scorecardresearch
 
एजुकेशन न्यूज़

कोरोना: थर्ड वेव से बच्‍चों को बचाएं, एक्‍सपर्ट से जानें क्‍या चीजें करेंगी मदद

प्रतीकात्‍मक फोटो (Getty)
  • 1/12

भारत में कोरोना की दूसरी लहर के बाद तीसरी लहर की आहट ने बहुत से लोगों की नींद उड़ा दी है. इसके पीछे डराने वाली वजह ये बताई जा रही है क‍ि थर्ड वेव में बच्‍चे भी कोरोना के नये वेरिएंट का शिकार हो सकते हैं. सरकार ने अभी बच्‍चों के लिए क‍िसी भी तरह के वैक्‍सीनेशन की व्‍यवस्‍था नहीं की है, ऐसे में पेरेंट्स बच्‍चों को शारीरिक और मानसिक रूप से फिट रख सकते हैं. आइए पोषण विज्ञानी से जानें कि बच्‍चों को इस लहर से बचाने के लिए उनके इम्‍यून सिस्‍टम को कैसे मेंटेन करें.

Shivani Sikri, Chief Nutritionist
  • 2/12

Nutri4Verve की को फाउंडर व चीफ न्‍यूट्र‍िश‍ियनिस्‍ट श‍िवानी सिकरी कहती हैं क‍ि बच्‍चों को कोरोना संक्रमण से बचने के लिए पहले से तैयार करना जरूरी है. इसके लिए वो 10 महत्‍वपूर्ण टिप्‍स दे रही हैं. उनका कहना है कि इसमें सबसे ज्‍यादा संतुलित आहार महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. इन दिनों बच्चे हमेशा अपने डिजिटल दुनिया में तल्लीन रहते हैं और वे हमेशा जंक और फास्ट फूड खाने को पसंद करते हैं. यह ख़तरनाक है.

प्रतीकात्‍मक फोटो (Getty)
  • 3/12

पोषण संबंधी कमियों ने बच्‍चों में विभिन्न प्रकार के वायरस और बैक्टीरिया के लिए अतिसंवेदनशील बना दिया है और कोविड और भी घातक है, इसलिए माता-पिता को यह सुनिश्चित करना होगा कि वे सभी आवश्यक पोषक तत्व प्राप्त कर रहे हैं. सुनिश्चित करें कि वे प्रत्येक भोजन में स्वस्थ और पौष्टिक खाना खा रहे हैं जैसे अंडे, मछली, दाल, बीन्स, मल्टीग्रेन आटा, नट्स जैसे बादाम अखरोट , बीज जैसे अलसी , पम्पकिन सीड, सूरजमुखी के सीड्स आदि.

प्रतीकात्‍मक फोटो (Getty)
  • 4/12

विटामिन C रिच फ़ूड के सेवन करने से इम्यूनिटी बढ़ती है. विटामिन सी, या एस्कॉर्बिक एसिड, एक पानी में घुलनशील विटामिन है जो स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली के समर्थन में अपनी भूमिका के लिए जाना जाता है क्योंकि आपका शरीर विटामिन सी नहीं बना सकता है. यह उन खाद्य पदार्थों से आना चाहिए जो आप हर दिन खाते हैं. बच्चों को प्रतिदिन विटामिन C वाले खट्टे फल जैसे संतरा, मौसमी, आमला, आम, अनानास, कीवी आदि और टमाटर, आलू, स्ट्रॉबेरी, हरी और लाल पीली शिमला मिर्च, ब्रोकोली, ब्रसेल्स स्प्राउट्स ज़रूर दें. 

प्रतीकात्‍मक फोटो (Getty)
  • 5/12

बच्चों को जिंक (जस्ता) भी खिलाएं: जिंक (जस्ता) उन पोषक तत्वों में से एक है जो हमारे शरीर के कार्यों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. प्रतिरक्षा को बढ़ाने से लेकर प्रोटीन के संश्लेषण, एंजाइमिक रिएक्शन और विकास में जिंक, हमारे लिए महत्वपूर्ण है. जिंक-मांस, बीज, नट्स, साबुत अनाज, छोले, आदि सहित प्राकृतिक रूप से पौधों और खाद्य पदार्थों में पाया जाता है.  जिंक अंदरूनी घावों को भरने में तेजी लाता है.

प्रतीकात्‍मक फोटो (Getty)
  • 6/12

बच्चों के लिए हल्दी जरूरी: हल्दी में एक बहुत ही महत्वपूर्ण घटक होता है जिसे करक्‍यूमिन कहा जाता है. यह प्रतिरक्षा (इम्युनिटी) को बढ़ाने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. करक्यूमिन एक एंटी-इंफ्लेमेटरी एजेंट के रूप में काम करता है और इसमें एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-वायरल गुण पाए जाते हैं. COVID के संक्रमण से शरीर में इंफ्लेमेशन बहुत तेज़ी से बढ़ती है. इसलिए शरीर में पहले से ही इंफ्लमेशन नहीं होनी चाहिए. इसके लिए बच्चों को हल्दी दें. इसे गर्म हल्दी दूध के रूप में दिया जा सकता है. यह छाती की कंजेस्शन को दूर करने में भी मदद करता है.

प्रतीकात्‍मक फोटो (Getty)
  • 7/12

बच्चों के पेट के स्वास्थ्य ( गट हेल्थ ) का ध्यान रखें: माता-पिता के रूप में हमें उनके वॉशरूम व्यवहार का अवलोकन करना चाहिए. इसके अलावा उनके आहार में पूर्व और प्रो-बायोटिक्स दें. प्रोबायोटिक्स जीवित सूक्ष्मजीव हैं और इन्हें किफिर, सोया, दही, बीट आदि किण्वित खाद्य पदार्थों में पाया जा सकता है, यह आंत में अच्छे बैक्टीरिया को बढ़ाता है. एक महत्वपूर्ण तथ्य है कि हमारी इम्यूनिटी हमारी आंतों में निहित है। हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि COVID  के कुछ पहले संकेत डायरिया है, इसलिए बच्चों की गट हेल्थ और आंत को नजरअंदाज न करें.

प्रतीकात्‍मक फोटो (Getty)
  • 8/12

बच्चों को अधिक फल और सब्जियां परोसें. फल और सब्ज़ियां जैसे  गाजर, हरी फलियां, संतरा, स्ट्रॉबेरी  में Phytonutrients होते हैं जो वायरस संक्रमण से लड़ने वाले सफेद रक्त कोशिकाओं और इंटरफेरॉन के शरीर के उत्पादन में वृद्धि कर सकते हैं. अध्ययनों से पता चलता है कि फाइटोन्यूट्रीएंट्स से भरपूर आहार वयस्कता में कैंसर और हृदय रोग जैसी पुरानी बीमारियों से भी बचा सकता है. अपने बच्चों को एक दिन में 4 - 5 सर्विंग फल और सब्ज़ियां खिलाने की कोशिश करें.

प्रतीकात्‍मक फोटो (Getty)
  • 9/12

बच्चों का तनाव (स्ट्रेस) का स्तर कम रखें :  तनाव न केवल बुजुर्गों को बल्कि बच्चों को भी प्रभावित करता है. आपको अपने और अपने बच्चों के तनाव के स्तर को कम करने का अभ्यास साल भर करना चाहिए. COVID वायरस के प्रकोप से लड़ने के लिए यह विशेष रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि तनाव ( स्ट्रेस) सीधे आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करता है. बच्चों को ध्यान, व्यायाम और नियंत्रित सांस लेने की कनीक सिखाएं और हंस-खेलकर उनका मनोरंजन करें. मोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स से बच्चों को दूर रखें.

प्रतीकात्‍मक फोटो (Getty)
  • 10/12

इस दौरान बच्चों के सोने के पैटर्न में जबरदस्त परिवर्तन आया है, क्योंकि वे घर पर हैं, वे किसी भी सख्त अनुसूची का पालन नहीं कर रहे हैं. ऐसे में बच्चों को एक अच्छी 8-10 घंटे की नियमित नींद लेना महत्वपूर्ण है, क्योंकि अच्छी नींद हमें अंदर से रोगमुक्त बनाती है और इम्युनिटी बढ़ाने में मदद भी. अपने बच्चों के लिए एक दिनचर्या निर्धारित करें, वे उसका अनुसरण करेंगे और सही समय पर नींद का चक्र (स्लीप साइकिल) पूरा करें.

प्रतीकात्‍मक फोटो
  • 11/12

आवश्यक तेलों (एसेंशियल ऑयल) का उपयोग : आवश्यक तेलों का  लंबे समय से उनके मजबूत एंटीवायरल गुणों के लिए उपयोग किया जाता है. तेल जैसे दालचीनी की छाल, लौंग, युकलिप्टुस , नींबू (अधिक विशेष रूप से, नींबू बाम/  ग्रास ), रोजमैरी, bergamot, ग्रीन चाय का पौधा आदि एसेंशियल ऑयल्स फ्लू और अन्य वायरस को रोकने में मदद कर सकते हैं. इन आवश्यक तेलों के अधिकतम एंटीवायरल और प्रतिरक्षा-बढ़ाने वाले गुणों का दोहन करने के लिए, आप अपने पसंदीदा मिश्रण को अपने घर और बच्चों के कमरे में फैला सकते हैं.

प्रतीकात्‍मक फोटो (Getty)
  • 12/12

सुनिश्चित करें कि आपके छोटे बच्चों के सभी टीकाकरण ठीक से कराए हुए हैं. बच्चों को खसरा और फ्लू जैसी बीमारियों से बचाएं. जिन बच्चों को एक से अधिक संक्रमण होता है, उन्हें COVID में मुश्किल समय आ सकता है. इसके अलावा घर में बच्‍चों को ऐसे लोगों से दूर रखें जो बाहर जा रहे हैं. किसी कोरोना पॉजिटिव व्‍यक्‍त‍ि के संपर्क में आने पर या किसी तरह के सिंप्‍टम होने पर आप घर में आइसोलेशन में रहें. बच्‍चों को खुद से दूर रखें.