scorecardresearch
 

मुखर्जी नगर पिटाई मामले में नया खुलासा, सभी पुलिसकर्मी हाल ही में हुए थे भर्ती

मुखर्जी नगर पिटाई मामले की जांच में पाया गया है कि जिन आठ पुलिसकर्मियों से सरबजीत की मारपीट हुई थी वो दिल्ली पुलिस में तीन महीने पहले ही भर्ती हुए थे. जिन्होंने ड्राइवर सरबजीत की लाठी से पिटाई की थी.

मुखर्जी नगर पिटाई मामला मुखर्जी नगर पिटाई मामला

दिल्ली के मुखर्जी नगर में ऑटो ड्राइवर सरबजीत व बेटे की पिटाई मामले में एक नया खुलासा हुआ है. दरअसल, जांच में पता चला है कि वीडियो में दिख रहे आठों पुलिसकर्मियों की ज्वॉइनिंग तीन महीने पहले ही हुई थी.

जांच में पाया गया है कि जिन आठ पुलिसकर्मियों से सरबजीत की मारपीट हुई थी वो दिल्ली पुलिस में तीन महीने पहले ही भर्ती हुए थे. जिन्होंने ड्राइवर सरबजीत की लाठी से पिटाई की थी, जिसके बाद एएसआई को निलंबित कर दिया गया था. यह पुलिसकर्मी ट्रेनिंग के तहत मुखर्जी नगर थाने आए थे .

इस सिलसिले में दो एफआईआर दर्ज हुई है और यह क्रॉस केस है. एक में शिकायतकर्ता सरबजीत हैं, तो वहीं दूसरे में शिकायतकर्ता आरोपी हैं. क्राइम ब्रांच अब इस मामले की तह तक जाने की कोशिश में जुटी है. बता दें कि तीन पुलिसकर्मियों को पहले ही सस्पेंड किया जा चुका है. साथ ही ड्राइवर के सिख समुदाय से होने के कारण इस मामले ने राजनैतिक रूप भी ले लिया है और विभिन्न दलों ने अपनी चुनावी रोटियां सेंकनी शुरू कर दी हैं.

हालांकि, पुलिस की जांच में यह भी पता लगा है कि सरबजीत का पहले से आपराधिक बैकग्राउंड रहा है और उसने पहले भी कई बार मारपीट की है. 2006 से अब तक उन पर तीन बार मारपीट के केस दर्ज हुए हैं. सरबजीत सिंह पर इसी साल अप्रैल में गुरुद्वारा बंगला साहिब के एक सेवादार ने मारपीट का मामला दर्ज कराया था.

बता दें कि रविवार को सरबजीत ने पुलिसकर्मियों पर कृपाण से हमला किया था, जिसके बाद पुलिसवालों ने उसे और उसके बेटे की पिटाई की थी. घटना का विडियो वायरल होने के बाद सिख समुदाय के लोगों ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें