scorecardresearch
 

'तिरछी आंखें-ज्यादा मेकअप..' Mercedes-Benz के ऐड में मॉडल के लुक पर क्यों मचा बवाल!

Mercedes Benz Ad Controversy: 'तिरछी आंख' वाले लुक में दिख रही मॉडल को लेकर चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के 'मुखपत्र' ग्लोबल टाइम्स अखबार ने कहा कि इसको लेकर उनके यहां रोष है. क्योंकि 'मॉडल का मेकअप एशियाई लोगों के बारे में पश्चिम की रूढ़ियों को दर्शाता है.'

X
Mercedes-Benz/Weibo Mercedes-Benz/Weibo
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मर्सिडीज-बेंज के विज्ञापन पर बवाल
  • चीन ने जताई आपत्ति
  • कंपनी ने वीडियो हटाया

लग्जरी वाहन निर्माता कंपनी (Luxury Vehicles Company) मर्सिडीज-बेंज (Mercedes-Benz) के एक विज्ञापन को लेकर चीन ने आपत्ति जताई है. विज्ञापन को चीनी सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म Weibo पर दिखाया गया था, जिसके बाद मॉडल (China Model) के लुक को लेकर ऐतराज जताया गया. 

'तिरछी आंख' वाले लुक में दिख रही मॉडल को लेकर चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के 'मुखपत्र' ग्लोबल टाइम्स अखबार ने कहा कि इसको लेकर उनके यहां रोष है. क्योंकि 'मॉडल का मेकअप एशियाई लोगों के बारे में पश्चिम की रूढ़ियों को दर्शाता है.'

सोशल मीडिया से हटाया गया विज्ञापन 

इस आपत्ति के बाद Mercedes-Benz के विज्ञापन के वीडियो को Weibo एप से हटा लिया गया. कथित तौर पर 'तिरछी आंखें और ज्यादा मेकअप' वाली मॉडल के विज्ञापन ने विदेशी फर्मों द्वारा एशियाई लोगों के चित्रण पर बहस शुरू कर दी है.  
 
ग्लोबल टाइम्स के अनुसार, मर्सिडीज-बेंज का वीडियो विज्ञापन 25 दिसंबर को Weibo अकाउंट पर पोस्ट किया गया था. जिसमें महिला मॉडल की झुकी/तिरछी आंखों और मेकअप को नेटिज़न्स द्वारा एशियाई लोगों के बारे में सही नहीं माना गया. इस विवाद के बाद, वीडियो को मर्सिडीज के वीबो अकाउंट से हटा दिया गया.

पहले भी विज्ञापन पर हो चुका है विवाद

इससे पहले चाइनीज स्नैक्स रिटेलर थ्री स्क्वॉयरल्स (Three Squirrels) भी अपने विज्ञापन को लेकर विवादों में घिर गया था, जिसमें छोटी और संकरी आंखों वाले मॉडल को दिखाया गया था. बाद में उस विज्ञापन को भी हटा दिया गया था.

तब ग्लोबल टाइम्स ने मॉडल के हवाले से लिखा- "मैं इस तरह (छोटी) की आंखों के साथ ही पैदा हुआ. क्या इसका मतलब यह है कि मुझे एक मॉडल नहीं होना चाहिए क्योंकि मैं छोटी आंखों के साथ पैदा हुआ था?. 
 
हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब किसी विज्ञापन ने चीनी नागरिकों को नाराज किया है. 2018 में, इतालवी लक्ज़री फ़ैशन ब्रांड Dolce & Gabbana ने अपने विज्ञापन में एशियाई महिलाओं को चॉपस्टिक के साथ स्पेगेटी, पिज्जा और कैनोली खाने की कोशिश करते हुए दिखाया गया था. इसे पोस्ट करने के केवल 24 घंटों में कंपनी ने आलोचनाओं के बाद क्लिप हटा दी थी. 

इसी तरह नवंबर में, लक्जरी फैशन हाउस डायर (Dior) को भी 'एशियाई महिलाओं की रूढ़िवादी धारणाओं' के लिए आलोचना मिली थी. फोटोग्राफर ने विज्ञान के फोटोज के लिए माफी भी जारी की थी.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें