scorecardresearch
 
बिजनेस

बचाना है 2 लाख का नुकसान तो 31 मई तक बैंक खाते में रखें इतनी राशि

बचाना है 2 लाख का नुकसान तो 31 मई तक बैंक खाते में रखें इतनी राशि
  • 1/6
आमतौर पर देखा गया है कि नौकरीपेशा लोग अपने बैंक खाते को खाली ही रखते हैं. अगर आपकी भी यही आदत है तो कम से कम 31 मई तक के लिए इस आदत को छोड़ दें. अगर आपने ऐसा नहीं किया तो आपको 2 लाख रुपये का नुकसान हो सकता है. आइए जानते हैं कि कैसे आप इस आदत को बदल कर 2 लाख रुपये बचा सकते हैं.    
बचाना है 2 लाख का नुकसान तो 31 मई तक बैंक खाते में रखें इतनी राशि
  • 2/6
दरअसल, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना (PMSBY) का सालाना प्रीमियम 31 मई को कटने वाला है. बैंकों ने इस संबंध में अपने ग्राहकों को मैसेज भी भेजना शुरू कर दिया है. यह ध्यान रखें कि अगर आपके बैंक अकाउंट में बैलेंस नहीं है तो आप सरकार की बीमा पॉलिसी का लाभ नहीं उठा सकते. बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी ने सुरक्षा बीमा योजना की शुरुआत की थी.
बचाना है 2 लाख का नुकसान तो 31 मई तक बैंक खाते में रखें इतनी राशि
  • 3/6
क्‍या है बीमा पॉलिसी
PMSBY बीमा पॉलिसी में सालाना सिर्फ 12 रुपये कटता है. बीमा खरीदने वाले ग्राहक की एक्सीडेंट में मृत्यु होने पर या विकलांग होने की स्थिति में 2 लाख रुपये की रकम उसके आश्रित को दी जाती है. अगर बीमा खरीदने वाला व्यक्ति विकलांग हो जाता है तो उसे 1 लाख रुपये की रकम मिलती है. वहीं शर्तों की बात करें तो प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना का लाभ उन्‍हें ही मिलेगा जिनकी 18-70 साल तक की उम्र है.
बचाना है 2 लाख का नुकसान तो 31 मई तक बैंक खाते में रखें इतनी राशि
  • 4/6
कैसे कटता है पैसा
पॉलिसी खरीदते वक्त ही बैंक खाते को प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना से लिंक कराया जाता है. पॉलिसी का प्रीमियम भी सीधे बैंक अकाउंट से काटा जाता है.
बचाना है 2 लाख का नुकसान तो 31 मई तक बैंक खाते में रखें इतनी राशि
  • 5/6
यहां यह भी ध्यान रखना जरूरी है कि मई के आखिर में अगर बैंक अकाउंट में बैलेंस नहीं है तो पॉलिसी रद्द हो जाएगी. इसके बाद प्रीमियम जमा नहीं करने पर दोबारा रिन्यू नहीं होगा.
बचाना है 2 लाख का नुकसान तो 31 मई तक बैंक खाते में रखें इतनी राशि
  • 6/6
स्‍कीम के बारे में अधिक जानकारी के लिए http://www.jansuraksha.gov.in/Files/PMSBY/English/About-PMSBY.pdf पर विजिट कर सकते हैं. इसके अलावा टोल फ्री नंबर 1800-180-1111 / 1800-110-001 पर कॉल कर सकते हैं.