scorecardresearch
 

Full Map of Moon: ये है चांद का पूरा नक्शा... हर गड्ढा, क्रेटर, इलाका और पहाड़ सब है इसमें

Geological Map of Moon: चीन के वैज्ञानिकों ने चांद का सबसे डिटेल मैप बनाया है. इसमें चांद पर मौजूद हर गड्ढा, क्रेटर, पहाड़ सबकुछ दिखाया गया है. यह दुनिया में मौजूद चंद्रमा का सबसे विस्तृत और बारीक नक्शा है. इससे पहले अमेरिका ने ऐसा नक्शा बनाया था लेकिन चीन का उससे बेहतर माना जा रहा है.

X
Geological Map of Moon Geological Map of Moon
स्टोरी हाइलाइट्स
  • चीन की स्पेस एजेंसी ने बनाया
  • चंद्रमा का सबसे डिटेल नक्शा

आपने धरती का नक्शा बहुत देखा होगा. लेकिन कभी चांद का डिटेल मैप देखा है. चीन की स्पेस एजेंसी CSNA ने चंद्रमा का सबसे विस्तृत नक्शा तैयार किया है. इस नक्शे में चांद के सभी क्रेटर्स और आकृतियों को शामिल किया गया है. वह भी उनकी सटीक लोकेशन के साथ. इस नक्शे की मदद से वैज्ञानिक भविष्य में चांद की स्टडी बेहतर तरीके से कर पाएंगे. चांद पर जाने वाले अंतरिक्षयात्रियों, रोवर्स और लैंडर्स को पड़ोसी उपग्रह की सतह पर उतारने में भी मदद मिलेगी. 

इससे पहले अमेरिकी जियोलॉजिकल सर्वे (USGS) के एस्ट्रोजियोलॉजी साइंस सेंटर ने साल 2020 में चांद का नक्शा बनाया था. उस समय उस नक्शे को सबसे डिटेल्ड मैप कहा जा रहा था. इस काम में अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी NASA और लूनर प्लैनेटरी इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिकों ने मदद की थी. इसका स्केल 1:5000000 था. 

ये है चांद का पूरा नक्शा जिसे चीन के वैज्ञानिकों ने बनाया है. (फोटोः CNSPACE)
ये है चांद का पूरा नक्शा जिसे चीन के वैज्ञानिकों ने बनाया है. (फोटोः CNSPACE)

अमेरिकी नक्शे से दोगुना बेहतर है चीन के चांद का नक्शा

चीन ने चांद का जो नक्शा तैयार किया है, उसका स्केल 1:2500000 है. यानी चांद के अमेरिकी नक्शे से दोगुना बेहतर. चीन द्वारा बनाए गए नक्शे में 12,341 इम्पैक्ट क्रेटर्स यानी वो गड्ढे जो एस्टेरॉयड या उल्कापिंडों की टक्कर से बने हैं. 81 इम्पैक्ट बेसिन, 17 प्रकार के पत्थरों और 14 प्रकार की संरचनाओं को दिखाया गया है. इसके अलावा काफी ज्यादा मात्रा में भौगोलिक डिटेल्स दी गई हैं. जो ये बताते हैं कि चांद की शुरुआत कैसे हुई. यहां क्लिक करें और देखें चांद का पूरा डिटेल मैप.

कई वैज्ञानिक संस्थानों ने मिलकर बनाया हाईरेजोल्यूशन मैप

चीन की अंतरिक्ष एजेंसी के साथ कई और वैज्ञानिक संस्थाओं ने मिलकर इस हाई रेजोल्यूशन टोपोग्राफिक नक्शे को तैयार किया है. ये नक्शा चीन के चांगई प्रोजेक्ट समेत कई अन्य अंतरराष्ट्रीय संस्थानों से लिए गए डेटा से मिलाकर बनाया गया है. इस नक्शे को बनाने की शुरुआत चाइनीज एकेडमी ऑफ साइंसेस के इंस्टीट्यूट ऑफ जियोकेमिस्ट्री ने बनाया है. पिछले एक दशक में चीन ने चंद्रमा पर कई मिशन भेजे हैं. 

एक दशक में चांद पर कई मिशन भेज चुका है चीन, मिट्टी भी लाया

जनवरी 2019 में चीन ने चांगई-4 (Chang'e-4) प्रोब भेजा था. जो चांद के अंधेरे वाले इलाके के पास उतरा था. यह पहला स्पेसक्राफ्ट था, जिसने चांद के इस हिस्से में लैंडिंग की थी. चांद का यह हिस्सा कभी भी धरती से दिखाई नहीं देता. इसके बाद दिसंबर 2020 में चीन चांगई-5 (Chang'e-5) मिशन भेजा. जो चांद से मिट्टी और पत्थर लेकर धरती पर लौटा. इसके अलावा चांद पर जहां चांगई-5 ने लैंडिंग की थी, उसके आसपास के 8 फीचर्स को चीनी वैज्ञानिकों का नाम दिया गया है.  

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें