 3/7

सिलेबस समझकर विषयों को दोहराएं

सीबीएसई की गवर्निंग बॉडी की सदस्य ज्योति शर्मा ने aajtak.in से बातचीत में कहा कि एनटीए की ओर से अब तक कराए गए ओरिएंटेशन काफी मददगार साबित हुए हैं. छात्रों के साथ साथ टीचर्स ने भी जाना है कि ये परीक्षा किस तरह होगी. 
इसके बाद तैयारी के लिए अगला कदम यह है कि सीयूईटी द्वारा पेश किए जाने वाले प्रत्येक विषय के लिए पाठ्यक्रम क्या है, इसका उचित ज्ञान होना चाहिए. इससे विषय के लिए विशिष्ट सामग्री की को समझने में मदद मिलेगी. इससे छात्रों को उन विषयों को फ़िल्टर करने में मदद मिलेगी, जिन्हें उन्हें कवर करने की आवश्यकता है. इन विषयों के आधार पर प्राथमिकता सूची बना लें तो तैयारी आसान हो जाएगी. 

प्रतीकात्मक फोटो (Getty)
  • 4/7

एग्जाम की डेप्थ समझें

किन विषयों की आपको किस तरह तैयारी करनी है, इसके बारे में खुद का नजरिया स्पष्ट रखें. CUET 2022 एग्जाम को पहले अटेम्प्ट में क्लीयर करने के लिए सबसे पहले जरूरी है, इस एग्जाम की डेप्थ को जानना. इसके लिए आप ऑफिश‍ियल वेबसाइट पर दिए गए मॉक टेस्ट और यूनिवर्सिटीज के लिंक से जानकारी हासिल कर सकते हैं. इसमें हर कोर्स के लिए कॉलेज की रिक्वायरमेंट के आधार पर सिलेबस दिया है. वहीं एनटीए ने ये भी क्लीयर किया है कि इस एग्जाम में एनसीईआरटी की किताबों से सवाल पूछे जाएंगे. आप कोर्स और कॉलेज रिक्वायरमेंट को देखकर ही तैयारी करें. 

प्रतीकात्मक फोटो (Getty)
  • 5/7

प्रासंग‍िक स्टडी मैट‍िरियल जुटाएं 

 एक बार जब छात्रों को उन विषयों के बारे में पता चल जाता है, जिन्हें उन्हें अध्ययन करने की आवश्यकता होती है, तो अगली बड़ी जरूरत "अच्छी गुणवत्ता और व्यापक अध्ययन सामग्री" मिलनी होती है. सबसे अच्छी किताबें वे हैं जो पूरे पाठ्यक्रम को विस्तार से कवर करती हैं क्योंकि इससे उन्हें समय बचाने में मदद मिलेगी और उन्हें विभिन्न पुस्तकों से अध्ययन करने की आवश्यकता नहीं होगी. गहन ज्ञान और अवधारणाओं की समझ के लिए एनसीईआरटी की किताबों से तैयारी करने से सीयूईटी परीक्षा में मदद मिलेगी. एमसीक्यू प्रारूप परीक्षा के लिए अवधारणा स्पष्ट करना भी बहुत जरूरी है. 

प्रतीकात्मक फोटो (Getty)
  • 6/7

सेक्शन वाइज तैयारी करें 

CUET परीक्षा को 3 अलग-अलग सेक्शन में विभाजित किया गया है: सेक्शन 1 में भाषा, सेक्शन 2: डोमेन-स्पेसिफिक और सेक्शन 3: जनरल एबिलिटी टेस्ट है. इसके प्रत्येक सेक्शन की तैयारी स्पेसिफिक जरूरत के आधार पर होनी चाहिए. 

सेक्शन 1: लैंग्वेज सेक्शन में छात्र द्वारा चुनी गई भाषा की पूरी समझ होना और व्याकरण का संपूर्ण ज्ञान होना आवश्यक है. रीडिंग कंप्रेहेंसन स्क‍िल्स विकसित करने पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए. 

सेक्शन 2: डोमेन-स्पेसिफिक सब्जेक्ट और सेलेक्टेड सब्जेक्ट और चयनित विषय के पाठ्यक्रम का पहले पूरी तरह से विश्लेषण करना होगा. उसके बाद, तैयारी के लिए एनसीईआरटी की पुस्तकों का रेफरेंस दिया जाना चाहिए क्योंकि वे एक मजबूत आधार बनाने में मदद करेंगी. इसके अलावा, छात्रों को अपने स्वयं के नोट्स से अधिक से अधिक MCQ प्रश्नों का अभ्यास करना चाहिए. 

(जारी....)

 

प्रतीकात्मक फोटो (Getty)
  • 7/7

सेक्शन 3:जनरल एबिलिटी टेस्ट अभ्यर्थी की सामान्य योग्यता का मापदंड है जिसमें 4 फील्ड शामिल हैं: मात्रात्मक योग्यता, तार्किक तर्क, सामान्य जागरूकता और करंट अफेयर्स. क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड के लिए छात्र को अंकगणित की तैयारी कक्षा 8वीं के स्तर से शुरू करनी चाहिए और एक निश्चित समय सीमा में योगों को हल करके अपनी गति पर काम करना चाहिए. मूल बातें और सूत्रों में स्पष्टता प्राथमिक है. दैनिक समाचार पत्र पढ़ने से सामान्य जागरूकता में मदद मिलेगी. इसमें मदद के लिए विशेषज्ञों द्वारा तैयार सैंपल पेपर की मदद भी ली जा सकती है.