scorecardresearch
 

NASA's Spacesuit: अब रेंट पर मिलेगा स्पेससूट, नासा ने इन दो कंपनियों से की डील

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) अब स्पेससूट बनाएगी या खरीदेगी नहीं. वह इसे रेंट पर लेगी यानी किराए पर. इसके लिए उसने दो कंपनियों के साथ समझौता किया है. आइए जानते हैं कि आखिर इससे नासा को किस तरह का फायदा होगा.

X
NASA's Spacesuit: 27 हजार करोड़ रुपये की डील हुई है दोनों कंपनियों के साथ. (फोटोः नासा) NASA's Spacesuit: 27 हजार करोड़ रुपये की डील हुई है दोनों कंपनियों के साथ. (फोटोः नासा)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मूनवॉक और स्पेस वॉक में एस्ट्रोनॉट्स को होगी आसानी
  • Axiom स्पेस-कोलिंस एयरोस्पेस से किया गया समझौता

NASA ने अमेरिकी स्पेस कंपनी एक्सिओम स्पेस (Axiom Space) और कोलिंस एयरोस्पेस (Collins Aerospace) को एडवांस स्पेसवॉक और मूनवॉक करने के लिए टेक्नोलॉजी साझेदारी का समझौता किया है. यानी अब ये दोनों कंपनियां नासा के एस्ट्रोनॉट्स को अंतरिक्ष में चहलकदमी और चांद की सतह पर चलने के लिए अत्याधुनिक स्पेस सूट बनाकर किराए पर देंगे. इसी सूट को पहनकर एस्ट्रोनॉट्स अर्टेमिस मिशन (Artemis Mission) में जाएंगे. साथ ही मंगल ग्रह पर इंसानों को इसी स्पेससूट में भेजा जाएगा. 

नासा इन स्पेससूट्स को एक्स्प्लोरेशन एक्स्ट्राव्हीकुलर एक्टीविटी सर्विसेस (xEVAS) प्रोजेक्ट के तहत इन कंपनियों से लेगी. इसके अलावा एक्सिओम स्पेस और कोलिंस एयरोस्पेस चाहे तो वो नासा के अलावा अन्य नॉन-कॉमर्शियल कंपनियों के साथ भी समझौते कर सकते हैं. इसके लिए नासा उन्हें बाध्य नहीं कर सकता. नासा एक्सिओम और कोलिंस से 2034 तक स्पेसवॉक और मूनवॉक के लिए स्पेससूट किराए पर लेती रहेगी. 

कुछ इस तरह का स्पेससूट जिसे एक्सिओम स्पेस और कोलिंस एयरोस्पेस ने बनाया है. (फोटोः NASA)
कुछ इस तरह का स्पेससूट जिसे एक्सिओम स्पेस और कोलिंस एयरोस्पेस ने बनाया है. (फोटोः NASA)

माना जा रहा है कि इस समझौते की कीमत 3.5 बिलियन डॉलर्स है यानी 27,151 करोड़ रुपये. नासा इसके अलावा बाकी सारे काम खुद करेगी. ये सबको पता है कि नासा ने अर्टेमिस प्रोजेक्ट के लिए स्पेसएक्स (SpaceX) के साथ भी समझौता किया है. उसे लैंडर और कैप्सूल बनाने का काम दिया गया है. ताकि चांद और मंगल पर इंसानों को आसानी से भेजा जा सके. स्पेसएक्स इस समय उसके लिए रॉकेट भी बना रहा है. 

नासा अर्टेमिस कैंपेन डेवलपमेंट डिविजन के डिप्टी एसोसिएट एडमिनिस्ट्रेटर मार्क किराशिस ने कहा कि निजी कंपनियों के साथ हमारे समझौते इंसानी मिशनों को पूरा करने के लिए है. हम अपने अर्टेमिस प्रोजेक्ट को सही से पूरा करना चाहते हैं. हम चाहते हैं कि हमारे एस्ट्रोनॉट्स चांद और मंगल ग्रह दोनों पर सुरक्षित रहें. इसके लिए कई तरह की निजी कंपनियों के साथ मिलकर इस प्रोजेक्ट को पूरा किया जा रहा है. हम सिर्फ स्पेससूट लेंगे. इनकी मरम्मत और जांच-पड़ताल का काम इन दोनों कंपनियों का ही होगा. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें